एक साल में दर्शकों ने माना मौर्य का शौर्य : मनीष झा

E-mail Print PDF

मौर्य एक चैनल के रूप में मौर्य टीवी दो फरवरी को एक साल का हो गया... लांचिंग समारोह में कैटरीना कैफ का वो उदगार आज भी लोगों को याद है-“पटना, का हाल बा ”... राजनीति फेम मनोज वाजपेयी, अर्जुन रामपाल जैसे कलाकारों के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाथों लांच हुए मौर्य टीवी पर पूरे देश की नज़र थी। चैनल के जनक फ़िल्म जगत के दिग्गज प्रकाश झा की इस कोशिश को लोग हसरत भरी निगाहों से देख रहे थे। वजह साफ थी। बिहार की धरती से ये पहला चैनल था, जो यहीं की भाषा में यहीं की बात कहने को दर्शकों से मुखातिब हो रहा था।

टीवी से जुड़े पत्रकारों के लिए भी ये कौतूहल का विषय बना कि पटना जैसे शहर से कोई मुकम्मल चैनल लांच हो, तो उसका भविष्य क्या होगा। लेकिन, वक्त ने तमाम आशंकाओं को निर्मूल साबित कर दिया। पांच महीने में ही मौर्य टीवी ने सफलता का वो इतिहास रच दिखाया, जिसके लिए कोई भी न्यूज़ चैनल लालायित रहता है। तमाम राष्ट्रीय और क्षेत्रीय चैनलों को पीछे छोड़ते हुए मौर्य 14 जुलाई को नम्बर वन हो गया। हतप्रभ मीडिया जगत तब और भौंचक रह गया जब मौर्य के नम्बर वन बने रहने का सिलसिला थमा नहीं, बढ़ता चला गया। पन्द्रह हफ्ते में ग्यारह हफ्ते मौर्य नम्बर वन रहा।

ज़ाहिर है इस रिकार्ड की कोई सानी नहीं। मौर्य टीवी के चैनल हेड मनीष झा ख़ास तौर पर कहते हैं कि नम्बर वन होने के लिए चमत्कार, भूत-प्रेत जैसी ख़बरों का दामन मौर्य ने कभी नहीं थामा। श्री झा को इस बात का फख्र है कि दर्शकों ने बहुत कम समय में मौर्य के शौर्य को न सिर्फ अंगीकार किया, बल्कि उसे सर आंखों पर बिठाया। टीआरपी की रेटिंग में मौर्य टीवी के कई कार्यक्रम सुपुर-डुपर हिट रहे। राजनीति खेल सत्ता का, सत्ता संग्राम, बाल की खाल, सास की छौंक बहू का तड़का, जुर्म का जाल, लॉ एंड ऑर्डर, मौर्य स्पेशल, पटना फाइटर्स, टोटल फ़िल्मी, पटना लाइव, ज्योतिष लाइव, रनभूमि, दिल की बात प्रकाश के साथ, ख़ास मुलाक़ात, चलते-चलते, चुनावी अखाड़ा, बात बोलेगी, बिहार रिपोर्टर, झारखण्ड रिपोर्टर, ख़बरें खटाखट, ....यानी एक के बाद एक प्रोग्राम...जिसने दर्शकों को मौर्य का दीवाना बना दिया।

टीआरपी की रेटिंग में ग्राफ ऊपर-नीचे होते हैं... मौर्य टीवी भी इससे अछूता नहीं रहा। इसके बावजूद मौर्य के समर्पित पत्रकारों का हौंसला बरकरार है। नये-नये शो, कार्यक्रम लगातार शुरू हो रहे हैं। आजतक फेम कुमार राजेश के नेतृत्व में सम्पादकीय टीम पूरे हौंसले के साथ मौर्य टीवी का कन्टेन्ट मज़बूत करने में लगी है, जिनमें मौर्य के राजनीतिक सम्पादक नवेन्दू सिन्हा और वरिष्ठ पत्रकार अमिताभ श्रीवास्तव का सक्रिय सहयोग रहता है। आउटपुट हेड सुनील पाण्डे, इनपुट हेड प्रेम कुमार भी चैनल को एक मुकाम दिलाने वाली टीम में योगदान करने वालों में अहम हैं तो एंकरिंग टीम का नेतृत्व खुद कुमार राजेश अपने सहयोगी वेसाल आज़म के साथ करते रहे हैं।

झारखण्ड में मौर्य का शौर्य बिखेरने में जुटी टीम को नेतृत्व देने की ज़िम्मेदारी सम्भालने सहारा समय से न्यूज़ 11 होते हुए पहुंचे हैं मनोज श्रीवास्तव। उन्होंने मौर्य को विज्ञापन की दुनिया में भी जगह दिलाने में योगदान दिया है। मौर्य प्रबंधन ने मौर्य टीवी की पहली वर्षगांठ पर अपने कर्त्तव्ययोगियों के लिए होटल पाटलिपुत्रा अशोका में भव्य आयोजन रखा है। इसमें इन्द्रजीत गांगुली, बरनाली गांगुली, कुमार अरविन्द, रंजना झा जैसे कलाकार अपनी कला का जलवा बिखेरेंगे। डीजे की भी व्यवस्था है। प्रेस विज्ञप्ति


AddThis
Comments (9)Add Comment
...
written by manish, February 06, 2011
in ek saalo me maury ne kafi safalta payi hai... meri aur se maury parivaar ko dher saari shubhkamnaye....
...
written by Sahas, February 05, 2011
congratulations Maurya TV

aapka total filmy fir se shuru kariye. i am regular viewer of your channel.
and i m big fan of Mr. Manish. i had done my training under him in star tv Delhi. keep it up sir. we are proud of you. I hope to see you soon on channel as you did for Star in 2004, hope you still have your interest of programming.

will also suggest to move the channel on DTH i get at my home since the cable operator is of bihar and he shows the channel but you should make it all over delhi also.

thanks
Sahas- Gurgaon
...
written by shilpi, February 05, 2011
namaste
main shilpi kanpur se hoon aur mass com ki student hoon. aur aapka channel hame bahot pasand hai. khas kar aapki anchor maitryee, asit aur kumar rajesh.
aap sabko bahut bahut badhai.
thank you. shilpi-kanpur
...
written by Ibrahim Sartaj, February 05, 2011
aadab dostoon.

bade purana lekin behtarin sher hai, jo main maurya ki es kamyabi par aap sabke pesh karna chahta hoon.

Ek Baat Hai Ke hasti miti Nahi Hamari.
Sadiyoon Raha hai dushman Dur-E-Janhaan Hamara.

Esliye Maurya ke sathion lage raho, aur achhi saaf khabre aur manoranjan dikhate raho..humne naaz hai prakash jha par aur bihar ki maati par..aur sharm bhi hai kuchh begairat, namard socho par jo kisi ko aage badhthe hue nahi dekh pate..

shukriya.
...
written by rohit singh, February 05, 2011
hi friends

wishes to all maurya and bihar lovers. i was part of maurya at initial stage and now working at Mahua, but i am happy for maurya tv.

mujhe khushi hai ke jis channel se juda wo achha kar raha hai...meri aur se maurya pariwar ko bahot badhai..yuva netritva se nayi disha milne ki puri ummed hai..

cheers.
...
written by bajpai, February 04, 2011
Namaskar Mitron!
Mujhe lagta hai shreeman Biharibabu kuchh purvagrah se grasit hain. Ye main aapke kai anawashyak comments padhne ke baad bol raha hoon. agar bihari samajhte hain apne aap ko to bihar se prem kare aur bihariyo se bhi. ek channel jisne etne bihar se jude logo ko ek pehchan naam diya hai..usski ezzat karen aur usko chalane walo ki bhi..
warne aasman ki taraf thook fekne se aapke muh pe girega.
aasha hai samjh aa gai hogi aapko..aur agar fir bhi na samjh aaye to kisi manorogi se milen..
maurya ko shubhkamna..aur badhai..
prakash ji aur channel se jude samast logo ko meri subhkamna..
...
written by Rahul, February 04, 2011
Meri Hardik Shubhkamna Maurya Parivar ko!!

Es shubhkamna main sab logo ko shamil bhi hoana chahiye, Pata nahi kuchh "nakaratmak" parvriti wale lo esse upsar bhi aa payenge ke nahi..
Soch hona aur sakar karna dono main bahot fark hai Bihari babu. aap manish ji ke alochak kam aur mukesh kumar ke chaplus zada lagte hain..apni aadat se baaaz aaye warna jindagi bhar yehi karenge..! aur aise bhi kehte hain hathi chale bazar to kutte bhoke hazar!!!ummdes hai aapko khuda akal ata farmaye.bihari babu"--
...
written by bhaskar singh, February 02, 2011
ye bat bilkul sahi hai sirf ek sal me itna age jana bahut hi sarahaniya hai.meri lakh lakh badhai
...
written by madan kumar tiwary, February 02, 2011
यह सही है की क्षेत्रिय चैनलों में मौर्य का प्रदर्शन अच्छा रहा लेकिन एक नेताओं के बंगले पर जाकर उनसे बातचीत करनेवाला कार्यक्रम चमचागिरी लगता है । बेतुके सवाल जिनका संबंध सिर्फ़ नेताओं को हाई लाईट करने से है , पुछा जाता है , उसमें , बिहार विधानसभा अध्यक्ष से बातचीत करते देखा । उनको महात्मा गांधी दिखाने में कोई कसर नही छोडी मौर्य के उस लडके ने । जबकि प्रश्न उनके विधानसभा क्षेत्र में फ़ैले नक्सलवाद, राजेश कुमार हत्याकांड की जांच में देर और नक्सलियों से सांठगांठ से जुडे हुये होने चाहिये थे । शायद नीतीश के दुबारा जितने के बाद मौर्य भी नीतीशमय हो गया है । एक एनडीटीवी भी एक महिला हरिजन विधायिका को महान साबित करने के लिये प्रोग्राम बनाने में जुटा है । जबकि उक्त विधायिका न सिर्फ़ एक मंत्री की परिवार हैं बल्कि एनजीओ के माध्यम से अच्छी खासी रकम की मालकिन भी है। रह गई भुत प्रेत की बात तो उसके लिये आजतक काफ़ी है , सब वही दिखाने लगेंगे तो दर्शक डर के मारे टीवी देखना बंद कर देगा ।

Write comment

busy