प्रज्ञा है या कसाई घर, चिकन खाने पर चार को निकाला

E-mail Print PDF

महुआ वाले पीके तिवारी जी का एक चैनल है प्रज्ञा. यह धार्मिक चैनल है. इस चैनल से खबर आ रही है कि यहां आफिस में चिकन खा लेने के कारण चार लोगों को नौकरी से निकाल दिया गया. प्रज्ञा टीवी मैनेजमेंट के इस आचरण पर हर ओर थूथू हो रही है. जिन चार मीडियाकर्मियों को हटाया गया है उनके नाम हैं- देवेश शर्मा (एंकर और प्रोड्यूसर), सौरभ शर्मा (प्रोड्यूसर), सरगम डावर (रिलेशनशिप एक्जीक्यूटिव) और आरिफ (मेकअप डिपार्टमेंट).

इन लोगों को बिना किसी नोटिस के फायर कर दिया गया. कंपनी ने किसी रूलबुक में यह नहीं लिखवाया है कि आफिस परिसर में चिकन नहीं खाया जा सकता. पर इसी कारण चार लोगों को नौकरी से अचानक निकाल दिए जाने से बाकी कर्मचारी सदमें में हैं. यह हिप्पोक्रेसी का चरम है. काले सफेद करने वाले सिर्फ आफिस परिसर में चिकन खाने को इतना बड़ा अपराध मान लेंगे, यह किसी को अंदाजा न था.

इस प्रज्ञा टीवी की हेड शिवानी अग्रवाल हैं. उनका मानना है कि प्रज्ञा टीवी मंदिर की तरह है और इन चारों कर्मियों ने मंदिर में चिकन खाकर भावनाओं को आहत किया है. पर इन शिवानी अग्रवाल को कौन समझाए के उनके कई करीबी कर्मचारी दारू के नशे में आफिस में काम कर रहे होते हैं. अगर मंदिर में चिकन खाना अपराध है तो दारू पीना अपराध क्यों नहीं. क्या मंदिर में मदिरा पान करके घुसा जा सकता है? प्रज्ञा प्रबंधन पर कास्ट कटिंग का भूत सवार है. यहां तक की टायलेट पेपर्स की भी खरीद बंद कर दी गई है. अगले महीने अप्रेजल है पर किसी को उम्मीद नहीं कि कोई खास भला होने वाला है. उसके पहले चार लोगों को निकाल दिया जाना कर्मचारियों के मन में डर पैदा कर गया.

भड़ास4मीडिया को प्राप्त एक मेल पर आधारित. उपर लिखित बातों की यथासंभव पड़ताल कर ली गई है. फिर भी अगर कोई कमी-बेसी दिखे तो नीचे कमेंट बाक्स के जरिए उसे दुरुस्त किया जा सकता है.


AddThis