ए2जेड के वाइस प्रेसीडेंट ने हजारों रुपये हड़पे

E-mail Print PDF

मनमीत: विज्ञापन के नाम पर लिए थे रुपये : सीईओ ने कहा चैनल का हिस्‍सा नहीं है मनमीत : हौजखास थाने में हुआ समझौता : ए2जेड के न्‍यूज चैनल में मार्केटिंग विभाग में वाइस प्रेसीडेंट के पद पर कार्यरत मनमीत सिंह ने दीपक कुमार नामक व्‍यक्ति का पन्‍द्रह हजार रुपये हड़प लिया है. दीपक ने इसकी शिकायत दिल्‍ली के हौजखास थाने में की थी. जहां दोनों पक्षों में सुलहनामा हो गया. इस दौरान ए2जेड के सीईओ वेद शर्मा भी मौजूद रहे.

दीपक ने बताया कि मनमीत से उसकी मुलाकात जनवरी के अंतिम सप्‍ताह में हुई थी. चैनल पर एक विज्ञापन चलाने की कीमत मनमीत ने 70 हजार रुपये बताया था. विज्ञापन चलाने के लिए उसने 15 हजार रुपये एडवांस की मांग की. जिसके बाद एक फरवरी को वह मुझसे 15 हजार रुपये ले गया कार्ड तथा उसकी रिसीविंग अपने विजिटिंग कार्ड पर दे दी. उसने मुझे आश्‍वासन दिया कि होली बाद आपका विज्ञापन लगा दिया जाएगा. मैं इसके बाद निश्चिंत हो गया. इसी बीच मनमीत ने मुझे कुछ दिन पहले फिर कॉल किया तथा बोला कि मेरी मां का तबीयत खराब है. वह बीएचयू में भर्ती हैं तथा मुझे 15 हजार रुपये की सख्‍त जरूरत है. उसने मुझे एसएमएस भी किया. मुझे उस पर शक हुआ कि इतने बड़े चैनल का वाइस प्रेसिडेंट होकर 15 हजार की मांग कैसे कर सकता है.

इसके बाद मैं ए2जेड चैनल के नम्‍बर पर फोन किया तो यहां से पता चला कि ऑफिस में कई लोगों का भी पैसा लेकर मनमीत फरार हो चुका है. उसके बाद मैंने विजय कपूर से बात की. उन्‍होंने भी उसे फ्राड बताया. इसके बाद उन्‍होंने मुझे कंपनी के सीईओ वेद प्रकाश शर्मा से बात करने को कहा. मैंने जब यह बात शर्माजी को बताई तो उन्‍होंने भी मनजीत की शिकायत की. इसके बाद मनजीत मुझे बार बार फोन करने लगा. उसने कहा कि आपको कई कॉल किया है मैं अब अपनी मम्‍मी के बिना जिंदा नहीं रह सकता. मर जाउंगा. काल रजिस्‍टर में आपका नम्‍बर है आप फंस जाओगे. तुम्‍हें पता है मैं मीडिया से हूं, आपके पास ऑन लाइन सुविधा है आप एसबीआई में गोपी कृष्‍ण सहाय के एकाउंट नम्‍बर 20037875187 में वो पैसे स्‍थानांतरिक करा दें.

मुझे वो बार बार पेरशान कर रहा था, जिसके बाद मैंने ऑन लाइन ट्रांसफर कर दिया. उसने मुझे बताया कि उसे अभी पैसे नहीं मिले हैं. मैंने बताया कि अकाउंट में तकनीकी खराबी है इसलिए पैसा नहीं ट्रांसफर हो पा रहा है. आप रिलायंस दफ्तर आ जाओं आपको पैसे मिल जाएंगे. वो खुद न आकर अपने ड्राइवर को भेजा. उसके बाद मैंने पुलिस को उसी समय इनफार्म कर दिया. ड्राइवर ने मनमीत को बुलाया और और हमलोग हौजखास थाने गए. वहां उसने अपनी गलती स्‍वीकारी तथा बताया कि उसकी मां बिल्‍कुल ठीक है. और आपके दिए पैसे मैंने कंपनी को भी नहीं दिए हैं. इसे आपको एक हफ्ते में दे दूंगा. हालांकि मैंने उसके करियर को देखते हुए मुकदमा दर्ज नहीं कराया, बल्कि समझौता कर लिया.

इस संदर्भ में पूछे जाने पर मनमीत ने बताया कि उसने पहले दीपक से पैसे नहीं लिए थे. इस बार उसे जरूरत थी इसलिए वो पैसे कंपनी के लिए नहीं बल्कि खुद के लिए उधार मांग रहा था. विजिटिंग कार्ड पर रिसिविंग देने के बारे में उसने बताया कि मैंने गलती से विश्‍वास करते हुए दे दिया. अभी मैं ए2जेड में ही कार्यरत हूं.

वहीं ए2जेड के सीईओ वेद शर्मा ने बताया कि मनमीत को चैनल से काफी पहले निकाल दिया गया था. वह पिछले पंद्रह-बीस दिनों से ऑफिस नहीं आ रहा था. उसकी काफी शिकायतें मिली थीं जिसके बाद मैंने उसे निकाल दिया गया था.


AddThis