भूषण पिता पुत्र का एक और कारनामा, माया सरकार से खूब ली माया

E-mail Print PDF

पुराना बवाल खत्म नहीं हो रहा है कि नया बवाल शुरू हो जा रहा है. ताजी खबर यह है कि शांति भूषण प्रशांत भूषण फेमिली प्राइवेट लिमिटेड ने यूपी की मायावती सरकार से भरपूर माया दबाया है. इन पिता-पुत्र ने करीब सात करोड़ रुपये के दो फार्महाउस मार्केट रेट से करीब वन फोर्थ सस्ते में झटक लिया. और, माया सरकार ने माया हस्तांतरण का ये कारनामा अपने विवेकाधीन कोटे से किया है. इस नए घटनाक्रम से शांति और प्रशांत की खराब चल रही शांतिपूर्ण जिंदगी में खलल की मात्रा और ज्यादा बढ़ गई है.

कांग्रेस ने तो इनसे जन लोकपाल विधेयक ड्राफ्ट करने वाली समिति से इस्तीफे की मांग कर दी है. आप सभी को याद होगा कि पिछले ही हफ्ते शांति एंड प्रशांत ने अपनी संपत्ति घोषित की थी. इन लोगों ने सूचित किया कि नोएडा में करीब 10 हजार वर्ग मीटर के खेती लायक जमीन का एक प्‍लॉट उनके नाम है. पर इनकी असली पोल खोली अंग्रेजी अखबार 'इंडियन एक्‍सप्रेस' ने. इस अखबार में छपी खबर में कहा गया है कि इन पिता पुत्र ने यह जमीन माया से विवेकाधीन कोटे से मिलने की बात छिपा ली.

माया सरकार ने इसके अलावा शांति के एक अन्य बेटे जयंत भूषण को 10 हजार वर्गमीटर का एक और फार्महाउस दिया. मालूम हो कि जयंत नोएडा पार्क मामले में कोर्ट में मायावती सरकार के खिलाफ केस लड़ रहे हैं. इन आरोपों पर शांति भूषण कहते हैं कि यह कैसे हो सकता है कि जो व्यक्ति मायावती के खिलाफ केस लड़े रहा हो, उसे ही सरकार सस्ती कीमत पर जमीन मुहैया कराए. यदि प्लॉट आवंटन में मनमानी की गई है तो इसे तुरंत रद कर देना चाहिए. 'इंडियन एक्सप्रेस' में छपी खबर पर शांति भूषण कहते हैं कि यह भ्रष्ट लोगों के द्वारा उनके खिलाफ चलाए जा रहे षडयंत्र का एक हिस्सा है.


AddThis