असम में भी गूंजी मजीठिया सिफारिश लागू करने की मांग

E-mail Print PDF

मजीठिया वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने की मांग को लेकर आज पत्रकारों ने आज राज्य भर में धरना-प्रदर्शन किए और प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह से लेकर असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई को ज्ञापन देकर आयोग की सिफारिशों को लागू करने की मांग की। असम ट्रिब्यून कर्मचारी संघ ने मुख्यमंत्री तरुण गोगोई को ज्ञापन देकर सिफारिशों को राज्य में लागू करने के लिए पहल करने की मांग की।

दूसरी तरफ जर्नलिस्ट यूनियन आफ असम, असम यूनियन आफ वर्किंग जर्नलिस्ट, असम वर्किंग जर्नलिस्ट (उपसंपादक) संस्था तथा पीटीआई यूनियन आफ असम के साथ कई संगठनों ने गुवाहाटी प्रेस क्लब के सामने धरना दे कर अपनी मांगों को सरकार के सामने रखा। इन संगठनों ने बाद में जिला उपायुक्त के माध्यम से प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह को ज्ञापन देकर मजीठिया आयोग की सिफारिशों को यथाशीघ्र लागू करने की मांग की। धरना देने वालों को कहना था कि अंग्रेजी अखबार टाइम्स आफ इंडिया, हिन्दी अखबार दैनिक जागरण और बांग्ला अखबार आनंद बाजार पत्रिका आयोग की सिफारिशों के खिलाफ माहौल बना रहा है और इससे समझने की जरूरत है।

उपसंपादकों की संस्था असम वर्किंग जर्नलिस्ट के वरिष्ठ सदस्य आर शर्मा ने आयोग की सिफारिशों को लागू करने में हो रही देरी पर चिंता जताते हुए कहा कि आयोग की सिफारिशों की सबसे ज्यादा प्रासंगिकता यहां असम में है। क्योंकि यहां के भाषाई अखबार कर्मचारियों को बंधुआ मजदूर की तरह काम करवाते हैं और पत्रकारों की हैसियत एक चपरासी से कम नहीं है। जिन्हें अपनी नौकरी बचाने के लिए चाटुकारिता करती पड़ती है।

गुवाहाटी से नीरज झा की रिपोर्ट.


AddThis