अब जनता से वसूली करेगा टीवी99!

E-mail Print PDF

नागौर : राजस्‍थान का प्रथम सेटेलाइट न्‍यूज चैनल टीवी99 ने अब नया कार्ड खेला है. जयपुर मे सभी गरीब पत्रकारों को भुलाकर एक कार्यक्रम आयोजित कर नए पत्रकारों के जरिये अब ग्रमीण जनता से 5000 रूपये आजीवन सदस्‍यता शुल्‍क के रूप में लेने की तैयारी कर रहा है. चैनल के मेट्रो एडीटर ब्रिजेश ने इसी को ध्‍यान में रखकर ग्रामीण क्षेत्रों में आपकी आवाज नाम से कार्यक्रम कर रहे हैं, ताकि पैसे वसूलने की योजना का जाल बिछाया जा सके.

सवाल यह है कि चैनल ने ग्रामीण पत्रकारों को 18 माह से वेतन नहीं दिया है. चैनल ने आईडी के नाम पर पत्रकारों से पहले ही 35000 रूपये ले लिया है. अब नए फार्मूले के तहत प्रत्‍येक पत्रकार को अपने क्षेत्र से 50 सदस्‍य बनाकर चैनल को 5000 प्रति सदस्‍य के हिसाब से पैसे देने होंगे. क्‍या यही है राज्‍ास्‍थान में पहले चैनल की पत्रकारिता -जो गरीब पत्रकारों का मानसिक और आर्थिक शोषण कर रहा है. जिला मुख्‍यालय सहित बीकानेर, जोधपुर, कोटा, अजमेर, जयपुर संभाग पर केबल पर चैनल पिछले एक साल से दिखाई नहीं दे रहा.

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.


AddThis
Comments (18)Add Comment
...
written by aspak abbasi, March 29, 2012
yh bat galat hai me tv99 ka sawai madhopur ka reporter hu tv99 pak saf he
...
written by rajeev, April 23, 2011
very gud aachha paryas hai aap ka bhadas 4 media . com
...
written by raju, March 21, 2011
ye kahe ka channel h, or kai blakmaliye jinki dukane band ho gayi vo 35000 dekar ID le aye or chor ban gaye patrakar, ab jo channel 3500 lekar ID de raha h usse or unke ptrakaro se kya ummid karoge aap, ye aajkal rajyabhar me talk show karwa rahe or dusre patrakaro ko pata nahi lagne dena chahte, is talk show ke naam par 70000 to hamare shahar se hi le gaye ye channel wale.
...
written by kishor, March 03, 2011
tv 99 ne gujarat ke banaskantha ke deesa city me bi ek nagar palika ke copretr se 50,000 lekar bana diya repotr. aaj tak uski ek bi story tv99 pe nahi aayi. vo tv99 ke nam pe vepari or adhikario se diwali magta firta he or darata he.

aisi chennle or repotr ki vajah se hi banaskantha badanam huva he.
...
written by un known, February 16, 2011
TV 99 NE MERE SE B 35000 RUPAIYE MANGE THE. MERE KO B PATRAKAAR BANANA THA TO MENE 25000 HAJAR ME BAT GOPAL G SE SET KI AOUR ME B PATRKAR BAN GAYA. NEWS B BHEJANE LAG GAYA LEKIN DHIRE DHIRE GOPAL G PHONE PAR ADVERTISMENT KA TARGET DE DETE H... MERE KO TV 99 SE AAJ TAK KUCH B RETURN NAHI MILA H... AAP SAB BATAO MERE KO KYA KARANA CHAHIYE?
...
written by nandan rathore, February 05, 2011
hhhhhhhhhh
...
written by nandan rathore, February 05, 2011
abe yahi baki rahe gaya hai aam janta ko jahea sabhi loote rahe hai to to tv99 kyo piche rahe.......... anchar to thik bitho jo khabar ko thik tarah padana jante ho
...
written by ex REPORTER TV 99, February 03, 2011
JIS TARAH SE AISE CHANNEL WALE KAR RAHE HAIN USSE LAGTA HAI KI PATRKARITA KA PATAN HO RAHA HAI . TV 99 MAIN MAINE BHI KAAM KIYA HAI MUJE NAHI PATA THAA KI IS CHANNEL KI HALAT YE HO JAIGI . MUJE YAAD HAI KI JAB MERA INTERVIU MANOHARM MOJIJ NE LIYA THAA JO KAREEB EK GHANTE TAK CHALA THAA AUR PHIR MUJE FINAL KIYA THAA US WAQT REPORTER SE PAISE LNE DENE KI KOI BAAT NAHI HUI AUR NA HI BAAD MAIN TAB REPORTER BINA PAISE HI LE RAHE THEE PAR AAJ SAYAD SIRF PAISE KE LIYE HI REPORTER LIYE JAATE HAIN BINA INTERVIU KE .JO BHI NAYE REPORTER LYE GAYE HAIN WO PATRKAAR HAIN YA NAHI YE BHI EK SAWAL HAI KYUNKI JO PAISE DE KAR ID LE RAHE HAIN UN PAR SAQ KARNA BHI LAJMI HAI.TV 99 KI JO HALAT HAI WO AUR BHI JYADA KHARAB HOGI AGAR UNHONE AAM JANTA SE PAISE LE LIYE .. BRIJESH JI,GOPAL G ACCHE LOG THEE PAR SAYAD KUCH JYADA HI IGO HAIN IN LOGO MAIN INKO SAYAD PATA NAHI KI AKKAL JYADA UMR LENE SE NAHI AATI ... AAM JANTA SE PAISE LENE KE ALAWA BHI KAI AUR RAASTE HAIN CHANNEL KO NUKSAAN SE BACHANE KE PAR SAYAD YE LOG KUCH JYADA UDHIMAAN HAIN AUR APNE SE CHOTI UMR KE LOGO KI SALAH BURI LAGTI HAI ...AISE SINIOR LOG HI PATRKARITA KO AGAR BADNAM KARENGE TOH HUM JAISE LOGON KA KYA HOGA
...
written by sarathi, February 03, 2011
विनाश काले विपरीत बुद्धि। इस संसार में कुछ चीजों का पतन उनके शुरुआत से ही निश्चित हो जाता है। टीवी99 जैसे कई चैनल इस समय पत्रकारिता के नाम पर बदनुमा दाग़ बन चुके है। कुछ का परिणाम हम देख चुके हैं और कुछ का अभी देखना बाकी है। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि बिना मुनाफ़े के किसी भी संस्थान को चलाया नहीं जा सकता। इसके लिए प्रयास भी होने चाहिए। लेकिन साध्य और साधन दोनों की शुचिता बेहद ज़रुरी है। इस चैनल की नीयत शुरुआत से ही ठीक नहीं रही है, जिसकी वजह से पतन इसकी नियति बन चुकी है। और इस बात को बेहद अफसोस है कि आखिर में नुकसान इस चैनल में काम करने वालों को ही उठाना पड़ेगा। उच्च पदों पर बैठे लोगों को इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता है। तनख्वाह इतना कम और उसके लिए भी कई महीनों इंतज़ार करना प़डता है। कर्मचारियों का शोषण करने में इनके सीईओ और डायरेक्टर को तो महारथ हासिल है लेकिन टीवी पत्रकारिता की एबीसी़डी भी नहीं आती। चैनल में चलने वाले कार्यक्रमों को देखकर इस बात का अंदाज़ा लगाया जा सकता है। सीईओ को तो हिंदी आती ही नहीं है डायरेक्टर का टीवी पत्रकारिता का ज्ञान शून्य है। और इसी का फ़ायदा उठा रहे हैं चैनल में काम करने वाले दो चंगू-मंगू(नाम लेना उचित नहीं है लेकिन चैनल में काम करने वाले समझ रहे होंगे)। और इस चैनल की दुर्दशा के लिए ये(व्यास- पाल) ही पूर्णतः ज़िम्मेदार हैं। शर्माजी और मनोहरन साहब अगर राजस्थान के पहले सैटेलाइट चैनल का दुःखद अंत नहीं देखना चाहते हैं तो इंहे जल्दी निकाल बाहर कीजिए। नहीं तो आपको सिरफिरा बादशाह मुहम्मद बिन तुगलक कहना गलत न होगा। चैनल और इसके कर्मचारियों के प्रति मेरी ढ़ेर सारी शुभकामनाऐं। चैनल के मालिकों को परमपिता परमेश्वर सदबुद्धि दें। smilies/cool.gif
...
written by Kapil , February 03, 2011
are malik
sirf gramin patrkaro ko hi paisa nahi mila ho esa nahi he, shahri patrkaro ko bhi nahi mila. wese me kabhi kisi ke samne is channel ki baat nahi karta hu lekin aaj mera bhi man is khabar par coment likhne ka ho gaya. wese mene ab is channel ke adhikariyo se bhi paiso ke bare me baat karni chod di he kyunki mujhe pata he ki paise to aane nahi he phir phone ke paise bhi kyu bigadu. aapko bata du ki ek saal se bhi adhik samay ki meri salary baaki he. mujhe udaipur me bataur bureau chief lagaya tha. shuruati daur me to sab thik tha lekin dheere dheere managment esa bigda ki channel ke hi banta dhar ho gaya. meri har special story par channel se badhai aur weldone jaise coment aate the bas paise hi nahi aate the. ab is khabar ko dekh kar to lagta he ki mene kaam band kar achha kiya kyunki me to khalis patrkaar hu blackmailing kar logo se paisa lena to mujhe aata nahi phir ese me main kaise logo se 5000 rupaye ikathe karta.
kapil shrimali, udaipur
...
written by sarathi, February 03, 2011
विनाश काले विपरीत बुद्धि। इस संसार में कुछ चीजों का पतन उनके शुरुआत से ही निश्चित हो जाता है। टीवी99 जैसे कई चैनल इस समय पत्रकारिता के नाम पर बदनुमा दाग़ बन चुके है। कुछ का परिणाम हम देख चुके हैं और कुछ का अभी देखना बाकी है। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि बिना मुनाफ़े के किसी भी संस्थान को चलाया नहीं जा सकता। इसके लिए प्रयास भी होने चाहिए। लेकिन साध्य और साधन दोनों की शुचिता बेहद ज़रुरी है। इस चैनल की नीयत शुरुआत से ही ठीक नहीं रही है, जिसकी वजह से पतन इसकी नियति बन चुकी है। और इस बात को बेहद अफसोस है कि आखिर में नुकसान इस चैनल में काम करने वालों को ही उठाना पड़ेगा। उच्च पदों पर बैठे लोगों को इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता है। तनख्वाह इतना कम और उसके लिए भी कई महीनों इंतज़ार करना प़डता है। कर्मचारियों का शोषण करने में इनके सीईओ और डायरेक्टर को तो महारथ हासिल है लेकिन टीवी पत्रकारिता की एबीसी़डी भी नहीं आती। चैनल में चलने वाले कार्यक्रमों को देखकर इस बात का अंदाज़ा लगाया जा सकता है। सीईओ को तो हिंदी आती ही नहीं है डायरेक्टर का टीवी पत्रकारिता का ज्ञान शून्य है। और इसी का फ़ायदा उठा रहे हैं चैनल में काम करने वाले दो चंगू-मंगू(नाम लेना उचित नहीं है लेकिन चैनल में काम करने वाले समझ रहे होंगे)। और इस चैनल की दुर्दशा के लिए ये(व्यास- पाल) ही पूर्णतः ज़िम्मेदार हैं। शर्माजी और मनोहरन साहब अगर राजस्थान के पहले सैटेलाइट चैनल का दुःखद अंत नहीं देखना चाहते हैं तो इंहे जल्दी निकाल बाहर कीजिए। नहीं तो आपको सिरफिरा बादशाह मुहम्मद बिन तुगलक कहना गलत न होगा। चैनल और इसके कर्मचारियों के प्रति मेरी ढ़ेर सारी शुभकामनाऐं। चैनल के मालिकों को परमपिता परमेश्वर सदबुद्धि दें।smilies/cool.gif
...
written by ram bharose, February 03, 2011
tv 99 k bare mai likhane wale uss musal ko ya pata nahi ki jis ki thali me khata hai usi mai hole karte hai. jisne paida kiya namakool ne usi ko bhula diya. kal ko wo apni maa ko bhi gali nikal sakta hay.
...
written by unknow, February 02, 2011
SAB ETV NAHI BAN SAKTE, ETV KE MUKABLE KA SAPNA DEKHNA ASSAN HAI OR PURA KARNA MUSHKIL.
...
written by madhup, February 02, 2011
टीवी 99 की शुरुआत बहुत ही अच्छे तरीके से हुई,लेकिन जैसे जैसे अक्षम लोग इसके अधिकारी बन ने लगे यानी की राजस्थान विधान सभा के बाद से ही उन अक्षम लोगों ने अपनी अक्षमता दिखाते हुए एक बढ़िया गति प्राप्त करने से पहले ही इसकी मिटटी पलीत करने की शुरुआत कर दी.और बाद में ये हाल हो गया की लोग इसे शनेह शनेह भूलने लगे है और एक दिन इसे भी जैन टीवी की तरह विस्मृत कर दिया जाएगा.यद्यपि इसे शुरू करने वाले लोग बहुत ही अच्छे और नेक नियत के है मेरे मन में उनके प्रति आदर भाव है,इसी लिए मुझे इसके हस्र को देख के दुःख होता है.वैसे में भी इस राजस्थान के प्रथम सेतेलईट चैनल का हिस्सा रहा हु और मुझे आज भी गर्व हगे की में इसका हिस्सा था.
...
written by mukesh sundesha, February 02, 2011
jankar bada hi dukh hua ki ab akhbar valo ke bad ye t.v. vale bhi aamjan se paysa dakaregi ...
aajkal media valo ko ho kya gaya hai

...
written by sanyogitakumari, February 02, 2011
रामोजी राव बने धृतराष्‍ट्र। कातिल दद़दू बने दुर्योधन। पीवी नरेंद्रा, राजेश रैना काट रहे मलाई। कंपनी बनी धर्माथ कार्य मंत्रालय। प्रमुख सचिव बने बापीनायडू। जाय देयो भैया किके आग रोना रोवा जाए। मरै देव
...
written by sanyogitakumari, February 02, 2011
रामोजी राव बने धृतराष्‍ट्र। कातिल दद़दू बने दुर्योधन। पीवी नरेंद्रा, राजेश रैना काट रहे मलाई। कंपनी बनी धर्माथ कार्य मंत्रालय। प्रमुख सचिव बने बापीनायडू। जाय देयो भैया किके आग रोना रोवा जाए। मरै देव
...
written by sanyogitakumari, February 02, 2011
AGAR YE PATRAKARITA HAI,TO IS STAMBH KO GIRA DENA CHAHIYE...BAHOT HO GAYA AB,GALICH LOGON KI ENTRY NE SAB KUCH KHARAB KAR KE RAKH DIYA...SACHCHE PATRAKARON KO AB KUCH AUR TALASH LENA CHAHIYE///// YE MEDIA KE KUTTE,AB CHARON AUR FAIL RAHE HAI...

Write comment

busy