लखनऊ में 29 को जुलूस निकालकर विरोध जताएंगे पत्रकार

E-mail Print PDF

: जंतरमंतर पर फूंका मायावती का पुतला : लखनऊ में आईबीएन7 की टीम पर पुलिस द्वारा हुए हमले और ज्‍यादती का विरोध और निंदा पूरे देश में जारी है। इस क्रम में राजधानी लखनऊ के पत्रकार बुधवार 29 जून को दोपहर बारह बजे से विरोध जुलूस निकालेंगे। पत्रकारों का जुलूस यूपी प्रेस क्‍लब से गांधी प्रतिमा हजरतगंज तक शांतिपूर्ण तरीके से विरोध जुलूस निकालेंगे। यह निर्णय मंगलवार को सचिवालय एनेक्सी स्थित मीडिया सेन्टर में उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति की एक आपात बैठक में समिति के अध्यक्ष हिसामुल इस्लाम सिद्दीकी की अध्यक्षता में लिया गया।

बैठक में मुख्य रूप से आईबीएन-7 के शलभमणि त्रिपाठी तथा मनोज राजन त्रिपाठी के साथ 26 जून को हजरतगंज में एसपी सिटी (पूर्वी) बी.पी. अशोक तथा सर्किल अफसर अनूप कुमार द्वारा की गयी अभद्रता एवं दुर्व्यवहार मुख्य मुद्दा था। बैठक में पत्रकारों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग सरकार से की गयी। साथ ही यह भी मांग की गयी कि पत्रकारों के साथ यदि कोई पुलिस अधिकारी या कर्मचारी भविष्य में ऐसी हरकत करे तो उसके खिलाफ तुरन्त कानून के अनुसार सख्त कार्रवाई की जाये।

इस बैठक के दौरान ही गृह विभाग द्वारा उक्त दोनों पुलिस अधिकारियों के निलम्बन का आदेश भी उपलब्ध कराया गया। निलम्बन की मांग सरकार द्वारा पूरी किये जाने पर जहां पत्रकारों ने संतोष व्यक्त किया वहीं इस बात पर रोष भी व्यक्त किया गया कि एफआईआर दर्ज होने के बावजूद सम्बन्धित अभियुक्त पुलिस अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक धाराओं के अन्तर्गत कार्रवाई क्यों नहीं हुई?

समिति के अध्यक्ष हिसामुल इस्लाम सिद्दीकी, उपाध्यक्ष मुदित माथुर, सचिव डॉ. योगेश मिश्रा, पूर्व अध्यक्ष रामदत्त त्रिपाठी एवं प्रमोद गोस्वामी तथा यूपी प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष शिवशंकर गोस्वामी आदि ने समस्त पत्रकार बन्धुओं से अपील की कि अधिक से अधिक संख्या में दिनांक 29 जून 2011 को दिन में 12 बजे प्रेस क्लब में एकत्र होकर अपनी एकजुटता प्रदर्शित करें। इस बैठक में दिल्ली से आये आईबीएन-7 के कार्यकारी सम्पादक प्रबल प्रताप सिंह भी शामिल थे।

अध्यक्ष श्री हिसामुल इस्लाम सिद्दीकी ने उक्त मीटिंग में यह भी बताया कि वरिष्ठ पत्रकार शरत प्रधान को उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति की प्रोफेशनल अफेयर्स कमेटी का संयोजक नामित किया गया है। श्री प्रधान इस धरने एवं जुलूस का नेतृत्व करेंगे। इस जुलूस का उद्देश्य प्रदेश भर में समस्त पत्रकारों की सुरक्षा सुनिश्चित कराना, सरकार से यह मांग करना कि पत्रकारों की सुरक्षा के लिए जिस प्रकार महाराष्ट्र सरकार ने कानून बनाने की घोषणा की है, उसी तरह का कानून उत्तर प्रदेश में बनाया जाये।

इसी क्रम में इंडियन मीडिया वेल्‍फेयर एसोसिएशन ने आईबीएन 7 टीम पर हुए हमले के विरोध में आज दिन में जंतरमंतर पर मायावती का पुतला फूंका। पत्रकारों ने कहा कि अपने भ्रष्‍टाचार छुपाने के लिए मायावती अब पत्रकारों का उत्‍पीड़न कराने पर भी उतर आई हैं। राजीव निशाना समेत कई पत्रकार मौजूद रहे।

लखनऊ में आईबीएन7 के संवाददाता शलभमणि त्रिपाठी और मनोज राजन त्रिपाठी पर हमला, मारपीट गाली ग्‍लौज की हरियाणा जर्नलिस्‍ट यूनियन ने निंदा की है। एचयूजे के प्रदेशाध्‍यक्ष बलजीत सिंह तथा प्रदेश महासचिव राजेश गुप्‍ता ने केंद्र और यूपी सरकार से मांग की कि दोनों आरोपी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए।

बलजीत सिंह ने कहा कि शलभ पर लगाए गए फर्जी मुकदमे को वापिस कराने के लिए जिस भी स्तर की लड़ाई लडऩी होगी, हम लोग लड़ेंगे। उन्होंने पत्रकारों से खार खाने वाले अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर मीडिया के लोगों का किसी भी तरीके से उत्पीडऩ हुआ तो पत्रकार अपनी लड़ाई सडक़ों पर आकर लड़ेंगे। राजेश गुप्ता ने पत्रकारों से बदसलूकी की निंदा करते हुए कहा कि पत्रकारों पर बढ़ रहे ऐसे हमलों से प्रेस की स्वतंत्रता खतरे में पड़ती जा रही है। इस समय पत्रकारों को सरकार और गैर कानूनी काम करने वालों के हमलों का सामना करना पड़ रहा है। पत्रकारों के खिलाफ हिंसक गतिविधियाँ लगातार बढ़ रही हैं।

इसी क्रम में गोण्‍डा के पत्रकारों ने भी आईबीएन-7 टीम के साथ हुई घटना की निंदा करते हुए राज्‍यपाल के नाम संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी जनार्दन बर्नवाल को सौंपा। ज्ञापन के माध्‍यम से पत्रकारों ने मांग किया कि आरोपी अधिकारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए। पत्रकारों ने कहा कि यह सच को दबाने के लिए चौथे स्‍तम्‍भ पर किया गया हमला है। यूपी में चाटुकार अधिकारियों की तूती बोल रही है। उन्‍होंने पुलिस अधिकारियों को बर्खास्‍त करने की मांग की। साथ ही पत्रकार रिजवान मुस्‍तफा को धमकी देने वालों को भी गिरफ्तार करने की मांग की गई।

इस दौरान रवींद्र नाथ श्रीवास्‍तव, एसपी मिश्र, आशुतोष पाण्‍डेय, कैलाश वर्मा, ओंकार पाठक, तेज प्रताप सिंह, अंचल श्रीवास्‍तव, अम्बिकेश्‍वर पाण्‍डेय, पीपी यादव, छेदी लाल अग्रवाल, अंकित मिश्रा, जानकी शरण द्विवेदी समेत तमाम पत्रकार शामिल रहे।


AddThis