भट्ठा गांव में यूपी पुलिस और पीएसी ने 74 किसानों को मारा, कई महिलाओं से रेप

E-mail Print PDF

राहुल गांधी का कथन सच के करीब है. भट्ठा पारसौल गांव में करीब 74 किसान मारे गए हैं और कई महिलाओं के साथ बलात्कार हुआ है. यह काम किसी और ने नहीं बल्कि पुलिस व पीएसी वालों ने किया है. भट्ठा गांव गए कई समाजसेवियों ने भी बताया है कि इस गांव में पुलिस व पीएसी ने जमकर अत्याचार किया है. राहुल गांधी भट्ठा पारसौल गांव के आठ किसानों के साथ प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिले.

उन्होंने पीएम से पुलिसिया जुल्‍म की शिकायत की. राहुल ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को बताया कि भट्ठा परसौल गांव में दो नहीं बल्कि 74 किसानों की मौत हुई और पुलिसकर्मियों ने गांव के महिलाओं संग बलात्‍कार भी किया. मालूम हो कि कांग्रेस महासचिव व मध्‍यप्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री दिग्‍विजय सिंह ने भी राख में मनुष्यों की हड्डी मिलने की बात कही थी. राहुल गांधी ने पीएम से भेंट के बाद कहा, वहां स्थिति बद से बदतर है. सरकार कह रही है कि सिर्फ दो किसान मारे गए हैं, जबकि यमुना एक्सप्रेस-वे 74 किसानों की जान की कीमत पर बन रहा है.

पीएम को सौंपे ज्ञापन में किसानों ने कहा, प्रदेश सरकार सार्वजनिक उद्देश्य के नाम पर उनकी जमीनों का अधिग्रहण कर उसे आवासीय उपयोग के लिए निजी कंपनियों को दे रही है. विरोध करने पर गोलियां मारी गईं, कई लोग लापता हैं, पुलिस-पीएसी ने महिलाओं से दुष्कर्म किया.  अनाज नष्ट कर दिया, खलिहान में रखी फसल फूंक दी गई. घरों की तलाशी के बहाने कीमती सामान लूट लिया गया. वृद्धों, महिलाओं और बच्चों के हाथ-पैर तोड़े गए. बच्चों को धमकाकर परीक्षा छुड़वा दी गई. उधर, बसपा ने कांग्रेस के आरोपों को बेबुनियाद बताने के साथ ही कहा है कि कांग्रेस अफवाहें फैलाकर गंदी राजनीति करना बंद करे.


AddThis