कमजोर दिखने में ही मनमोहन का फायदा है!

E-mail Print PDF

: सीएनईबी के कार्यक्रम 'जनता मांगे जवाब' में वक्‍ताओं की राय : प्रधानमंत्री को जनता के साथ संवाद रखना चाहिए। अगर किसी प्रधानमंत्री को यह कहना पड़े कि मैं कमजोर नहीं हूं तो इससे बड़ा दुखद और क्या हो सकता है। मनमोहन सिंह ने ऐसा कोई काम नहीं किया है जिससे जनता को फायदा हुआ हो। वे गृहमंत्री के कहने पर मीडिया से बात करते हैं। भ्रष्टाचार की बात पर कहते हैं कि मुझे मालूम नहीं या फिर गठबंधन धर्म का सहारा लेते हैं। इसका यही मतलब निकलता है कि वे या तो लाचार प्रधानमंत्री हैं या उन्हें कुर्सी से मोह है।

ये बातें कही बीजेपी नेता सिद्वार्थ नाथ सिंह ने सीएनईबी के शो जनता मांगे जवाब में। इस शो में उनके साथ कांग्रेस नेता और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष पी.एल. पुनिया, वरिष्ठ पत्रकार अरविंद मोहन और भारतीय कृषक समाज के अध्यक्ष कृष्ण बीर चौधरी ने शिरकत की और शो के होस्ट थे संपादक अनुरंजन झा।

पी.एल. पुनिया ने कहा कि मनमोहन सिंह एक मजबूत प्रधानमंत्री है और यूपीए सरकार में जो भी घोटाले सामने आए उनपर सरकार ने कार्रवाई की है। लेकिन सिद्वार्थ नाथ सिंह ने इसका विरोध करते हुए कहा भ्रष्टाचार के मामले पर कार्रवाई प्रधानमंत्री और सरकार की ओर से नहीं बल्कि सुप्रीम कोर्ट के निर्दश और निगरानी में हो रही है। पीएल पुनिया ने कहा कि मनमोहन सिंह खुली किताब हैं। उन्होंने खुद ही कहा है कि प्रधानमंत्री को लोकपाल के दायरे में आना चाहिए।

वरिष्ठ पत्रकार अरविंद मोहन ने कहा कि हिन्दुस्तान का प्रधानमंत्री कमजोर नहीं हो सकता। मनमोहन सिंह मजबूत दिखना नहीं चाहते उन्हें कमजोर दिखने में ही फायदा नजर आता है। उन्होंने वोट की राजनीति नहीं की है और इन्हें बाकी चीजों से मतलब नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर सोनिया गांधी सरकार चला रहीं हैं तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है। वह देशभर में घुमी है और यूपीए की अध्यक्ष भी हैं। अरविंद मोहन ने कहा कि लोकपाल से डर सबको है लेकिन भ्रष्टाचार जिस व्यापक स्तर तक फैल गया है उसमें लोकपाल वक्त की जरूरत है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री देश का नेतृत्व करता है इसलिए उसे लोकपाल के दायरे से बाहर रखा जाना चाहिए। सिद्वार्थ नाथ सिंह ने कहा कि लोकपाल वक्त की जरूरत है।

स्वामी रामदेव पर पुलिस कार्रवाई पर प्रधानमंत्री के बयान का समर्थन करते हुए पुनिया ने कहा कि यह जरूरी कदम था। लेकिन सिद्वार्थ नाथ सिंह ने इसका विरोध करते हुए कहा कि पहले तो चार मंत्री एयरपोर्ट पर मिलने गए लेकिन अगले पांच दिन में ऐसा क्या हो गया कि इतनी सारी शिकायतें मिलने लगीं। रामलीला मैदान में स्वामी रामदेव और वहां पहुंचे लोगों पर जो पुलिसिया कार्रवाई हुई वह प्रधानमंत्री और सोनिया गांधी की जानकारी के बगैर संभव नहीं है। सीएनईबी के इस शो का प्रसारण 2 जुलाई शनिवार रात 8 बजे होगा और इसका दोबारा प्रसारण रविवार सुबह 11 बजे  होगा। प्रेस रिलीज


AddThis