फिर तो भड़ास से लोगों का भरोसा उठ जाएगा!

E-mail Print PDF

: आर्यन टीवी के आफ एयर होने की खबर आधारहीन : प्रिय यशवंत जी, आपका और भड़ास का प्रशंसक रहा हूँ. कई बार मित्रों ने मेरे बारे में जो कुछ भी लिखा, भड़ास में छपा. मैंने कभी कुछ नहीं कहा. वह एक व्यक्ति के बारे में लोगों की व्यक्तिगत राय थी. उनके अपने अनुभव रहे होंगे. जब आप नियुक्तियां करते हैं तो एक नियुक्ति पर दस लोग नाराज़ भी होते हैं. हर नाराजगी के पीछे एक निजी नजरिया होता है. रखने का हक है. लेकिन जब आप किसी संस्थान के बारे में बतौर खबर कुछ मनगढंत छापते हैं, तो तकलीफ होती है.

आज किसी ने भड़ास पर आर्यन टीवी के ऑफ एयर होने की खबर लिखी और आपने बिना किसी से तस्दीक किये छाप दी. यह उम्मीद हम भड़ास से नहीं करते. कम से कम आर्यन से इस खबर को कन्फर्म करना चाहिए था. पत्रकारिता वैसे ही संकट में है. ऐसी ख़बरों से किसी संस्थान का नुक्सान होता है, यह आप समझते होंगे. खबर देने वाले गुमनाम पत्रकार को अपना नाम देने की हिम्मत नहीं है, पत्रकारिता किस कलेजे से करते होंगे, वही जाने. वैसे भी यशवंत जी, अपना नाम बताने में डरने/शर्माने वालों पर बहुत भरोसा नहीं करना चाहिए. उनकी जानकारी के लिए, अभी स्टाफ की संख्या में कोई कटौती करने के बदले नियुक्तियां की जा रही हैं. अभी दस दिनों में डेढ़ दर्ज़न लोग नियुक्त किये गए और खुद आपने संजय सिंह की नियुक्ति आर्यन में होने की खबर छपी है. नई नियुक्तियों के लिए कार्रवाई लगातार चल रही है. अंगूर कई बार खट्टे भी हो जाते हैं.

बहारहाल, आपकी यह खबर आधारहीन है, शरारती लोगों की खाम खयाली है और सच तीन दिनों में सामने आ जाएगा. मेरा अनुरोध है कि इस खबर का खंडन प्रकाशित करें और आर्यन के बारे में आगे कोई भी आधारहीन खबर न छापें, अन्यथा आपसे और भड़ास से लोगों का विश्वास उठ जाएगा. आर्यन टीवी बिहार/झारखण्ड में गरिमापूर्ण पत्रकारिता की एक महत्वाकांक्षा के साथ आगे बढ़ रहा है. हमे उम्मीद है कि आपका और भड़ास के सुधी पाठकों का पूरा सहयोग इसे मिलेगा.

भवदीय,

गुंजन सिन्हा

चैनल हेड

आर्यन टीवी


AddThis