हृदयेश दीक्षित को लीगल नोटिस भेजूंगा, भड़ास भी खबर हटाए : मनोज मनु

E-mail Print PDF

सहारा समय टीवी में कार्यरत मनोज मनु ने अपने बारे में भोपाल के अखबार प्रदेश टुडे में प्रकाशित खबर पर कड़ी आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा है कि सहारा से निकाले गए हृदयेश दीक्षित, जो इस अखबार के संपादक व मालिक हैं, जानबूझ कर उनकी छवि खराब कर रहे हैं. साथ ही, बिना तथ्यों की पड़ताल किए, बिना पीड़ित पक्ष का वर्जन लिए, कुछ भी प्रकाशित कर दे रहे हैं, यह सरासर गलत है.

भड़ास4मीडिया से बातचीत में मनोज मनु ने कहा कि भड़ास को भी किसी अखबार में प्रकाशित खबर को अपने यहां छापने से पहले खबर में उल्लखित संबंधित पक्षों का वर्जन ले लेना चाहिए. उन्होंने अपील की कि खबर को तुरंत हटा दिया जाए क्योंकि खबर एक तो पूरी तरह निराधार है दूसरे इससे कई निर्दोषों की निजी जिंदगी प्रभावित हो रही है. मनोज मनु ने बताया कि खबर में जिस वक्त एंकर के साथ कार से जाने की बात का उल्लेख किया गया है, वह उस वक्त अपने परिवार के साथ थे.

उनके मोबाइल डिटेल से तत्कालीन लोकेशन जाना जा सकता है और काल डिटेल से उस एंकर से रिश्ते के बारे में जाना जा सकता है. मनोज मनु ने कहा कि पत्रकारिता के नाम पर जिस तरह से लोगों को निजी जिंदगी को तबाह किए जाने का खेल खेला जा रहा है, वह सर्वथा अनुचित है. उन्होंने प्रदेश टुडे अखबार के संपादक हृदयेश दीक्षित को नोटिस भेजने की बात कही.


AddThis
Comments (4)Add Comment
...
written by खबरी लाल, August 07, 2011
मनोज मनु, मीडिया इन्डस्ट्री का नंबर वन दलाल है। अगर इस समय कोई पत्रकारिता के नाम पर दलाली कर रहा है मध्यप्रदेश में तो मनोज मनू। चार साल पहले तक इस आदमी के पास मोटरसाइकिल खरीदने के पैसे नहीं थे अचानक ये साहब लक्जरी जिंदगी जीने लगे है। मनोज मनू तुम जैसे पत्रकारो ने ही इंटस्ट्री को बदनाम कर रखा है। भगवान करें लोकपाल दायरे में पत्रकार भी आ जाए। तो साले पहली कंप्लैंट तुम्हारी होनी चाहिए। भ्रष्ट,चोर, दलाल, घूसखोर, दल्ले , रिश्वतखोर और ब्लेकमेलर जैसे शब्द तुम जैसे ही लोगों के लिए बने है।
...
written by prateek pathak, August 06, 2011
legal notice mein manoj manu likhega kya ? pradesh today m.p. ka ek matra nishpach akhbar hai. khaber mein kahan likha hai manu kya kar raha tha ?chor ki daadi mein tinka? bhadaas 4 media ko sachhai dikhane ke liye sadhuvaad .kripya side mein khabar bhi dikhaye -prateek pathak
...
written by kamalesh, August 06, 2011
मनोज मनु को यह कैसे मालूम कि उसे लात मारकर नहीं हटाया जा रहा? नोटिस देने की गीदड़ भभकी देने के पहले क्या उसने अपने आकाओं से अनुमति ले ली है? क्या दूसरे लोग बाँस नहीं रखते?
...
written by mayank dubey, August 06, 2011
khabar prakashit kare k purv uski tathkamaktaaa bhii janch liya kareee yashwantji... aur rahii harideshjiii ki baat tooooo
"""' jinkee ghar sheeshe k hoteee hai ve doorsroooo k gharooo par patharrr nahiii feekhaaa karteee""""

Write comment

busy