Mr Pratap Rao send my personal expenses

E-mail Print PDF

Mr. Pratap Rao , As per the resignation given on 12 Dec. 2010 to Honourable Sunita Shekhawat mam I didn't get any response yet , regarding the due salary / expenses from HBC News channel. As per the telephonic conversation you have told me to send the details of due salary / expenses. During interview the settlement of salary / expenses with Mr. Veer Saxena and Mr. Gaur , I am sending the due salary / expenses  details from 26 Aug. 2010 to 12 Dec.2010.

These   are my personal expenses which has been spend on the meetings and other requirements of HBC News Channel . So , kindly send my personal expenses as soon as possible.

With regards

Anil Saxena


AddThis
Comments (7)Add Comment
...
written by sam, July 02, 2011
arrae bhaiyo kiska paisa aya hai aaj tak hbc mein jo ab aiga log mangte reh jaienge in logo ke juh bhi nai raengti
...
written by jagdish prajapti haryana , April 15, 2011
sir ji aap ne sahi likha h jo log kisi ke ho nahi sakte bah log dosro ko kisi ka hota nani dhekh sakte jo log nikme hote h bah log dusro ki nida chugli hi kar sakte h
...
written by anil, February 12, 2011
Fake ID Valo ke liye ye mera last comment hai . lakin HBC ka aur dusro ka sahi naam,pahchan aur sahi post se comment aaye ga to me unka jarur jawab dunga.

apne aap ko HBC ke sammanit sadsya kahne vale mere matrik paas insaan aagar tum HBC ki taraf se likh rahe to apna sahi naam,pahchan aur post se comment likhna . binduwar jawab milega .
sammanit sadasya english bhi sikhna jis se pata chale ki mene isse pahle kya likha tha ? aap ye baat to pad pa rahe ho ?

sammanit bhai kya tum bina salary ke kam kar rahe ho ? kya patrkar hone ka matlab dusro ke aadhikar ke liye ladna he ? hum patrkaro ka shoshan hota rahe ? Kya apne aadhikaro ke liye aawaj uthana galat hai ? hum patrakar aapna GHAR kaise chalaye ? mujhe HBC se kuch lena dena nahi he bus meri due salary de do .

aur parvarish ki baat karni he to bhai bataya na ki sahi naam se comment karna . Jis se me comment likhne vale ke bare me jan saku aur binduwar jawab de saku .bhai me bhi patrkar hu aur aasani se galat insano ka picha nahi chorta …….binduwar question ka answer binduwar jarur deta hu. Lakin inssan ki sahi hesiyat to pata chale.

chamcha giri choro, galat naam ki ID se mail karne valo ka bhi pata chal jata he . dhyan me rakhna . aur sahi comment hi karna , mai galat hunga to jarur hami bharunga aur jawab de kar apna paks rakhunga .
lakin mere patrakar mitro kya apni salary mangna galat he ? Kya mene abhi tak, koi bhi galat comment kisi bhi inssan ke liye kiya hai? jab maine sammanit shabdo se apni salary hi mangi hai to kyokar ye galat namo se comment kar rahe hai , jiska sachai se kuch lena dena nahi hai .ye sab only camchagiri hi lagti he . kya ye inka culture hai? ………….

lakin fake ID valo ke liye mera ye last comment .
...
written by anil, February 12, 2011
galat naam aur fake ID se comment karne valo agar aarop lagana ho to sahi naam se lagana jise se jawab mil sake.
sammanit sadasay english aati he ? mene jo likha tha pata he kya likha tha ? bhai mere matrik pass mene kahi bhi Respected Sunita mam ke liye galat nahi likha . kyo besirper ka comment kar rahe ho ya HBC Channel ne comment karne ki hi duty lagai he ? Rahi Respected Sunita mam ki ID ki baat to bhai Respected Sunita mam ne hi aapni ID face book se lekar kai jagah likhi hui he . aur aab comment karna to aapne naam se karna . jis se mujhe pata chale ki me kis hesiyat vale se baat kar raha hu . ek baat aur tum log baar baar kyo Respected Sunita mam ka naam uchal rahe ho ? Kya tum logo ki hi rajniti to nahi he Respected Sunita mam ko vivado me lane ki ? Kya tum bina pagar ke kam kar rahe ho ? arey bhai agar patrkar ho to patrkar ka dukh bhi samjho . . chamchagiri choro .
...
written by SADASYA-HBC NEWS., February 12, 2011
मेरे पत्रकार मित्रों,
कई दिनों से एचबीसी न्यूज़ के बारे में ऊलजुलूल लिखने का जो नाटक कई लोगों ने कर रखा है उसे तो आप समझ ही गए होंगे.कुछ लोग जो इस चैनल में सिर्फ इसलिए आये थे की उन्हें कहीं कोई झेलने वाला नहीं था.उनकी बदहाली के दिनों में एचबीसी ने उनका साथ देते हुए उन्हें अपने यहाँ मौका दिया.लेकिन ऐसे लोग अपनी हरकतों से कभी बाज़ नहीं आते और जहां जाते हैं वहीँ गन्दगी फैलाना शुरू कर देते हैं.वही लोग हैं जिन्हें एचबीसी ने हटा दिया है और वे अब खिसियानी बिल्ली खम्बा नोचे वाली हरकत पर आ गए हैं और यहाँ के प्रबंधन पर उंगलियाँ उठा रहे हैं.इनमे से कई लोग ऐसे हैं जिनका इतिहास पत्रकारिता को बदनाम करना रहा है और ब्लैकमेलिंग कर इन लोगों ने कई लोगों को परेशान किया है.इस पवित्र पेशे को अपने स्वार्थ के हथकंडों के लिए इस्तेमाल किया है.और अब वे यहाँ भी यही करना चाहते थे.यही कारण है की एचबीसी ने इन सबको नमस्कार कर दिया है.जिन लोगों ने भंवर में फँसी नाव को किनारे पर लाने का काम किया वही इन्हें पसंद नहीं आ रहा है और ये लोग आरोप लगा रहे हैं यहाँ के आलाअधिकारियों पर जो सब अपने आपमें मीडिया की जानी मानी हस्तियाँ हैं.उन पर इस तरह के आरोप लगाना ओछी मानसिकता को प्रदर्शित करता है.असल बात ये है की इन सब घटनाओं के पीछे एक विशेष समूह काम कर रहा है जो एचबीसी न्यूज़ को आकाश की ऊँचाइयों तक नहीं पहुँचने देना चाहता.इस तरह की ओछी मानसिकता का प्रतीक आपने एक महिला की ईमेल आईडी को सार्वजनिक होते हुए देख ही लिया होगा जो इन लोगों ने किया है.जो लोग किसी महिला की इज्ज़त नहीं कर सकते हैं वे कितने शरीफ होंगे इसका अनुमान आप लगा ही सकते हैं.अपने बकाया वेतन के लिए जिस हद तक ये लोग चले गए हैं उससे भी स्तर का पता चल जाता है.लेकिन भड़ास के समस्त पाठक समझदार हैं,सब समझते हैं और ये यशवंत जी का पोर्टल है किसी ऐरे गैरे का नहीं. यहाँ अपनी बात कहने का सबको अधिकार है लेकिन ये अधिकार नहीं है की किसी महिला का चरित्र हनन किया जाए और इतने निम्न स्तर पर उतरा जाए.ये पत्रकारिता है राजनीति नहीं है जहाँ कोई स्तर नहीं होता.
प्रेषक
एचबीसी न्यूज़ का एक सम्मानित सदस्य.
...
written by just 4 you, February 12, 2011
hbc ke sammanit sadashy g phele aap to apna naam batao fir hum batatai hai ki kon kitna sammanit hai kyoki duniyan se hakiket chupi hui nahi hai or hbc se jane vala kabi loutker vaha nahi aayega ensaan galti ek baar kerta hai baar baar nahi
...
written by SADASYA-HBC NEWS., February 11, 2011
मेरे द्वारा लिखे गए कमेन्ट पर एक साहब ने जवाब दिया है और मुझे कई नसीहतें दी हैं.लेकिन भाई अपना नाम ज़ाहिर करने में आपको क्या बुराई नज़र आ रही थी.कई दिनों से एचबीसी प्रबंधन के खिलाफ लिखने कि साजिशें जो रची जा रही हैं उनमे कोई दम नहीं है और लिखने वाले अपने मानसिक स्तर का ही परिचय दे रहे हैं.उदयपुर के एक साहब जो ब्यूरोचीफ के पद पर कार्यरत थे उन्होंने तो बेशर्मी कि हद ही पार दी.एक महिला के ईमेल आई डी को सार्वजनिक करके शायद वो ये बताना चाहते हैं कि उनकी परवरिश किस तरीके से हुई है.मै उनसे पूछना चाहता हूँ क्या अपने घर कि किसी महिला का मेल आईडी सार्वजनिक करेंगे.हर महिला सम्मान कि पात्र होती है और अगर कोई पत्रकार होकर भी महिला का सम्मान करना नहीं जानता तो उसे पत्रकारिता छोड़ देनी चाहिए.सिर्फ दूसरों को उपदेश देना ही काफी नहीं है बल्कि पहले ख़ुद उस पर अमल करने कि ज़रुरत है.क्या आप बताएँगे अनिल सक्सेना साहब कि आपने अपने कार्यकाल के दौरान ख़बरें कितनी भेजी.चैनल को क्या दे दिया कि अब आप शिकायतों का अम्बार लगाने लगे.कुछ तो शर्म करें.एचबीसे न्यूज़ को किसी के कुछ लिखने से कोई फर्क नहीं पड़ता है और हम किस तरह से काम करते हैं और जनता में हमारा क्या असर जाता है ये आने वाले एक साल में देख लीजियेगा.हम बता देंगे कि चैनल किस तरह से चलता है.इसके लिए हमें विश्वास तोड़ने वालों को अपने विश्वास में लेने कि ज़रुरत नहीं है और ये भी चैनल के हित में ही है कि ऐसे लोग ख़ुद ही चले जाएँ ताकि हम अपने मकसद को पूरा कर सकें और आने वक्त में ऐसे लोग फिर से चापलूसी कर वापस आने का प्रयत्न करेंगे.ये हमारा वादा है.
प्रेषक
एचबीसी न्यूज़ का एक सम्मानित सदस्य.

Write comment

busy