नेटवर्क10 को लांच करेगी नई टीम, बसंत निगम और उनके लोग साइडलाइन

E-mail Print PDF

उत्तराखंड, हिमाचल और वेस्ट यूपी केंद्रित नए लांच होने वाले न्यूज चैनल ''नेटवर्क10'' को नई टीम लांच करेगी. अभी तक जिन लोगों को लांचिंग का दायित्व दिया गया है, उनसे प्रबंधन ने किनारा कर लिया है. बसंत निगम, जो कि इस चैनल के अभी तक सर्वेसर्वा हैं, और उनके लाए दिनेश चंद्रा व अतुल बरतरिया को साइडलाइन कर दिया गया है. ऐसा फैसला चैनल लांचिंग से पहले शुरू हुए आंतरिक विवाद के कारण लिया गया है.

उच्च प्रदस्थ सूत्रों के मुताबिक बसंत निगम पर करप्शन के चार्जेज की बात गलत है. हां, बसंत निगम अपनी टीम को नियंत्रित नहीं कर पा रहे और आपसी मनभेद-मतभेद चरम पर है. इस कारण प्रबंधन ने एक प्रोफेशनल लीडर और टीम की तलाश शुरू कर दी है जो चैनल को स्मूथ तरीके से लांच करा सके. सूत्रों के मुताबिक बसंत निगम को चैनल से हटाया नहीं जाएगा. उनकी जिम्मेदारियां बदल दी जाएगी. सूत्रों के मुताबिक बसंत निगम ने शुरुआत में ही कुछ गड़बड़ियां कर दीं. उन्होंने चार लोगों को वरिष्ठ पदों पर भर्ती कर लिया और इन चारों में आपसी विवाद शुरू हो गया. इन चार में ज्यादातर को टीवी का अनुभव नहीं है.

दिनेश चंद्रा दैनिक जागरण, नोएडा में रिटायरमेंट का इंतजार कर रहे थे कि अचानक उन्हें बसंत निगम का आफर मिला और पहली बार टीवी में कूद पड़े. अतुल बरतरिया को जागरण प्रबंधन ने देहरादून से मेरठ भेज दिया था और वह देहरादून वापसी का इंतजार कर रहे थे कि इसी बीच उन्हें भी बसंत निगम का आफर मिल गया. रुबी अरुण कई अखबारों में काम कर चुकी हैं. वे दिल्ली पदस्थ जर्नलिस्ट हैं. उन्हें भी बसंत निगम ने देहरादून बुला लिया. इन तीनों को बड़े बड़े पदों पर रखा गया और यह स्पष्ट नहीं किया गया कि कौन किसके अधीन काम करेगा. मतलब, प्रशासनिक नियंत्रण की कोई व्यवस्था नहीं की गई.

दिनेश चंद्रा को पद एक्जीक्यूटिव एडिटर का दिया गया. अतुल बरतरिया को पोलिटिकल एडिटर बना दिया गया. रुबी अरुण को न्यूजहेड का पद दिया गया. बसंत निगम चैनल के सर्वेसर्वा बने. अब बताया जा रहा है कि इन चारों में आपस में खूब विवाद हुआ और एक-एक कर सभी एक दूसरे से मुंह फुलाने लगे. कहा तो यहां तक जा रहा है कि रुबी अरुण ने टीम की वर्किंग स्टाइल से खफा होकर कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव गर्ग को अपना इस्तीफा दे दिया. यह भी चर्चा है कि अतुल बरतरिया ने भी इस्तीफा दे दिया है और अमर उजाला ज्वाइन करने जा रहे हैं.

हालांकि इन दोनों सूचनाओं की पुष्टि नहीं हो सकी है पर सूत्रों का कहना है कि आंतरिक घमासान इतना तेज है कि इसे रोक पाने में बसंत निगम लाचार हो गए. ऐसा इसलिए भी क्योंकि उनके रखे सभी लोग उनसे ज्यादा सीनियर हैं या फिर उनके समान धरातल के हैं. वर्किंग डिफाइन न होने और कामकाज प्रोफेशनल तरीके से न होने के कारण गैर-जरूरी कामों में लोग ज्यादा उलझ गए. फिलहाल नेटवर्क10 में चल रही आंतरिक राजनीति व उठापटक देहरादून में चर्चा का विषय बना हुआ है.


AddThis
Comments (12)Add Comment
...
written by nonu, August 02, 2011
raju ko reporter kab se kahne lage???????????
...
written by kamal, July 28, 2011
sahi bola rana or siddhu paa ji...
log bina sochey samjhe na jane kaise ulte comment kar dete hai jinka asar padta hai kisi achhey insaan par or majbooran kuchh achhey log berojgaar ho jate hai joki hua bhi hai....khair baat rahi raju reporter or kullu maharaj ki to wo log ek baat jaan le ki "Chhetrabaad" ki baat na kare to hi uchit hoga sayad unko pata nahi hai ki jis "Aate" ki bani "Roti" ye log khate hai wo aadhe se jyada U.P. me hi pada hota...or ye log baat karte hai gair uttrakhandi ki.... En logo ko main bus ye kehna chahta hoon ki enki soch limited hi hai or rahegi agar soch theek hoti to
"Chhetrabaad" ki baat nahi hoti.......
...
written by Jaspal Singh Sidhu, July 26, 2011
sabhi ko sat sri akal ji,
waise to mujhe ye channel or bhadas ki ye khabar mein koi intrust nai.....magar pad kar bahut dukh hua ke ek achha channel aata aata fir ruk gayea....jis mein kai bechare berojgaar logon ko kaam mil sakta tha...kai mehnti log aaj bhi khali baithe hain isi intzaar mein ke koi achha channel aye or wahan khoob dil lga ke kaam kia jye.....par use bhi dukh ki baat ye hai ke ye site 'bhadas4media' ek achhi site hai mager Ravi Reporter jasie achhe log hi ismein time barbad karne lage to hamare desh ka kya hoga.....kahan desh mein 'Shri Anna Hazare' jaise log amaran anshan kar ke desh ka bhala karna chahte hein or ek mere mitr sri Ravi ji hain jo chhoti chhoti baton ko le kar lage hai kichad uchhalne....sir ji ager aisa hi kaam karna hai to apne naam ke sath Reporter lagana band kar dijiye..ye kaam reporter nai karte....koin ke jin logon ke bare mein aap apne kimti sabad barbad kar rehe hain unko hum achhi tarah se jante hai or jis jis channel ka naam aap ne liya hai main wahan kaam kar chuka hoon....haan main manta hoon ke admi ka time kharab chalta hai jab tab kuchh apne hi log dhokha de jate hai....mager is ka matlab ye nai ke aap kisi ke bare mein kuchh bhi likhen.......or fimaly ke bare mein likhna to bilkul hi galat baat hai....

ravi ji mujhe lagta aap mere bare mein bhi bahut kuch jante ho plz btayen kionki mujhe apne bare mein bura sunna bahut achha lagta hai...plzzz zaroor btayega...
Thanx
...
written by rana , July 25, 2011
thik hai jo bhi hai. ye dukane to aati hai or chali jahi hai. par maja koi or li le jata hai.kisi ka kuchh naho bigdta. dikkat ho un logo ko hoti hai jo hajaro umido ke sath apne future ke liye judte hai. wo log to ab idhar udhar hi bhatkegen. unke ware mai kya koi sochta hai.
...
written by Aliya Khan, July 25, 2011
Bhai Nigam sahab, aapki kuch samay tak Abhishek Sinha se khoob banti rahi. Nisheeth Joshi ke saath tikri banakar khabron ko khoob todha marodha. Mritunjay Mishra jaise logon ko pahle fansa fir unke paksh mein ho gaye. Ghotalebajonn se santhganth karne mein tikri kaafi sakriya rahi. natijtan Abhishek Sinha ka Aaj Tak se aur joshi ka doon se patta saaf ho gaya. Malikan teesri ankh se sabkuch dekhte rahte hain par Nigam bhai Sahab apne apni aankhen khuli kyun nahin rakhin. pata nahin tha apko ki sinha aapko kha hi jayega. Allah aap sabko akl de. han aik baat aur Nigam Bhai Sahab Time TV to khoob chala rahe hain. Vahan se jhagdhe ki khabar nahin aati. Is liye Network bhi theek hi chala lete. baharhal fir se prayas jaari rakhen.
...
written by sharmaji, July 25, 2011
sabse pehle kullu ye jan lo ki bina utter pradesh ke apke uttrakhand me ek patta bhi nahi hil sakta hai or jis aate ki bani roti yaha ke log khate hai wo sb up main hi paida hota h samjhe....to aisa kichh bhi bolna main nahi samjhta uchit hoga...baat rahi nigam ji ki to unko hum jante h sath hi sath jay ji ko bhi to jo kuchh bhi aap logo ne bola ekdum jhuth hai...
ya to rajju ji pehle puri suchhai ka pata laga lo tabhi kisi ke bare me bolna or haan aapki writting se ye to saaf pata lag gaya h ki aap ho kon......
...
written by yogesh, July 24, 2011
कोई भी चैनल हो या संस्था वो हमेशा अपनी नीतियों की वजह से पीछे रह जाता है। अगर इस चीज को किसी व्यक्ति विशेष से जोड़ा जाय तो मेरे हिसाब से सही नहीं है, क्योंकि जिन लोगों को हम जिम्मेदारी देते हैं उन पर पूरा भरोसा करते हैं। रही बात टेक्निकल हिस्से की तो अजय शाह के साथ मैं रफ्तार चैनल में करीब एक साल काम कर चुका हूं और मुझे नहीं लगता कि वो कभी किसी को नुकसान पहुंचा सकते हैं। जो व्यक्ति अपनी मेहनत के बल पर इतनी ऊंचाइयों तक पहुंचा हो उसके ऊपर आरोप लगाना गलत है।
...
written by siddhu, July 24, 2011
are bhai kisi ke bhi upar kichad uchhalna to koi Raju reporter yaa yun kahe le ki ek mahaan patrakaar se sikhe, are bhaai network 10 ki asliyat kya hai ye kisi se bhi chipa nahin hai media jagat waise bhi bahot hi chota hai, aise me aap ke dwara diye gaye gyan ki roshani ki aavshyakta nahin hai patrakaar sahab, aapne kichad to khoob uchaala magar sayad aapko ye pata nahin ki yahan sabko pata hai ki kaun kitne paani me hai, chip kar kisi ke baare me bakwaas karna achhi baat nahin hai bhai. Agar himmat hai to sirf sach bolo addha adhura gyan mat baanto. Kam se kam main aur mere saathi in jaankaariyon se ittefaq nahin rakhte. Kyonki humne ajay bhai ke saath kaam bhi kiya hai aur bahot hi achhi tarah se unhen jaante bhi hain, aisa aadmi bahot hi muskil se milta hai, kyoki ajay bhai ek bahot hi imaandaar aur mehanati insaan hai agar tumhe kabhi mauka mile to parakh lena aur haan jin bhi channelon ke naam tumne liye unke maalikon se puchna aaj bhi wo ajay bhai ki bahot hi ijjat karte hain aur unse milte julte bhi hain.
...
written by aanjan par jana pahchana, July 24, 2011
Comedy Circus Ka Naya Dau banega n-10
...
written by raju reporter, July 23, 2011
खबर अधूरी है उसे मैं पूरी कर देता हूँ. नेटवर्क १० के दो विलेन अभी बचे हैं, अभिषेक सिन्हा और अजय शाह. इन दोनों ने निगम को बाहेर निकलाने और ऐसी नोबत लाने में कोई कसार नही छोड़ी.
अभिषेक सिन्हा जिसको पत्रकारिता का अ भी नही आता. दलाली में भी नम्बर एक है. टीवी १०० में ३ महीने बाद ही निकाल दिया गया वजह राजनीती की . फिर ६ महीने बाद चालबाजी कर के नॉएडा में गया और टीवी १०० में फिर नौकरी की और १ महीने में निकाला गया.वजह राजनीती की . दून में सलीम की बदौलत आज तक का स्ट्रिन्गेर बना जमकर दलाली की फिर राजनीति की और सलीम के ही पत्ते काट दिए. निगम को फिर भी अभिषेक भाया. नेटवर्क १० में भी रूबी के साथ अभिषेक ने माहौल खराब किया. राजनीति की और खुद और रूबी को चैनल का सर्वेसर्वा बनाने का प्लान बनाया. मालिकों को निगम की हकीकत बताई और स्टाफ को तोड़ने की कोशिश की.
अजय शाह ने भी हाँ में हाँ मिलाई. सभी लोगों के बीच निगम की करतूतें सामने रखी. वैसे ये जो भी विवाद हुआ है उसको सबसे पहले अजय शाह ने ही सुलगाया है. ये पहले की कहानी भी है. एक भी २४ घंटे के चैनल में काम न करने वाले अन प्रोफेशनल अजय कुमार भी कम राजनीतिज्ञ नही हैं. टाइम टीवी में अपनी पत्नी को एंकर बनाने के लिए कई लोगों की नौकरी खायी. रोज नई नई चालें चली. फिर निगम को मिल रहे २४ घंटे के चैनल जिसका नाम नेटवर्क १० ही सोचा गया था. उसको चिनवा दिया. अजय ने ही प्रकाश सारंगी को भड़काकर निगम का सपना तोड़ दिया था. फिर टाइम टीवी का इन्टरनेट के जरिये साइबर कैफे से काफी डाटा चुराया और बाद में ऍफ़ टी पी ही उड़ा दी. उस डाटा को व़ी ओ एन में बेचा और लाखों का घोटाला कर निकल गया.अजय साहब को चैनल की ए बी सी नही आती और हेड बन जाते हैं रफ़्तार जाने के बाद भी इन्होने वहां ऐसे ही किया. लाइव का झांसा कई बार दिया और मालिकों के उपर बात दल कर अपनी कमी छुपाते रहे, जब इनको वहां से निकला गया तो इन्होने वहां का भी डाटा चोरा और बाद में उड़ा दिया.
इतने गुण देखकर निगम ने इनको हेड बनाया और इन्होने निगम के खिलाफ मालिक के कान भरे, नेटवर्क १० में दो गुट बने थे और दोनों गुटों में अजय साहब थे. पहले इन्होने रूबी को निगम के खिलाफ किया फिर अभिषेक का और बाकी स्टाफ को बाद में खुद अलग हो गये और मालिक लोगों से भी मिलकर कोई राजनीती खेलना चाहते थे.
...
written by kullu, July 23, 2011
ab kahani hum ka batayen bhaiya. galat mansha ke saath jab channel shuru karoge to aise hi hoga.
nigam- 2 saal se adhe ghante ka slot nhi chala paya. 3 malikon ko loot khaya. to 24 ghante ka channel ghanta chalata.
apni team me sare baher ke non pahadi rakhe. gair uttarakhandi ka jaal tha.
anubhave kisi ka kuch nhi tha. reporter ko channel head bana diya. sare hi bande ek se badhkr ek the.
...
written by DEEPAK, July 23, 2011
sir. mujhe rakh lijiye......

Write comment

busy