'सारा खेल राजदीप, पुण्य प्रसून और राहुल कंवल ने बिगाड़ा''

E-mail Print PDF

यशवंत जी, आप चाहें जो लिखें-कहें, लेकिन सच यही है कि अगर कोई बात लिखित रूप से तय हुई है, इंबारगो के बारे में सब कुछ सबकी सहमति से तैयार हो गया तो फिर इसे तोड़ना न सिर्फ अनैतिक है बल्कि किसी पर भी भरोसा न करने जैसा ट्रेंड पनपाने वाला है. पहले से ही तमाम तरह के आरोपों से घिरी मीडिया को एक बार फिर मीडिया वालों ने ही अनैतिकता के गड्ढे में धक्का दे दिया है. सारा खेल राजदीप चौरसिया, राहुल कंवल और पुण्य प्रसून ने बिगाड़ा.

इन लोगों ने इंबारगो की बात पर सहमति जताई, लिखित रूप से, लेकिन इन लोगों ने भयंकर अनैतिकता का परिचय देते हुए अन्ना के इंटरव्यू को पहले ही चला दिया. दूसरे पत्रकार अभी अन्ना का इंटरव्यू कर ही रहे थे कि जब अन्ना का इंटरव्यू राजदीप, पुण्य प्रसून और राहुल कंवल वाले चैनलों पर चलने लगे तो पिछड़ गए पत्रकारों में मायूसी स्वाभाविक है. यही कारण है कि अन्ना के गांव में मीडिया वालों के बीच संघर्ष हुआ. नीचे एक मेल दे रहा हूं, जो विनोद कापड़ी द्वारा कई संपादकों को भेजे जाने के बाद मीडिया दिग्गजों में बहस का विषय बन गया है. मेरे नाम का खुलासा न करें. पूरा मेल यूं है, नीचे से उपर की तरफ पढ़ें. सबसे नीचे विनोद कापड़ी द्वारा भेजा गया मेल है और उसके बाद कई संपादकों पत्रकारों के रिएक्शन... पंकज पचौरी पूछते हैं कि किसने सबसे पहले प्रसारित किया और इंबारगो को तोड़ा? जहांगीर एस पोचा कहते हैं- बहुत दुखद रहा, अन्ना के गांव में सभी लोग कह रहे हैं कि मीडिया पर भरोसा नहीं किया जा सकता. बरखा दत्त का भी रिएक्शन है, पढ़ें...

From: Jehangir S. Pocha
Sent: Tuesday, September 13, 2011 19:16
Subject: Re: "ANNA-RCHY" in RALEGAN-SIDHI
It's sad...and sadder that this is the conversation in Ralegoan. Everyone is saying "media is like this only. Can't be trusted!".

From: Barkha Dutt  
Sent: Tue Sep 13 18:32:01 2011
Subject: Re: "ANNA-RCHY" in RALEGAN-SIDHI
Yep everyone agreed in writing.. Its really disappointing ..that for an interview everyone getting we needed to behave like kids and not honour our word
Sent from Blackberry

From: Arnab Goswami
Sent: Tuesday, September 13, 2011 06:28 PM
Subject: RE: "ANNA-RCHY" in RALEGAN-SIDHI
We haven’t got an interview yet  but if everyone signed on that paper as vinod shows, it should hold. Otherwise it amounts to misleading other channels.

From: Barkha Dutt
Sent: 13 September 2011 18:13
Subject: Re: "ANNA-RCHY" in RALEGAN-SIDHI
Agree. Pretty bizarre considering everyone agreed in writing. And so disappointing that we can't agree on something so basic?
Sent from Blackberry

From: Pankaj Pachauri
Sent: Tuesday, September 13, 2011 06:07 PM
Subject: Re: "ANNA-RCHY" in RALEGAN-SIDHI
Now who broadcast it first? And flouted the embargo... ?
Pankaj

On Sep 13, 2011, at 18:01, "vinod kapri"  wrote:
Dear Friends,
This is to bring to your notice that today in Ralegan siddhi Anna Hazare was supposed give an interview to the correspondents through a lucky draw procedure.. but when few SENOIRS flew from New Delhi and these seniors requested ANNA TEAM that they have to go back to Delhi same day, so let them take the interview first..

After this all agreed on one condition that interview taken by anybody , be SENIOR  or junior or any channel will be embargoed  till 6 pm, 13th September 2011 ( MoU attached) but it was appalling to see that SENIOR journalists in the beginning went on live or deferred live with their interviews on respective channels. Not only this, they immediately telecasted the same interview many times.

This is a huge breach of trust and gross violation of mutual understanding and respect...

I am attaching agreement signed by all correspondents/bureau chiefs/seniors by respective channels and this was very clear to all present including SENIORS. Seniors were very much aware of this agreement and ANNA team also agreed for interview to SENIORS after MoU signed by all channels (pls see MoU).

This is really very unfortunate and complete breach of TRUST..All reporters/Correspondent( so called juniors) stationed in RALEGAN SIDDHI from 12 days to get ONE, ONLY ONE interview of ANNA are  very very upset and frustrated bcoz of this.. I thought this should come to your notice.Hope we seniors will think about our junior friends in future.

Regards,
Vinod Kapri


AddThis
Comments (10)Add Comment
...
written by धर्मेन्द्र कुमार, September 19, 2011
सीनियर नहीं सब भड़वे हैं...दिल्ली में सत्ता भोगने में लगे हैं....चूतियों की फौज खड़ी हो गई है दिल्ली में तो....
...
written by Singh Rakesh , September 17, 2011
रालेगन में सबसे पहला intervew राजदीप सर को मिला. और मीडिया की बात करे तो सबसे पहले IBN नेटवर्क की टीम पहुची थी . अन्ना के मंदिर में सुबह 7 :30 में निखिल वाघ्ले & राजदीप सरदेसाई ,पुण्य प्रसून बाजपेई सर मौजूद थे . इसके अलावा किसी v मीडिया नेटवर्क से कोई भी मौजूद नहीं था . मुझे नहीं लगता इसमें कुछ गलत है रहीं बात एमर्गो की तो इसके लिए पहले TRP Rating को पहले भूलना होगा या फिर पहले आओ पहले पाओ बाकि INTERVIW देने वाले के उप्पर निर्भर करता है किसको पहले मिलेगा और किसको बाद में . इसमें कोई दो राय नहीं की नखील वाघ्ले सर की पकड़ महाराष्ट में काफी अच्छा है.



...
written by bharat, September 14, 2011
वाह भई वाह.. क्या तमाशा किया है आपने। इतने वरिष्ठ होकर बड़ा सुंदर संदेश दिया है जूनियरों को। लिखित वायदे से मुकर गए आप लोग ? खूब खाया जूनियरों का। अब कितना खाओगे हक़। अब तो इतने बड़े पद पर बैठ गए हो। प्लीज़ बाज आओ ऐसी प्रवृत्ति से। smilies/shocked.gifsmilies/shocked.gifsmilies/shocked.gifsmilies/cry.gifsmilies/shocked.gifsmilies/sad.gifsmilies/angry.gif
...
written by Bijay singh , Jamshedpur, September 14, 2011
nothing new in this event...all are businessman ,where is journalism now?
editors becoming marketing and public relation consultants ,no ethics now.
so keep enjoying every moment....and see the nautanki of so called big journalists...they are actually aristrocrat vyapari...
...
written by dinker, September 14, 2011
एक राय हो भी कैसे सकती है बुद्धिजीवी जो ठहरे!
...
written by kamlesh, September 14, 2011
shameful... smilies/angry.gifsmilies/angry.gifsmilies/angry.gifsmilies/angry.gifsmilies/angry.gifsmilies/angry.gif
...
written by Deep, September 14, 2011
Punya Prasun sarikhe senior journalist jo tv pe badi badi batein karte hain..kam se kam unse ye umeed nahi thi. isi se ye pata chalta hai hakeekat men in patrakaron ka chehra kya hai..shame....shame
...
written by dhanish sharma, September 14, 2011
नैतिकता की दुहाई देने वाले ये मीडिया हब का सब दिखावा है अपने फायदे के लिए ये सब किसी भी हद तक जाने से गुरेज नही करते। और अन्ना के अनषन के वक्त तो काफी हो हल्ला मचाया सबने। लेकिन सब वक्त पर अपनी औकात दिखा देते हैं।
...
written by prashant, September 14, 2011
इसमें नया क्या है और अब इतने बड़े पत्रकार जी भी...
...
written by dhanish sharma, September 14, 2011
who cares..

Write comment

busy