साधना और एस1 न्यूज चैनलों में आग लगने से प्रसारण हुआ ठप

E-mail Print PDF

: साधना के चैनल पटरी पर आए पर एस1 का डब्बा अभी तक गोल : खबर थोड़ी देर से मिली है लेकिन है सौ आने सच. साधना के सभी तीनों न्यूज चैनलों और एस1 न्यूज चैनल में आग से प्रसारण कई दिनों तक ठप रहा. अब भी दिक्कतें जारी हैं और सब कुछ पहले की तरह करने के प्रयास किए जा रहे हैं. साधना न्यूज के बारे में जानकारी मिली है कि शनिवार की सुबह शार्ट सर्किट से आग लगी. आग इतनी भीषण थी कि सारे टेक्निकल इक्विपमेंट जल गए. इससे साधना के सभी चैनलों का प्रसारण ठप पड़ गया.

आनन फानन में कई विशेषज्ञों ने चैनलों को आन एयर करने की तैयारी शुरू की लेकिन कई घंटे लग गए. दोपहर बाद रिकार्डेड टेप चलाने की स्थिति में लोग आ सके, वो भी दूसरे व्यावसायिक प्रसारणकर्ताओं के आफिसों से. देर रात जाकर साधना के एमपी-सीजी रीजनल चैनल को आन एयर किया जा सका और इसी चैनल के कंटेंट में हेरफेर करके साधना के दूसरे न्यूज चैनलों को चलाया गया. अब भी स्थिति ठीक नहीं है. सब कुछ पहले की तरह पटरी पर लाने में वक्त लगेगा. बताया जा रहा है कि साधना की टेक्निकल टीम के कई वरिष्ठ लोगों के इस्तीफे और अन्य कई लोगों के इधर-उधर जाने के कारण भी साधना में आग लगने से प्रसारण को फिर से पटरी पर लाने में वक्त लगा.

एस1 न्यूज चैनल से खबर है कि वहां रविवार को आग लगने से सैटेलाइट से कनेक्ट होने वाला इक्विपमेंट फुंक गया और जिससे ठप हुआ प्रसारण अभी तक चालू नहीं किया जा सका है. तीन दिन बीतने के बाद भी एस1 न्यूज चैनल का प्रसारण नहीं प्रारंभ हो सका है. एक मेल के जरिए आई सूचना में कहा गया है कि अगले तीन दिन भी चैनल के आन एयर होने के आसार नहीं हैं क्योंकि कई महीनों से वेतन न मिलने के कारण चैनल की टीम में कोई उत्साह नहीं है और प्रबंधन भी चैनल को लेकर गंभीर नहीं है. कभी शीर्ष चैनलों में शुमार किया जाने वाला एस1 प्रबंधन की उपेक्षा के कारण आखिरी सांसें गिन रहा है. बताया जा रहा है कि यहां तीन महीने से किसी को सेलरी नहीं मिली है. सैकड़ों स्ट्रिंगर्स के बकाया वर्षों से नहीं दिए जा रहे हैं. कुछ लोगों का कहना है कि चैनलों ने जो उपेक्षा का भाव बना रखा है, उस कारण कर्मियों की निकली आह से आग की घटनाएं हो रही हैं.


AddThis
Comments (9)Add Comment
...
written by S1 Ka purana Employe....., March 17, 2011
Dosto s1 ek bahut hi majboot channel hua karta tha. jiske charche delhi aur ncr ke kone-2 me hote the.... aaj bhi hote hai magar khush hone wali baat nhi. buri bathen hoti hain................Isme Vijay Dixit bhi kya kare..? Is channel ki wat lagane main to iske purane employe ka hi haath hai.... rakesh nigam ki to gand pe laat mar kar nikal diya bt jab tak yeh rajeev sharma is channel main hai yeh channel kabhi sahi nahi chal sakta........

to meri vijay dixit sir se guzarish hai ki plz yeh rajeev sharma ki gand pe laat mar ke nikal do...... jaise usne baki logo ke saath bura kiya hai uske saath bhi yahi hona chahiye............


Dosto agar meri baat acchi lage to meri is moohim ko age le jane me meri madat kare........ smilies/smiley.gifsmilies/cool.gifsmilies/smiley.gifsmilies/cool.gif
...
written by ramu kaka, March 17, 2011
एक फर्जी चिटफंड कंपनी के मालिक को चुतिया बनाकर चेनल में व्ही पी बने बेठे टी एन मनीष शायद बुरे वक्त को भूल गए हे ! जव उन्हें दो जून की रोटी भी नसीव नहीं थी ! और व्ही ओ आई के बंद होने के बाद दर -दर नोकरी मांग रहे टी एन मानिस को साधना न्यूज़ के एस पी त्रिपाठी की कृपा से साधना में नोकरी दी और भूको मरने से बचाया था ! फरवरी २०१० को साधना में आने के बाद फिर अपने पुराने रंग में आ गए ! उन्होंने पिछले नो महीनो में टी एन कहाँ कहाँ नगे हुए हे ये उन्हीके केमेरा मेंन भूपेंद्र से पूछे ! या फिर एक निजी नुर्सिंग कोलेज की छात्रा से पूछे ! टी एन की क्या ओकात हे,ये ग्वालियर का बच्चा-बच्चा जनता हे! सिटी सेंटर के इनकी अय्यासी का अड्डा सब जानते हे ! आज व्ही पी क्या बन गया दुसरे चेनल पर छिटाकसी कश रहा हे ! शर्म आनी चाहिए ................................................................................
...
written by t n manish, March 03, 2011
kya bat in sadhna walo ke sath esa hi ho na chaiye kutte hai sale ye bade adhikari bahut hi kameene hai inhe to nangga kar ke marni chaiye inki to ............................................?
...
written by arun, March 02, 2011
Bahut Hi Badhiya Khabar Hai Bhaiyon Khub Maza Looto..Bahut Hi Achchha Hue In S1 wale Kutton Ke sath Se To Sale Gabbare ke kutton se bhi Kamine Hia

Aapka Mitra
Arun --Noida
...
written by Deepak Kumar, March 02, 2011
चैनल मालिकों संभल जाओ.....अगर कर्मचारी खुश नहीं तो उनकी बददुआएं आपको ले डुबेंगी...और अगर कर्मचारी खुश तो चैनल की तरक्की को दुनिया की कोई ताकत आगे बढ़ने से नहीं रोक सकता.....करोड़ों - अरबों के चैनल मालिक इस बात को क्यों नहीं समझते..गरीब पत्रकारों - कर्मचारियों को उनकी सैलरी टाइम पर दो...देखो वो आपके चैनल के लिए क्या करते हैं......
...
written by amita, March 01, 2011
पिछले दिनों एक एक लगातार गिरे कई सारे इस्तीफों से पहले तो साधना न्यूज़ के दिलों में आग लगी और अब चैनल में आग लग रही है....भगवान मालिक..।
...
written by Narendra , March 01, 2011
Ye Aug kar buzegi bhai ?]
...
written by Deepak, March 01, 2011
arre yaar ab tho band kar do S1 ko kyun itni badduayen le rahe ho yaar
sabko free karo
...
written by alan, March 01, 2011
पहले आजाद, फिर साधना और एस1.....एक के बाद टेक्निकल उपकरणों में आग माजरा क्या है.....बीमा?

Write comment

busy