ढाई साल बाद पंजाब में केबल नेटवर्क पर ऑन हुआ जी पंजाबी

E-mail Print PDF

: सरकार के कोप ने कर दिया था गायब : पंजाब में एक बार फिर लोगों को जी पंजाबी के दर्शन होने लगे हैं. पिछले लगभग ढाई सालों से केबल से गायब रहा यह चैनल एक बार फिर केबल नेटवर्क पर ऑन कर दिया गया है. सरकार के गुस्‍से की वजह से केबल नेटवर्क से गायब था, परन्‍तु जी और स्‍टार के टाइअप होने की खबरों के बाद से सरकार ने इसे फिर से केबल नेटवर्क पर ऑन एयर कर दिया है.

पंजाब का सर्वाधिक लोकप्रिय माना जाना वाला यह चैनल ढाई साल पहले इसलिए केबल नेटवर्क से हट गया था कि यह सरकार की पोल खोल रहा था. पंजाब के फास्‍ट वे केबल नेटवर्क पर मुख्‍यमंत्री प्रकाश सिंह बाल के पुत्र सुखबीर बादल की सीधी पकड़ है, लिहाजा सत्‍ता के खिलाफ खबरें दिखाने की वजह से जी पंजाबी को फास्‍ट वे केबल नेटवर्क से गायब कर दिया गया. यह चैनल लगातार पंजाब से गायब रहा. पंजाब सरकार का गुणगान करने वाले चैनल ही केबल पर दिखते रहे.

सुखबीर बादल के दबदबे वाला पीटीसी चैनल लगातार चल रहा है, जिस पर बादल पिता-पुत्र ही छाए रहते हैं. इसे देखते हुए अकालियों के एक दल पंजाब पीपुल्‍स पार्टी और कांग्रेस के कुछ लोगों ने मिलकर नया केबल नेटवर्क जीजीएस केबल नेटवर्क यानी गुरु गोविंद सिंह केबल नेटवर्क लांच करने की तैयारी कर रहे थे. इधर, यह भी सूचना है कि जी और स्‍टार के बीच टाइअप  के बाद फास्‍ट वे को जी पंजाबी दिखाना मजबूरी हो गया. इस टाइअप के तहत भारत समेत पूरे विश्‍व में जो भी जी का अधिकार खरीदेगा उसे स्‍टार का अधिकार खरीदना होगा, और जो स्‍टार का अधिकार खरीदेगा उसे जी का अधिकार खरीदना होगा. यानी केबल वालों को दोनों चैनल दिखाना मजबूरी होगा. इसके चलते ही सरकार ने जी पंजाबी को फिर से ऑन एयर कर दिया है.

सूत्रों का कहना है कि सरकार नहीं चाहती थी कि दोनों बीच डिस्‍ट्रीब्‍यूशन अधिकार बेचने को लेकर समझौता हो, परन्‍तु  इंटरनेशनल स्‍तर पर जी और स्‍टार के बीच हुए समझौते ने सरकार की परेशानी को बढ़ा दिया है. इससे केबल नेटवर्क पर सुखबीर बादल के केबल पर एकछत्र राज्‍य को झटका लगा है.  आनन-फानन में जी पंजाबी को फास्‍ट वे केबल नेटवर्क पर ऑन कर दिया गया. इसके बाद से कांग्रेसी और अकाली दल के लोग खुश हैं. अगले साल यहां चुनाव होने वाले हैं. और संभावना है कि जी पंजाबी पूरे तेवर के साथ मैदान में उतरेगा.


AddThis