देश लाइव में भी जून-जुलाई की सेलरी लटकी, कर्मचारी तनाव में

E-mail Print PDF

रांची से प्रसारित न्‍यूज चैनल देश लाइव से खबर है कि यहां सेलरी के लाले पड़ गए हैं. जून माह की सेलरी न मिलने से कर्मचारी तनाव में हैं. खबर है कि  पटना में मीटिंग के दौरान कुछ कर्मचारियों की चैनल हेड मधुरशील से हॉट टॉक भी हो गई थी. सूत्रों का कहना है कि सेलरी नहीं रोकी गई है बल्कि तकनीकी दिक्‍कतों तथा नॉन परफारमेंस के आधार पर कुछ लोगों की सेलरी जरूर रूकी हुई है.

देश लाइव में खबरों से ज्‍यादा पैसे को लेकर टेंशन है. कर्मचारियों का इंतजार एक दिन करते करते एक महीना के बाद भी खतम नहीं हुआ है. जून की सेलरी आई नहीं और जुलाई माह भी बीत गया, यानी इस माह की सेलरी भी लटकी हुई है. इसी सेलरी के भरोसे अपनी योजनाओं को तैयार करने वाले पत्रकार बंधु खासे परेशान हैं. इसी का नतीजा बताया जा रहा है कि मीटिंग के दौरान चैनल हेड से कुछ लोगों की बकझक भी हो गई.

इस संदर्भ में जब देश लाइव के चैनल हेड मधुरशील से बात की गई तो उन्‍होंने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है. तकनीकी दिक्‍कतों की वजह से लोगों को सेलरी नहीं मिल पाई है. सीएमडी साहब बीमार हैं, जिसके चलते सेलरी कर्मचारियों के एकाउंट में ट्रांसफर नहीं हो पाई है. उनके आते ही सभी को सेलरी दे दी जाएगी. अब तक सभी को सेलरी टाइम से मिलती रही है. कहीं कोई दिक्‍कत नहीं है. उन्‍होंने अपने साथ मीटिंग के दौरान नोंकझोक की बात को भी सिरे से खारिज कर दिया. उन्‍होंने कहा कि देश लाइव में काम करने वाले सभी कर्मचारी अनुशासित हैं, उनसे इस तरह की व्‍यवहार की कल्‍पना भी नहीं की जा सकती.


AddThis
Comments (4)Add Comment
...
written by killer, August 20, 2011
madhur ji ki wife ko boliye paisa denge bahut akad hau unme ata jata kuch nahi hai apne ko tismarkham samjhte hai aur saurav mishra chirkut no 1 kam to ata nahi fekane me age chutiya sala madhur ji ache hai apr bahut achhe nahi hai ..............
...
written by munna , August 13, 2011
alochnaye to hoti hi hai magar bihar me deshlive hi ek yaisa news channel aaya jisne stringer ki majburio ko dekhte huye fix karne ki himat hi nahi ki balki surwati sangharsh ke sath time to time payment bhi kiya
...
written by Shipra, August 11, 2011
भाई ये तो होना ही था. आखिर कोई इंसान कब तक बेवकूफ बन सकता है. पहले धीरेन्द्र श्रीवास्तव ने उचे ख्वाब दिखा कर नितेश्वर को लूटा और अब यही काम माननीय मधुरशील कर रहे है. अरे भाई किसी के सब्र का कब तक इम्तेहान लोगे. नितेश्वर सिंह की भलमंशाहत है की जब जितना पैसा मधुरशील ने माँगा उन्होंने दिया. लेकिन ये लाखो रूपये कहा और कैसे खर्च किए गए इसका कोई हिसाब किताब नहीं है. ऐसे में अगर सि एम् डी कोई गंभीर फैसला लेने को मजबूर हो रहे है तो आश्चर्य नहीं होना चाहिय. देश लाइव के पटना दफ्तर में जो हुआ वो तो एक बानगी है. मधुरशील जैसे लोगो की यह आदत ही है की माल महाराज का मिर्ज़ा खेले होली............
...
written by saurabh sinha , August 08, 2011
yashwant ji,aap pata kar lijiye,kya aaj tak kisi karamchari ko account me salary transfer ki gayi hai...sabhi patrakar bhai ko line me lagakar mazdoor ki tarah salary bati jati hai..aapko ek andar ki khabar de raha hoon desh live channel dhruvlok merchents media pvt ltd namak company ke adhin hai,,,lekin ye company hi farzi hai,is naam ki kisi company ka registration nahi hua hai..jara aap v pata kar lijiye,,,,

Write comment

busy