लालटेन की रोशनी में पढ़ा जा रहा न्‍यूज बुलेटिन

E-mail Print PDF

नेपालनेपाल में कांतिपुर टीवी में शाम का एक बुलेटिन लालटेन की रोशनी में पढ़ा जा रहा है. चैनल ऐसा करके देश में बिजली की कमी की तरफ सरकार का ध्‍यान आकृष्‍ट कराना चाहता है. इस महीने के शुरुआत से कांतिपुर टीवी ने यह प्रसारण चालू किया है. चैनल शाम को सात बजे के अपने आधे घंटे का बुलेटिन सिर्फ लालटेन की रोशनी में पढ़वा रहा है.

चैनल से जुड़े सूत्रों का कहना है कि वह ऐसा करके वह बिजली कटौती की समस्‍या के हल के लिए दबाव बना रहा है. उल्‍लेखनीय है कि इस समय चार लाख से ज्‍यादा छात्र परीक्षाओं की तैयारियों में लगे हैं और उन्‍हें बारह घंटे बिजली कटौती का सामना करना पड़ रहा है. जिसके बाद चैनल ने लालटेन में बुलेटिन पढ़वाने का कदम उठाया है.


AddThis
Comments (7)Add Comment
...
written by vishal, February 22, 2011
bahut acchai koshish hai.
...
written by anil nagle, February 21, 2011
kantipur tv ne jis prabhavkari dhang se bijli ki ho rahi pareshani ko samne laya hai bahot hi sarahniya hai. ek anootha tarika hai janta ki parashani ko sarkar ke samne lane ka . jiaka bhi ye idea tha us person ko bahot bahot badhai ..... ek idea .... ek soch.... keep it up .... very impresive
anil nagle
...
written by sushil shukla,shahjahanpur news-24, February 20, 2011
bahut acchai koshish hai.
...
written by CM Raman, February 11, 2011
Dil bag bag ho gaya yeh news dekh kar kas India ke news channel bhi inse thodi nasihat le lete to achha hota,
...
written by जय कुमार, चक्रधरपुर (झारखण्ड) , February 07, 2011
नेपाल के कांतिपुर टीवी को हमारी और से ढेर सारी शुभकामनाएँ ..........
अपने इस प्रकार की पहल कर मिडिया जगत को एक नई दिशा में चलने की नसीहत दी है. जो स्वागत योग्य है.
...
written by anil purohit, February 05, 2011
nepal jese chhote se desh se indian media ko bhi shikh lena chahiye . yakinan jyada bijli bachegi
...
written by JITENDER SAHARAN, February 05, 2011
दीपक जी बहुत-बहुत बधाई. हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं . उम्मीद है की जिस तरह से आपने पिछले दिनों सरकार के पत्रकारिता पुरस्कारों की सचचाई सामने लाई थी, ठीक उसी तरह आप अब नाटकों के माध्यम से सामाजिक कुरीतियों पर प्रहार करेंगे.
जितेन्द्र सहारण

Write comment

busy