बाम्‍बे हाई कोर्ट ने टाइम्‍स नाउ से 20 करोड़ जमा करने को कहा

E-mail Print PDF

टाइम्‍स नाउ चैनल प्रबंधन परेशानी में है. मानहानि के एक मुकदमे पर सुनवाई करते हुए बांबे हाई कोर्ट ने चैनल से कहा है कि वो कोर्ट में 20 करोड़ रुपये जमा कराए. सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज पीबी सावंत ने चैनल पर पीएफ घोटाले की एक खबर में उनका फोटो दिखाए जाने के बाद 100 करोड़ रुपये के मान‍हानि का मुकदमा किया था, जिसमें पुणे जिला अदालत ने पीबी सावंत के पक्ष में फैसला सुनाते हुए टाइम्‍स नाउ की मूल कंपनी टाइम्‍स ग्‍लोबल ब्राडकास्टिंग को उक्‍त धनराशि देने का आदेश दिया.

इस फैसले के खिलाफ टाइम्‍स नाउ प्रबंधन ने बाम्‍बे हाई कोर्ट में अपील की थी, जिसके बाद कोर्ट ने नियमानुसार बीस प्रतिशत धनराशि कोर्ट में जमा कराने का निर्देश दिया है. टाइम्‍स नाउ ने 10 सितम्‍बर 2008 को पीएफ घोटाले की एक खबर में कोलकाता हाई कोर्ट के जज पीके सामंता की जगह सुप्रीम कोट के जज पीबी सावंत का फोटो चला दिया था, जिसके बाद जज सावंत ने टाइम्‍स नाउ पर 100 करोड़ रुपये मानहानि का मुकदमा किया था.

बाम्‍बे हाई कोर्ट ने कंपनी को शेष अस्‍सी करोड़ रुपये के लिए बैंक गारंटी भी जुटाने का आदेश दिया है. कोर्ट में कंपनी की तरफ से बताया गया कि चैनल ने अपनी गलती के लिए पांच दिन तक स्‍क्राल चलाकर पीबी सावंत से क्षमायाचना की थी. इसके बाद फिर मानहानि होने की बात ही कहां रह जाती है. नीचे इंडियन एक्‍सप्रेस में छपी खबर.


AddThis