सहाराइटों को कूपन जारी

E-mail Print PDF

खबर है कि सहारा मीडिया ने एक बार फिर अपने फील्ड रिपोर्टरों-स्ट्रिंगरों पर शिकंजा कसा है. देश में सहारा समूह के जितने भी न्यूज चैनल (नेशनल व रीजनल) व अखबार-मैग्जीन आदि हैं, सभी के रिपोर्टरों व स्ट्रिंगरों को 26 जनवरी उर्फ गणतंत्र दिवस के मौके पर 5000 रुपये का विज्ञापन लाने को कहा गया है.

 

प्रमाण के तौर पर एक कूपन हम प्रकाशित कर रहे हैं, जिसमें कोड संख्या इसलिए हटा दिया गया है ताकि ये न पता चल सके कि ये किस स्टाफ को दिया गया था जिसने इसे स्कैन करके भड़ास को भेज दिया, और इस अपराध में उसकी नौकरी चली जाए. इस प्रकरण पर सहारा प्रबंधन का कहना है कि जिलों में काम करने वाले सहारा के कई लोग खुद चाहते हैं कि त्योहारों पर्वों के मौके पर उन्हें विज्ञापन लाने के लिए कोई स्कीम दी जाए ताकि उससे उनका भी भला हो और सहारा का भी. और, इस तरह की स्कीम सभी मीडिया हाउस चलाते हैं क्योंकि सबकी कोशिश होती है कि वे अपने खर्चों से निपटने के लिए ज्यादा से ज्यादा विज्ञापन लाएं. सहारा प्रबंधन ने दावा किया कि ये कूपन सिर्फ उन्हीं को दिए जाएंगे जो विज्ञापन लाने को इच्छुक होते हैं. किसी पर कोई दबाव नहीं होगा.


AddThis