ईटीवी उर्दू में बाहरी व्यक्ति के घुसपैठ पर मचा बवाल

E-mail Print PDF

ईटीवी उर्दू में आजकल एक अजीब मामला छाया हुआ है. इस मामले के कारण दूसरों के चैनलों की पंचायत करने वाले राजेश रैना खुद के चैनल में हो रही पंचायत से परेशान हैं. मामला वाराणसी के उर्दू रिपोर्टर सैयद फरहान से जुड़ा है. बनारस में ईटीवी उर्दू का कंपनी कैमरा लेकर बाहर का एक पत्रकार कांग्रेस के बुनकर सम्मेलन को कवर कर रहा था. कैमरा लेकर शूट करते हुए उसकी तस्वीर अमर उजाला समूह के टैबलायड अखबार कांपेक्ट में फ्रंट पेज पर छप गयी.

बात हैदराबाद पहुंची तब से हंगामा बरपा है. कहा जा रहा है कि लखनऊ में न्यूज कोआर्डिनेटर ब्राजेश मिश्रा ने मामले में कार्रवाई की संस्तुति की है तो ब्रांच मैनेजर पीके सिंह मामले को मैनेज करने में जुट गये हैं. बताया जा रहा है कि मामले की जांच के लिए लखनऊ से किसी को वाराणसी भी भेजा गया. चर्चा इस बात की है कि जिस युवक की ईटीवी का कैमरा लिये तस्वीर छपी है, उसे वाराणसी के उर्दू रिपोर्टर ने बचने के लिए जानबूझ कर पहचानने से इंकार कर दिया है लेकिन ईटीवी दफ्तर के कर्मचारियों ने इस बात की तस्दीक की है कि वो युवक उर्दू रिपोर्टर फरहान का खासमखास है और उनके लिए काम करता है. तर्क दिया जा रहा है कि जिस दिन सम्मेलन था उस दिन रिपोर्टर का अवकाश था. लिहाजा उनसे कोई मतलब नहीं. जबकि चर्चा ये है कि रिपोर्टर एक दिन पहले रात में कैमरा अपने साथ चुपचाप ले गया था और उसे भाड़े पर रखे गये युवक को सौंप दिया था.

ईटीवी उर्दू के एक मीडियाकर्मी द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित. इस मीडियाकर्मी ने अपना नाम, पता व पहचान सब कुछ भेजा है लेकिन खुद के नाम का खुलासा न करने का अनुरोध किया है. अगर इस प्रकरण पर कोई सेकेंड ओपिनियन रखता है तो उसका स्वागत है और वो अपनी बात नीचे दिए गए कमेंट बाक्स के माध्यम से या फिर This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it पर मेल भेजकर कह सकता है.


AddThis