''अमर वार्ता'' में अनिल अंबानी ने सुभाष चंद्रा को चूतिया, पागल, इडियट कहा

E-mail Print PDF

: कारपोरेट चोरकटई-सिरकटाई, शीर्ष स्तर पर लाबिंग का अदभुत नमूना है यह टेप : अमर टेप कथा के रहस्य जाहिर हो चुके हैं. भड़ास4मीडिया पर सभी 23 टेप जारी किए जा चुके हैं. अब एक-एक टेपों के कंटेंट का विश्लेषण शुरू होगा. फिलहाल हम यहां एक जिस टेप की बात कर रहे हैं, उसमें अमर सिंह और अनिल अंबानी के बीच बातचीत हो रही है. भारत के कम लोगों ने अनिल अंबानी को बोलते हुए सुना होगा. इस टेप में अनिल अंबानी को सुनिए.

उनकी महत्वाकांक्षा और तेवर को भांपिए. अनिल क्रोध में पागल हैं. वे हकला रहे हैं. शायद वे हकला कर ही बात करते हैं. वे क्रोध में कह रहे हैं कि सुभाष चंद्रा क्यों दिल्ली और मुंबई एयरपोर्ट के बिड के लिए रिलायंस का पत्ता साफ करने में लगा हुआ. इसी बातचीत के क्रम में अनिल अंबानी अमर सिंह को बताते हैं कि सुभाष चंद्रा तो चूतिया आदमी है. पागल आदमी है. वो मेल भेज कर, अपने पत्रकारों को लगा कर रिलायंस को डिसक्वालीफाई कराने में लगा हुआ है. बिड के लिए जो पांच मंत्रियों का ग्रुप है, उसके सभी मंत्रियों तक अपने आदमी भेज रहा है. अनिल ने पांचों मंत्रियों के नाम लिए- प्रणब, चिदंबरम, कमलनाथ, प्रफुल्ल, भारद्वाज. अनिल अंबानी अमर सिंह से सलाह ले रहे हैं कि इस सुभाष चंद्रा का क्या किया जाए, इगनोर किया जाए या उससे सीधे बात की जाए कि ऐसा क्यों कर रहे हो. अमर सिंह बोले कि मैं उससे बात करता हूं. तब अनिल अंबानी ने अमर सिंह से अनुरोध किया कि उसको डांटना मत और झगड़ा मत करना.

जवाब में अमर सिंह बोलते हैं कि उन्होंने जिंदगी के फंडे को बदल लिया है. इमोशनल और कामर्शियल, दो कैटगरी बना ली है लाइफ में. इसी बातचीत में एक जगह अनिल कहते हैं कि सुभाष चंद्रा ने राम लक्ष्मण सीता गीता को जो पैसा भेजा है सब पता है, यह कह दीजिए उससे. तब अमर सिंह समझाते हैं कि इतना साफ साफ कहना ठीक नहीं होगा, केवल यह कहना है कि सब पता है अनिल भाई को. अनिल बोलते हैं आगे कि हम लोग जो बोलेंगे सब चलेगा टीवी पर. यहां अमर सिंह सहारा का किसी संदर्भ में जिक्र करते हैं. अनिल बोलते हैं फिर कि सुभाष चंद्रा, इंडियट, जी न्यूज है, डीएनए है यहां, चार पांच दिन कांट्रोवर्सी करके डील वील कर लेगा. अमर बोले कि मैं उसको आपके साथ प्यार से बिठा दूंगा. पूरा टेप सुनिए. हां एक बात ध्यान रखिए. इस टेप को शुरू में धैर्य से सुनिए क्योंकि अनिल भाई की अमर सिंह से बात होने की बजाय बात कराए जाने का डायलाग बार बार रिपीट हो रहा है. काफी देर बाद अनिल और अमर में बातचीत शुरू होती है. तो लीजिए, इस टेप को सुनिए.

इसके ठीक बाद जो दूसरा टेप है, वो भी अमर सिंह और अनिल अंबानी के बीच बातचीत का है. इसमें कुछ मजेदार बातें हो रही हैं.... जैसे... उनकी बेटी तो आपकी पाकेट में है. पाकेट में तो आजकल कोई नहीं होता सिवाय आपके कि हम आपके हैं और आप हमारे. हम आपके हैं कौन.... हा हा. बिहार चुनाव में क्या हो रहा है. अर्जुन सिंह. दिल को खुश रखने को ग़ालिब ये खयाल अच्छा है. आज आए थे विनय और .... कुछ पांच सौ आठ सौ हजार करोड़ का आर्डर मिलेगा उनको आज. मैंने कहा कि बिना अमर सिंह के एप्रूवल के कुछ भी आपको नहीं मिलेगा. अभी दूं या न दूं उसको. वो जानते हैं कि रिलायंस इंफोकाम और रिलायंस एनर्जी का मालिक मैं ही हूं. ये खाली ट्रेडिंग है बास, चाइना से इंपोर्ट करके देने का. इस हाथ दे उस हाथ ले. दूसरा टाटा ने बेच दिया उस प्रोजेक्ट का. मेरे पास आ गया मेल. मुबारक हो. इतना हाई कास्ट है प्रोजेक्ट. संजय रेडी है. टैरिफ में आई नहीं सकता. टेंडर करेंगे, आपका भाव क्या होगा, देखेंगे. एसईजेड वाला देख लीजिए आप. और सब सुख शांति है सर.... सुख शांति क्या, उसको जल्दी से कराकर भिजवा दीजिए...

There seems to be an error with the player !

There seems to be an error with the player !


अमर सिंह से प्रभु चावला, जया प्रदा, बिपाशा बसु, दीपक सिंघल, मुलायम सिंह यादव, जेपी गौड़, अनिल अंबानी, अतुल गुप्ता... कई अफसरों, नेताओं, अभिनेत्रियों आदि ने क्या-क्या बातचीत की, पूरा सुन सकते हैं, इन दिए गए लिंक्स पर क्लिक करके...

अमर टेप कथा 1

अमर टेप कथा 2

अमर टेप कथा 3


AddThis