भंवरी देवी की लाश मिलने की झूठी खबर चला दी ईटीवी ने

E-mail Print PDF

ईटीवी राजस्थान ने बुधवार रात यानि 14 सितम्बर की रात एक फर्जी समाचार जोरशोर से प्रसारित किया. यह समाचार लापता एएनएम भंवरी देवी का शव मिलने के बारे में था. भंवरी देवी राजस्थान के एक कैबिनेट मंत्री और विधायक के साथ अवैध संबंधों की सीडी के कारण चर्चा में हैं.

उसके गायब होने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर जोधपुर रेंज आईजीपी उमेश मिश्रा खुद बड़ी सरगर्मी से उसकी तलाश करा रहे थे. बहरहाल, राजीव गौड़ ने बुधवार रात करीब साढ़े सात बजे खबर ब्रेक कराया कि भंवरी देवी की लाश सीकर के पास उराई गांव में मिली है. फिर उन्होंने भंवरी के लापते होने के मामले, उसके मंत्री व विधायक से अवैध संबंध और इस पूरे मामले के राजनीतिक असर पर विस्तार से फोनो किया. थोड़़ी देर बाद ही राजीव ने दूसरी ब्रेकिंग न्यूज चलवाई कि भंवरी देवी की लाश यूपी में झांसी के पास के उराई गांव में मिली है. ईटीवी के जयपुर कार्यालय ने भी इस ब्रेकिंग न्यूज को तत्परता और जोशोखरोश से लिया. चैनल के सलाहकार इशमधु तलवार को ऑफिस में बुलवा कर उनसे लाइव पर टिप्पणियां ली गई.

ईटीवी पर चलने के बाद कई राष्ट्रीय और क्षेत्रीय चैनलों ने भी इसे ब्रेक किया. पूरे राजस्थान में अचानक हलचलें तेज हो गई. ईटीवी ने तो यहां तक चला दिया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इस मामले में आपात बैठक ले रहे हैं जबकि बाद में पता लगा कि यह बैठक भरतपुर में हिंसा को लेकर हुई थी. इस बीच आईजीपी और एसपी रूरल लगातार फोन पर पत्रकारों को मना करते रहे कि कोई बॉडी नहीं मिली है. कुछ देर बाद एसपी ने प्रेस नोट जारी कर ईटीवी राजस्थान की खबर को गलत बताया. प्रेस नोट साथ संलग्न है जो 02912650888 फोन न. (ग्रामीण कंट्रोल रूम) से आया हुआ है. अब ईटीवी के अधिकारियों से न उगलते बन रहा है और न निगलते. बहरहाल उन्होंने भी यह तो फ्लैश किया है कि एसपी ने लाश मिलने से इनकार किया है.

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.


AddThis