’चक्रव्यूह‘ से सीखे रोज़मर्रा की राजनीति के गुर : सीखिए राजनीति, कीजिए राजनीति

E-mail Print PDF

: न्यूज़ एक्सप्रेस की नई पेशकश : नई दिल्ली : अब आप भी अपने दफ्तरों की राजनीति, दोस्त मंडली की राजनीति और यहां तक कि सामाजिक राजनीति से आसानी से निपट सकेंगे। भारत के 24 घंटे प्रसारण करने वाले पहले हाई डेफिनेशन राष्‍ट्रीय, हिंदी समाचार चैनल न्यूज़ एक्सप्रेस ने इस मामले में उपयोगी गुर सिखाने के लिए अपना रोचक कार्यक्रम ’चक्रव्यूह‘ जो पेश किया है!

’चक्रव्यूह‘ - सीखिए राजनीति, कीजिए राजनीति‘ भारतीय टेलीविजन के इतिहास में अपनी तरह का पहला ऐसा न्यूज़ प्रोग्राम है जिसे आज के दौर की सामाजिक संरचना में राजनीति को नए सिरे से परिभाषित करने के मकसद से पेश किया जा रहा है, और यह लोगों को रोज़मर्रा की जिंदगी में राजनीति के दांव-पेंच सिखाएगा।

’चक्रव्यूह‘ का ध्येय वाक्‍य ’सीखिए राजनीति, कीजिए राजनीति‘ है और यह उस राजनीति की बारीकियों का खुलासा करेगा, जो आज के दौर में लोगों के संबंधों में घर कर चुकी है और वे घर, दफ्तर, यार-दोस्तों की मंडली तथा अपने सोशल सर्कल में भी इसके बीच रहते हैं जिसके चलते कई बार चाल-कुचाल का ऐसा ’चक्रव्यूह‘ तैयार हो जाता है कि वे भी इसके शिकार बन जाते हैं। ’चक्रव्यूह‘ टेलीविजन पर की गई ऐसी पहल है जो लोगों को रिश्‍ते-नातों की राजनीति से निपटना सिखाएगी जिससे वे जिंदगी के अलग-अलग क्षेत्रों में अपनी राह सुगम बना सकते हैं।

1 अक्टूबर, 2011 से हर शनिवार रात 9.30 बजे प्राइम टाइम पर आधे घंटे प्रसारित होने वाले ’चक्रव्यूह‘ में ऐसी जोरदार घटनाओं और असली जीवन की कहानियों का समावेश किया जाएगा जो संबंधों की राजनीति की पोल खोलकर रख देंगी और इस तरह दर्शकों को ऐसी राजनीतिक चालों के कुचक्र को तोड़ने तथा अपने निजी हितों एवं लक्ष्यों को सुरक्षित रखने के तौर-तरीकों की जानकारी मिलेगी।

मुकेश कुमार, चैनल प्रमुख, न्यूज़ एक्सप्रेस ने कहा, ’’अपनी तरह के अनूठे कार्यक्रम ’चक्रव्यूह‘ में असली दुनिया के ऐसे लोगों को दिखाया जाएगा जो आज के समाज में संबंधों की राजनीति के शिकार बन चुके हैं - चाहे घरों में, दफ्तर, वैवाहिक संबंधों, रिश्‍ते-नातों, या पैसों, नौकरी, व्यापार आदि में। इस तरह, यह प्रोग्राम हमारे दर्शकों को सोशल पॉलिटिक्स की बारीकियों को समझने का मौका देगा ताकि वे उनसे आसानी से निपट सकें।‘‘

’चक्रव्यूह‘ में भाग लेने वाला विशेषज्ञ पैनल दर्शकों को सजग नागरिक बनाएगा जिसके परिणामस्वरूप वे संबंधों की राजनीति को समझ सकते हैं, अधिक सतर्क बन सकते हैं और निजी जीवन में राजनीति के इन पेंचों को बखूबी समझकर अपने हितों को सुरक्षित रख सकते हैं।

’चक्रव्यूह‘ में एक्सक्लूसिव केस स्टडीज़ को शामिल किया जाएगा और साथ ही जानी-मानी हस्तियों तथा आम आदमी के अनुभवों का भी बयान होगा कि कैसे वे इस तरह की राजनीतिक उलझनों से बाहर निकले। ’चक्रव्यूह - सीखिए राजनीति, कीजिए राजनीति‘ लोगों को राजनीति के बारे में सिखाने की एक पहल है जो उन्हें इसका मुकाबला करने के बारे में भी सिखाएगी। प्रेस रिलीज


AddThis
Comments (2)Add Comment
...
written by ravi kumar, October 06, 2011
ये कैसा चक्रब्यूह है यशवंत जी..न्यूज एक्सप्रेस के लिए एक ही मुहावरा काफी है..घर में नहीं है दाने..अम्मा चली भुनाने
...
written by Shikaar, September 30, 2011
Pahle apne channel ke andar chal rahi rajniti ko to samjhe aur sudhaariye mukesh ji....jiske shikaar abtak kai log ban chuke hain aur channel ko laat maar kar jaa chuke hain. Uske baad samaaj ko aaina dekhaaiyega....

Write comment

busy