उच्‍च शिक्षा पर 50 चैनल शुरू करेगा मानव संसाधन विकास मंत्रालय

E-mail Print PDF

नई दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 50 शैक्षणिक चैनल शुरू करने की योजना बनाई है जो उच्च शिक्षा के विभिन्न विषयों पर आधारित होंगे। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने इस विषय पर हाल ही में अंतरिक्ष विभाग को पत्र लिखा है और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) को इसके लिए दो ट्रांसपोंडर प्रदान करने की मंजूरी देने का आग्रह किया है।

मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा-‘‘हमने डीटीएच माध्यम से 50 शैक्षणिक चैनल शुरू करने की योजना बनाई है। इसके लिए दो ट्रांसपोंडर उपलब्ध कराने का आग्रह किया है।’’ उन्होंने कहा कि प्रारंभ में हमारी योजना विभिन्न विषयों से संबंधित करीब एक हजार चैनल शुरू करने की थी जिसके लिए एक पूरे उपग्रह की जरूरत होती। लेकिन ऐसा संभव नहीं हो सका। अधिकारी ने कहा-‘‘अब हमने 50 चैनल शुरू करने की योजना को अंतिम रूप दिया है और दो ट्रांसपोंडर मांगे हैं। ये ट्रांसपोंडर हमें जल्द प्राप्त होने की उम्मीद है। प्रारंभ में इसका बजट 100 करोड़ रुपए निर्धारित किया गया है।’’

उन्होंने बताया कि अगर कोई रसायन विज्ञान का छात्र है तो भौतिक रसायन, कार्बनिक रसायन और अकार्बनिक रसायन सभी के लिए अलग-अलग चैनल होगा। इसी प्रकार से जीव विज्ञान में प्राणी विज्ञान और वनस्पति विज्ञान दोनों के लिए अलग-अलग चैनल होंगे। गणित के अलग-अलग विषयों के लिए अलग-अलग चैनल होंगे। इसी प्रकार से सामाजिक विज्ञान के विभिन्न विषयों पर अलग-अलग चैनल होंगे। गौरतलब है कि शिक्षा के प्रसार को ध्यान में रखते हुए 2004 में ‘एडुसेट’ का प्रक्षेपण किया गया था जो पिछले वर्ष सितम्बर में सेवा से हटा लिया गया। अधिकारी ने बताया-‘‘इन 50 चैनलों के लिए कार्यक्र म तैयार कर लिये गए हैं।’’

अधिकारी ने कहा-‘‘हमें पहले ही दो ट्रांसपोंडर प्राप्त हो जाते लेकिन पिछले वर्ष जीएसएलवी के विफल रहने के कारण ऐसा संभव नहीं हो सका। हाल के उपग्रह के सफल प्रक्षेपण के बाद हमें जल्द ही दो ट्रांसपोंडर प्राप्त हो सकेंगे।’’ मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी संबंधी शिक्षा के प्रसार के लिए राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी प्रोत्साहन शिक्षण कार्यक्र म (एनपीटीईएल) पेश किया है। आईआईटी और आईआईएससी के माध्यम से प्रौद्योगिकी आधारित कार्यक्रम तैयार करने और चैनलों के माध्यम से इसका प्रसारण करने की योजना बनाई गई है। साभार : एजेंसी


AddThis