नीरा के चलते ही अटल बिहारी वाजपेयी ने अनंत कुमार का मंत्रालय बदल दिया था

E-mail Print PDF

नीरा राडिया से अनंत कुमार की नजदीकियों के चलते ही प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने उनसे नागरिक उड्डयन मंत्रालय लेकर संस्‍कृति मंत्रालय भेज दिया था. नीरा के चलते ही अनंत कुमार का अपने परिवार से झगड़ा भी शुरू हो गया था. यह खुलासा वरिष्‍ठ वकील आरके आनंद ने अपनी किताब "Close encounters with Niira Radia'' में किया है.

आरके आनंद लिखते हैं, ''नीरा से बतियाते हुए मुझे ऐसा लगता था कि वह कोई बड़ा दांव मारने जा रही है, लेकिन वह क्या दांव मारने जा रही है इसके बारे में मुझे कभी पता नहीं चल पाया. उस वक्त मुझे इस बात का जरा भी अहसास नहीं था कि नीरा राडिया अपने व्यावसायिक हितों को साधने के लिए राजनीतिक संपर्क बढ़ाने में लगी हुई है.''

आरके आनंद आगे लिखते हैं, ''यह मेरे लिए शॉकिंग था. एक दिन नीरा से मिलने मैं उसके फार्महाउस पहुंचा तो देखा एनडीए सरकार के एक मंत्री अनंत कुमार नीरा के साथ वेस्‍टर्न म्‍यूजिक के धुन पर थिरक रहे थे.'' आरके आनंद के अनुसार, ''नीरा के चलते अनंत कुमार की पत्‍नी ने तत्‍कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से अपने पति को बचाने की गुजारिश की थी, जिसके बाद पीएम ने अनंत कुमार का मंत्रालय बदल दिया था.

अपनी किताब में आरके आनंद हरियाणा के पूर्व कैबिनेट मंत्री राव वीरेंद्र सिंह के बेटे राव धीरज सिंह का भी जिक्र करते हुए लिखा है कि सहारा इंडिया के लिए काम कर चुके राव धीरज सिंह नीरा राडिया के साथ ही उसके फार्म हाउस में रहते थे. राव धीरज ने भी दिसम्‍बर 2010 में खुलासा किया था कि अनंत कुमार के कारण ही नीरा राडिया को सीक्रेट फाइलें आसानी से मिल जाया करती थी. अनंत ने ही नीरा की मुलाकात रतन टाटा से कराई थी.

आरके आनंद ने हरआनंद पब्लिकेशन से प्रकाशित अपनी किताब में और भी कई सनसनीखेज खुलासे किए हैं. आनंद लिखते हैं कि उनकी मुलाकात नीरा से उनकी पत्‍नी की दवाइयों के चलते हुई थी, जो बाद में नीरा के उनके बगल में रहने आने के बाद और घनिष्‍ठ हो गई थी.


AddThis