'न्यूज एक्सप्रेस' में लांचिंग से पहले ट्रेनिंग कार्यक्रम शुरू

E-mail Print PDF

पोलिटिकल चैनल के रूप में 'न्यूज एक्सप्रेस' की लांचिंग कराने की तैयारियों में लगे चैनल के हेड मुकेश कुमार ने स्टाफ को वैचारिक रूप से ट्रेंड करने के मकसद से प्रशिक्षण का कार्यक्रम शुरू कराया है. इसे 'मंथन' का नाम दिया गया है. मंथन में सबसे पहले जाने-माने आरटीआई एक्टिविस्ट अरविंद केजरीवाल को बुलाया गया. उन्होंने मीडिया, समाज और राजनीति को लेकर काफी कुछ बातें कहीं. वे इस बात से खफा थे कि अन्ना का अनशन खबर क्यों नहीं बनी.

अरविंद केजरीवाल मीडिया खास तौर पर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में खबरों के चयन को लेकर खासे रुष्ट हैं. 'न्यूज़ एक्सप्रेस' न्यज़ चैनल के मंथन कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए उन्होंने मीडिया को लोक सरोकारों से जुड़ी खबरों के प्रति असंवेदनशील बताया. केजरीवाल ने इस मौके पर अपने पक्ष को रखते हुए स्पष्ट किया कि समाजसेवी अन्ना हजारे के अनशन की खबर आज टीवी न्यूज़ चैनलों पर जगह नहीं पाती. क्यों? जन लोकपाल के मामले में भी कमोबेश स्थिति यही है. उन्होंने कहा कि आज मीडिया को जनता की भावनाओं और उससे जुड़े मसलों चैनल हेड मुकेश कुमार और आरटीआई एक्टिविस्ट अरविंद केजरीवालको प्रमुखता से उठाने की जरूरत है.

केजरीवाल ने स्पष्ट किया कि जिन हालात से देश गुजर रहा है वहां तटस्थ रहने की कोई गुंजाइश नहीं है. आपको लाइन के इस पार या उस पार खड़ा होना ही होगा. उन्होंने देश में काले धन के मसले को अपराध की श्रेणी में खड़ा किया और कहा कि यह सिर्फ कर चोरी का मामला नहीं है बल्कि यह देश की जनता के साथ किया गया अक्षम्य अपराध है. इसके दोषियों को समाज में खुलेआम घूमने की इजाजत नहीं दी जा सकती. आरटीआई को सामाजिक बदलाव की दृष्टि से एक कारगर हथियार बताते हुए केजरीवाल ने कहा कि अगर कोई मीडिया समूह कोई अभियान छेड़ना चाहे तो हमे उसका साथ देने में खुशी होगी.

टीवी के लिए खबरों के चयन का जिक्र करते हुए उन्होंने घटना का हवाला दिया. उन्होंने बताया कि आरटीआई के जरिये उन्होंने दिल्ली नगर निगम से गरीब बस्तियों में राशन वितरण के बारे में जानकारी मांगी थी. जानकारी मिली तो पता चला कि राशन बांटने में काफी गड़बड़ी की गई है. वह अपनी रिपोर्ट लेकर एक टीवी चैनल के पास गए. पर टीवी चैनल ने उसे दिखाने से इनकार कर दिया. बाद में किसी तरह चैनल वह खबर दिखाने को राजी हुए और उस पर आधे घंटे का प्रोग्राम बना. जब टीआरपी आई तो पता चला कि लोगों ने उस कार्यक्रम को खूब पसंद किया.

मंथन ट्रेनिंग कार्यक्रम में केजरीवाल को सुनते न्यूज एक्सप्रेस के पत्रकार.

केजरीवाल ने कहा कि आयकर की चोरी करना देश में दंडनीय अपराध है, लेकिन आजादी के बाद से आज तक किसी भी व्यक्ति को आय कर की चोरी के आरोप में सजा नहीं मिली है. टैक्स चोरों से महज आर्थिक दंड वसूलकर उन्हें दोबारा चोरी करने के लिए छोड़ दिया जाता है, जबकि दुनिया के कई देशों में इसके लिए नामी गिरामी लोगों को जेल की हवा भी खानी पड़ी है. इनमें प्रसिद्ध टेनिस खिलाड़ी स्टेफी ग्राफ के पिता भी शामिल हैं.


AddThis
Comments (16)Add Comment
...
written by rajanchauhan, May 04, 2011
kya koi jagah milegi
...
written by pankaj kumar verma, April 26, 2011
sir, yah ek behtarin idia hai jis se aap apne sahyogi ko channel quality ko bata sakte hai. Aaj bahut sare news channel aise hai jo bina kisi instruction ke maan jate hai ki unke sahyogi sabhi achhe khaber denge. khabar karne se pahle aap apne sahyogiyo ko yadi bata dete hai to reporter ko kam karne me aasan hota hai . iske liye aap thanks ke patra hai.
...
written by Liyaqat Ali, April 05, 2011
Sir, It is a fine. No any channal not wants created workshop of corresponded except All India Radio and DD News. Somany thanks for it to U.
...
written by raj, March 17, 2011
shyad ye kisi news chhanal ke AIR hone se phle ki jane bali tiyari ka those hissha hi..............
jo amuman bhut se chhanal bilkul nai karte.......
R/sir mukesh jee ko badhai.....
sanjay jbp.
...
written by ameeque jamei, March 07, 2011
Is sandarbh me agar koi media ke dost hindi urdu uchharan aur zabaan ko seekhna chahe to mujhe contact kar sakte hai @ 9953947978..Ameeeque Jamei( Producer Program UNI TV )
...
written by ameeque jamei, March 07, 2011
yeh baat aspasth hai activism ko patrikarita se jodna padega.. yeh ek hi cheez hai.. arvind ki baat se hum sabko sehmat hona chahiye.. rashan pranali me ghapla , kisano adivasi zamino per qabza.. farzi gdp ke aankde.. udarwad ke swiss connection..desh ki daulat ka munsifana batwara na hona yeh desh ke bade masle hai... journalist ka farz hai lipstik make up bhale he kam ho lekin dimaag me yeh ubalte sawaal ka aane wale bhavushya me zaroor jawaab doondha jana chahiye.. jinhe glamor me jana hai filmi duniya me jaake india shining dhoondhe..congrats to News Express team jinhone itni naitikta to dikhai ki arvind ki ankho se uske rozana ki ladai ko janne ka prayas kiya..
...
written by SAHIL KHAN, March 06, 2011
hamari shubh kamna aap ka sath hai / aaj lagbhag sare channel ek hi khabar ke piche hath dho kar pad jate hain sirf N.C.R ki khabar hi dikhate hain news channel ka matlab hr chote bade shahar gaon ki khabar dikhakar ye sabit karen sahi me patrkar desh ka chotha stambh hai / aur sabse khas bat reporter ko kya milta hai jo sare jokhim uthakar news ko report karta hai / jai hind / SAHIL KHAN SANT KABIR NAGAR UP/ REPORTER / 09956688744/09838691466/ [email protected]
...
written by Aashish Jain,Narsinghpur, March 06, 2011
YAHI HAI SAHI KAM KARNE KAA TAREKA.............. LEKIN WO KYA JANE JO AC ME BAITHKAR GYAN KI BAATEN JYADA AUR KAAM KAM KRTE HAIN..........!
...
written by पवन, March 05, 2011
भाई पता तो दे देते...कम से कम resume ही भेज देता
...
written by shoaib khan, March 04, 2011
respected sir, workshop kerke jo kadam apne uthaya hai , yehe kabile tarif hai. har chenal ko isi trehe karna chahiye,,,dhanyvad sir...shoaib khan
...
written by DEEPAK, March 03, 2011
Very Nice Mukesh jee.
...
written by Adhinath jha, March 03, 2011
सराहनीय पहल है। ख़बरों की मंडी में ख़बर की गंभीरता की परख होनी चाहिए।
सभी मीडिया संस्थानों में आज वर्कशाप की जरूरत है।
...
written by shailendra, patna , March 03, 2011
mukesh sir ki pahal theek hai. isse TV NEWS walon ko sabak lena chahiye.
...
written by BIHAR NEWS SE, March 03, 2011
Mukesh g ne jo manthan shuru kiya hai Traning ke liye to hum agrah karna chahenge ki sabko ek patrakar banaye .Desh ki ajadi ke samay ya pahle harak shahro me gine chune patrakar hote the lakin unki lekhni samaj ko sahi disha me jane ke liye prerit karti thi .Aaj karib-karib harek muhalle me patrakar maujud hai bahut dukh ke sath kah raha hun asme se jyadatar apni disha ya dasha ke bare me nahi janate.
...
written by मयंक सक्सेना, March 02, 2011
लगभग सारे समाचार चैनलों को ऐसी ही वर्कशॉप्स की...बल्कि भाषा-व्याकरण और रचनात्मकता की वर्कशॉप्स की भी सख्त ज़रूरत है....
...
written by Rajeev Verma, March 02, 2011
Gre8......

Write comment

busy