न्‍यूज चैनल के पत्रकारों ने टैंकर हाइजैक किया

E-mail Print PDF

इंडियन ऑयल के हल्दूचौड़ डिपो से रवाना किए गए पेट्रो पदार्र्थों से भरे दो टैंकर हाइजेक कर लिए गए. इस वारदात को अंजाम देने वालों दोनों बदमाशों ने खुद को कथित रूप से टीवी100 और टीवी99 का रिपोर्टर बताया.  फिर चालक-परिचालक को एक लाख रुपए की फिरौती के लिए धमकाया.  विरोध पर जानलेवा हमला बोल हथियारों की नोक पर टैंकर को हाइजैक कर लिया. शिकायक के बावजूद पुलिस ने इस घटना को हल्‍के में लिया.

पुलिस की लापरवाही का फायदा उठाते हुए इन्‍हीं दोनों ने तीन दिन बाद फिर दूसरी घटना को अंजाम दिया. रुद्रपुर की ओर जा रहे दूसरे टैंकर को भी हाइजैक कर मोटी रकम वसूली. टैंकर चालक की तहरीर पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी. प्रारंभिक जांच में घटना में कुछ पुलिसकर्मियों के मिलीभगत के सुराग भी हाथ लगे हैं. एसएसपी ने कहा है कि किसी भी दोषी को बख्‍शा नहीं जाएगा.

पहली घटना पंतनगर थाना क्षेत्र के नगला बाइपास की है. वेल्डिंग वर्कशाप चलाने वाले शकील अहमद ने बताया कि बीते 15 अप्रैल को पूर्वाह्न ग्‍यारह बजे तेल से भरा टैंकर यूके जी- 8811 का चालक वाहन लेकर उसकी दुकान पर वेल्डिंग कराने पहुंचा. सभी लालकुंआ निवासी दो लोग मौके पर पहुंचे तथा खुद को टीवी100 और टीवी99 का पत्रकार बताकर चालक और परिचालक को धमकाया.

विरोध करने पर दोनों ने चालक और परिचालक पर हमला बोल दिया तथा टैंकर स्‍वामी को पेट्रो पदार्थ के अवैध कारोबार में फंसाने की धमकी दी तथा एक लाख रुपए की मांग की. इसके बाद दोनों ने हथियारों के नोक पर टैंकर को हाईजैक कर लिया. आरोप लगाया गया है कि टैंकर को रात भर अपने कब्‍जे में रख कर हजारों रुपए वसूल किए गए. कथित चैनल के रिपोर्टर बाद में टैंकर को ठिकाने लगाने के मकसद से किच्‍छा की ओर ले गए. वहां पंतनगर पुलिस को देखकर टैंकर को हाइवे पर ही छोड़कर फरार हो गए.

इस घटना के बाद इन लोगों ने फिर 18 अप्रैल को भी सुभाष नगर चेकपोस्‍ट के समीप रुद्रपुर जा रहे टैंकर यूपी02-सी-4239 को भी हाइजैक कर लिया. बताया जा रहा है कि इस दौरान चालक-परिचालक को बंधक बनाकर एक लाख रुपये देने का दबाव बनाया गया. इसकी जानकारी टैंकर चालक निसार अहमद ने नगला बाइपास निवासी अपने मित्र जमील अहमद को दी. जमील ने इसकी सूचना कोतवाली में दी, जिसके बाद पुलिस सक्रिय हो गई. इस बीच दोनों फरार हो गए. सीओ ने इस मामले में चालक-परिचालक समेत आधा दर्जन लोगों के बयान दर्ज कर लिए हैं.

सीओ प्रमोद कुमार ने कहा कि प्रारंभिक जांच में टैंकर के हाइजैक होने की पुष्टि हो चुकी है. इस मामले में पुलिस की संलिप्‍तता और मिली भगत भी सामने आई है. मगर सिपाहियों की शिनाख्‍त अभी नहीं हो सकी है. दोनों वारदातें पंतनगर थाने की है. शीघ्र ही इसका खुलासा कर दिया जाएगा. दूसरी तरफ एसएसपी एमएम वंग्‍याल ने साफ कहा कि इस मामले में शामिल दोषी व पुलिसकर्मी बख्‍शे नहीं जाएंगे.


AddThis