भूख और महंगाई है उग्रवाद के लिए जिम्मेदार

E-mail Print PDF

जब तेल की कीमतें बढ़ती हैं तो सभी चीजों के दाम बढ़ जाते हैं और इसका बोझ आम लोगों पर पड़ता है। महंगाई की वजह से कृषि पर लागत बढ़ गई है लेकिन किसानों को अपनी लागत भी नहीं मिल पाती और बिचौलिए सारा मुनाफा हजम कर जाते हैं। ये बातें कहीं केसी त्यागी ने सीएनईबी के शो ''जनता मांगे जवाब'' में। इस शो में जेडीयू नेता केसी त्यागी, कांग्रेस नेता जगदम्बिका पाल, अर्थशास्त्री आकाश जिंदल और वरिष्ठ पत्रकार तपन राय ने शिरकत की।

होस्ट की भूमिका में थे संपादक अनुरंजन झा। केसी त्यागी ने कहा कि नक्सली हिंसा और उग्रवाद राजनीतिक समस्या नहीं है यह भूख से जुड़ी है। आज देश के गरीबों को जीडीपी का अर्थ मालूम नहीं और खाद्य सुरक्षा को लेकर सरकार कितनी गंभीर है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि देश में चूहे अनाज खा सकते हैं लेकिन इंसान नहीं। उन्होंने कहा कि वेतन साल में एक बार बढ़ता है लेकिन महंगाई कई बार बढ़ती है। उन्होंने केन्द्र सरकार को मुनाफाखोरों की सरकार करार दिया।

कांग्रेस नेता जगदम्बिका पाल ने कहा कि यूपीए सरकार ने महंगाई पर नियंत्रण के लिए प्रभावी कदम उठाया है और उसका नतीजा है कि आज महंगाई दर दहाई अंको से नीचे है। तेल की कीमतों में बढ़ोत्तरी पर उन्होंने कहा 80 फीसदी कच्चा तेल विदेशों से मंगाया जा रहा है और अंतरर्राष्टीय बाजार में तेल की कीमते लागातार बढ़ रहीं है जिसकी वजह से यह कदम उठाना पड़ा है। उन्होंने कहा कि इसके बावजूद सरकार ने डीजल और किरोसिन की कीमते नहीं बढ़ाई।

आकाश जिंदल  ने कहा कि नीतियों में नाकामी की वजह से यह सब देखना पड़ रहा है। आज भी हमारी अर्थव्यवस्था मानसून की बंधूआ मजदूर है। वैश्वीकरण के बाद देश का विकास हुआ लेकिन कृषि का विकास नहीं हुआ। किसानों को भी बढ़ी कीमत में हिस्सा मिलना चाहिए। तपन राय ने महंगाई और उससे जुड़े मुद्दे पर कहा कि चीन में कीमतों पर लगाम लगाई गई है, हमारे यहां भी यह हो सकता है। लेकिन हमारे देश में समानांतर अर्थव्यवस्था की वजह से यह नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह की चुप्पी देश को तोड़ रही है।

बहस के दौरान जब तपन राय ने देश में एक और हरित क्रांति की जरुरत की बात कही तो इसपर केसी त्यागी ने कहा कि हरित क्रांति के बाद भी किसानों को आखिर क्या मिला सारा तो बिचौलिया खा गए। दर्शकों की ओर से यह सवाल आया कि दूध की कीमतें बढ़ती जा रहीं है आखिर इसका उपाय क्या है तो इसपर केसी त्यागी ने कहा कि दूध की कीमतों में बढ़ोत्तरी शायद इसलिए हो रही है कि आम लोग दूध पीना कम कर दें जिससे अमीरों के कुत्तों को दूध मिल सके। सीएनईबी के इस शो का प्रसारण 21 मई शनिवार रात 8 बजे होगा और इसका दोबारा प्रसारण रविवार सुबह 11 बजे होगा।

प्रेस विज्ञप्ति


AddThis