दुर्व्‍यहार से नाराज मीडियाकर्मियों ने किया मंत्री का घेराव

E-mail Print PDF

जोधपुर में बायतू विधायक कर्नल सोनाराम ने शुक्रवार को परिवहन मंत्री बृजकिशोर शर्मा की प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों से बदसलूकी की. आरटीओ ने भी पत्रकारों से दुर्व्‍यवहार किया. इस पर नाराज शहर के मीडियाकर्मी डीआरडीओ हॉल में परिवहन अधिकारियों की संभागीय स्तर की बैठक में विरोध जताते हुए धरने पर बैठ गए और परिवहन मंत्री का घंटों घेराव किया. बाद में मंत्री के माफी मांगने तथा आरटीओ के खिलाफ जांच करने के आदेश के बाद घेराव समाप्‍त किया.

इस बीच प्रशासन के अधिकारियों ने कर्नल को माफी मांगने के लिए बुलाने के लिए प्रयास किए, लेकिन वे वहां नहीं पहुंचे. आखिर मंत्री के माफी मांगने और पत्रकारों को बैठक में आने से रोकने व अभद्र व्यवहार करने वाले आरटीओ हरिप्रसाद पिपरालिया के खिलाफ जांच करवा कार्रवाई का लिखित आश्वासन देने पर पत्रकारों ने घेराव व धरना खत्म कर दिया.

परिवहन मंत्री बृजकिशोर शर्मा सर्किट हाउस जनसुनवाई के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे. एक पत्रकार ने मंत्री से सवाल किया जिसका जवाब मंत्री की बजाय कर्नल सोनाराम देने लगे. इस पर पत्रकारों ने उन्हें टोकते हुए कहा कि जवाब आपसे नहीं, मंत्री जी से चाहिए. इस पर उनका पत्रकारों से विवाद हो गया. विवाद इतना बढ़ गया कि कर्नल पुलिस बुलाने और पत्रकारों को बाहर निकालने की बात कहने लगे. मामले के तूल पकड़ने पर परिवहन मंत्री ने कहा कि कर्नल मेरे सहयोगी हैं और जवाब दे सकते हैं.

पत्रकारों से बदसलूकी की जानकारी मिलने पर मीडियाकर्मी विरोध जताने डीआरडीए हॉल पहुंच गए, जहां परिवहन अधिकारियों की संभगीय स्तर मीटिंग चल रही थी. वहां आरटीओ हरिप्रसाद पिपरालिया ने पत्रकारों से अभद्र व्यवहार किया. उन्‍हें अंदर घुसने नहीं दिया गया. मीडियाकर्मियों ने वहां परिवहन मंत्री का घेराव कर दिया तथा धरने पर बैठ गए.

नाराज पत्रकारों ने आरटीओ के खिलाफ कार्रवाई तथा कर्नल सोनाराम के वहां आ कर माफी मांगने की बात पर अड़ गए. पत्रकारों ने कहा कि जब तक हमारी मांगें नहीं मानी जाएंगी तब तक हम पर घेराव खत्म नहीं करेंगे. घटना की जानकारी मिलने पर वरिष्‍ठ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी भी डीआरडीए कार्यालय पहुंच गए तथा पत्रकारों को समझाने लगे.

पत्रकारों से अभद्र व्‍यवहार करने वाले विधायक कर्नल सोनाराम को वहां बुलाने के प्रयास होते रहे, लेकिन वे नहीं आए. आरटीओ पिपरालिया भी काफी देर बाद पुन: वहां पहुंचे और घटनाक्रम पर खेद जताया. बाद में संभागीय आयुक्त व पुलिस कमिश्नर ने कलेक्ट्रेट में स्थित एनआईसी कार्यालय में पत्रकारों के प्रतिनिधिमंडल से बातचीत की. इसके बाद शाम पांच बजे परिवहन मंत्री ने पूरे घटनाक्रम पर खेद जताते हुए माफी मांगी. उन्होंने आरटीओ पिपरालिया के विरुद्ध जिला प्रशासन से जांच करवाकर रिपोर्ट सरकार को भेजने का पत्र जारी किया. इसके बाद मीडियाकर्मियों ने उनका घेराव समाप्‍त किया.


AddThis