जगजीत सिंह को श्रद्धांजलि देने लगा 'न्यूज एक्सप्रेस'!

E-mail Print PDF

: संशोधित : जगजीत सिंह के लिए जब कल पूरा जग दुआ कर रहा था, तब इलेक्ट्रानिक मीडिया का एक चैनल 'न्यूज एक्सप्रेस' उन्हें श्रद्धांजलि दे रहा था. हाय रे खबरों की होड़. हाय रे हमारे पत्रकार. हाय रे हमारे एंकर. 'खबर अंदर की' - ये टैगलाइन है न्यूज एक्सप्रेस का. लेकिन अस्पताल के अंदर की खबर को बाहर तक नहीं ला पाया. तकरीबन 20 मिनट तक चीख चीख कर न्यूज एक्सप्रेस यही बताता रहा- ''जगजीत सिंह इस दुनिया में नहीं रहे''.

कुछ दिन पहले दोपहर दो बजे मंगलवार को एक एंकर तय ही नहीं कर पा रही थी कि चिदंबरम और और प्रणव मुखर्जी, कौन-कौन से मंत्रालय को देख रहे हैं. ऐसा नहीं है कि ये इसी चैनल की बात है. ऐसी गड़बड़ियां दूसरे चैनल भी किया करते हैं. लेकिन क्या इस तरीके से गलत खबर दिखाना सही है? पिछले कई सालों से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के कामकाज को लेकर सवाल खड़े किए जाते रहे हैं. सबसे बड़ी चिंता न्यूज कंटेट को जल्दबाजी में दिखाने और खबरों की विश्वसनीयता को लेकर है.

अनिमेष दास

पत्रकार

आईआईएमसी

This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it


AddThis