गाजीपुर के पत्रकारों ने बनाया 'एक्टिव जर्नलिस्‍ट फोरम'

E-mail Print PDF

गाजीपुर जनपद में यूं तो पत्रकारों के कई संगठन हैं और ये सभी संगठन पत्रकारों के हितों के नाम पर अलम्बरदारी कर रहे हैं। ये दीगर बात है कि पत्रकारों के हितों के नाम पर चल रहे इन संगठनों का सबसे महत्वपूर्ण काम आपसी राजनीति, गुटबंदी और खेमेबाजी ही नजर आ रहा है, ऐसे में पत्रकारिता की मुख्यधारा से जुड़े लोग चाहे वो संवाददाता हों, छायाकार हों या जनपद में विभिन्न अखबारों के ब्यूरो चीफ, पत्रकारिता के नाम पर चलने वाले इन संगठनों से किनारा कर अपने कामों में मशगूल बने रहते हैं।

यही वजह है कि पत्रकारों के हितों के नाम पर कुछ गोष्ठियां-बैठक कर तथाकथित पत्रकार संगठन जनपद भर में पत्रकारिता की मर्यादा गरिमा और शुचिता के सामने गम्भीर सवाल खड़े कर रहे हैं। महज आपसी चकल्लस, बेसिरपैर की गुटबाजी और व्यक्तिगत स्वार्थ सिद्धि में पूरी तरह लिप्त इन संगठनों ने आम लोगों को भी गुमराह कर रखा है। ऐसे में गाजीपुर में पत्रकारिता की मुख्यधारा में काम कर रहे लोगों ने व्यवसायिक प्रतिद्वंदिता और प्रतिस्पर्धा को दरकिनार कर एक नई पहल शुरू की है। जनपद में सभी महत्वपूर्ण समाचार पत्रों और मुख्य न्यूज चैनलों के लोगों ने पत्रकारिता की गरिमा और शुचिता के मद्देनजर एक प्लेटफार्म बनाने का निर्णय लिया।

नतीजा एक्टिव जर्नलिस्ट फोरम के गठन की रूपरेखा बनाई गई। जिसमें पत्रकारिता की मुख्य धारा में काम कर रहे लोग शामिल होंगे। इसमें प्रिंट मीडिया से अमर उजाला, दैनिक जागरण, आज, राष्‍ट्रीय सहारा, तथा इलेक्‍ट्रानिक मीडिया से आजतक, महुआ न्यूज, ईटीवी, सहारा न्यूज, इंडिया टीवी जैसे अग्रणी मीडिया संस्थानों से जुड़े लोग (जिनका कार्यक्षेत्र गाजीपुर है) शामिल हैं। एक्टिव जर्नलिस्ट फोरम के गठन का एक मात्र उद्देश्य मीडिया की मुख्यधारा में काम कर रहे संवाददाताओं, छायाकारों एवं विभिन्न मीडिया संस्थानों के ब्यूरो प्रमुखों के हितों की रक्षा के लिए संघर्ष करना और कार्यक्षेत्र में आने वाली विभिन्न समस्याओं का निराकरण करना है।

गौरतलब है कि फोरम में छद्म पत्रकारिता के वेश में अपना व्यक्तिगत हित साधने वालों के लिए कोई जगह नहीं है। ऐसे में जनपद में पत्रकारिता की गरिमा, मर्यादा और शुचिता के साथ मीडियाकर्मियों के हितों की रक्षा करने के लिए फोरम ने अपनी कार्रवाई शुरू कर दी है। राह मुश्किल जरूर लेकिन फोरम से जुड़े लोगों के हौसले बुलन्द नजर आ रहे है। इतना ही नही पत्रकारिता की मुख्यधारा से जुड़े लोगों के एक प्लेटफार्म पर खड़े होने की वजह से बहुरूपिए पत्रकारों की जमात और इनको संरक्षण देने वाले प्राशसनिक और पुलिस अधिकारियों के बीच हड़कम्प नजर आ रहा है। प्रेस विज्ञप्ति


AddThis