भड़ास पर प्रकाशित खबर से एचबीसी प्रबंधन हड़बड़ाया

E-mail Print PDF

: एक स्‍वंयभू चैनल का बैंड बजाने की तैयारी में : भड़ास पर एचबीसी न्यूज चैनल की हकीकत प्रकाशित होने के बाद चैनल का प्रबंधन चौकन्ना हो गया है। कई महीनों से पगार का इन्तजार कर रहे रिपोर्टरों को पहले 11 फरवरी को जयपुर बुलाया गया था। लेकिन भड़ास पर लगातार सच्चाई से अवगत कराते समाचार प्रकाशित होने के बाद प्रबंधन ने भविष्य की रणनीति बनाने के लिए अब 15 फरवरी को रिपोर्टरों को जयपुर बुलाया है।

एचबीसी के रिपोर्टर बताते हैं कि राज्य भर में दो-चार स्थानों पर ही चैनल चल रहा है, जिसके कारण एचबीसी के लिए कवरेज करने में परेशानी आ रही है। रिपोर्टरों को पगार नहीं मिलने के कारण वह रूटीन की खबरें भी भेजने में असफल हो रहे हैं, परन्तु प्रबंधन को तो डेली न्यूज से मतलब है जिसके कारण रिपोर्टरों में असंतोष बढ़ रहा है। स्थिति यह है कि स्क्राल लिखाने वाले जयपुर के बेसिक फोन भी बीच-बीच में बिल नहीं भर सकने के कारण बन्द हो जाते हैं। एफटीपी कभी चलती है तो कभी बंद हो जाती है, खबरें दो चार दिन पुरानी चलती हैं लेकिन प्रबंधन को गुमराह करने वालों के लिए तो आल इज वेल है।

जयपुर के एचबीसी चैनल के सूत्र यह भी बतातें है कि श्री कटटा साहब, एमडी सुनीता शेखावत को गुमराह कर कई सस्थानों से निकाले गए एक स्वंयभू तो और भी कई जगहों से रिपोर्टरों को हटाकर अपने प्यादे स्थापित करने में लगे हैं। यह वही स्वयंभू हैं जो अच्छे रिपोर्टर तो हो सकते हैं, परन्तु किसी चैनल के प्रबंधन का हिस्सा बनने की काबिलियत इनमें नहीं है। और यह एक कुंठित मानसिकता वाले व्यक्ति हैं, जिन्होंने एफटीपी से खबरें भेजना भी एचबीसी से पहले वाले चैनल में काम करते हुए सीखा था।

एचबीसी प्रबंधन को गुमराह करने वाले यह व्यक्ति रिपोर्टरों को हड़काना तो जानते हैं और सही काम करने की सलाह देते हैं, लेकिन आज तक यह स्वंयभू किसी भी रिपोर्टर को एडिटोरियल गाइड लाइन नहीं दे पाए हैं कि रिपोर्टर को इनके हिसाब से कैसे काम करना चाहिए। श्री कटटा साहब, मैडम सुनीता जी अब भी संभल जाओ, क्योंकि यह स्वंयभू एचबीसी का बैंड बजा कर दूसरे चैनल में जाने की तैयारी कर रहा है।

जयपुर से एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.


AddThis