छोटा राजन ने कहा - अपनी जान बचाने के लिए करवानी पड़ी जेडे की हत्‍या!

E-mail Print PDF

जेडे पत्रकारिता के तय मानकों से आगे बढ़ चुके था जिससे मेरी जान खतरे में पड ग़ई थी। अपनी जान बचाने के लिए ही मैंने जेडे की हत्या करा दी। यह सनसनीखेज खुलासा कथिततौर पर अंडर वर्ल्ड डान छोटा राजन ने निजी टीवी चैनल एनडीटीवी को स्वयं फोन करते हुए बातचीत के दौरान किया। इस दौरान उसने खुद को देशभक्त साबित करते हुए दाऊद और उससे जुडे क़ई खुलासे भी किए।

बातचीत के दौरान छोटा राजन ने कहा,  'जेडे उसके खिलाफ अखबार में लेख लिख कर उसे कमजोर साबित करने में लगा था। जेडे उससे मुलाकात करने के लिए लंदन पहुंचा था, लेकिन उसे लंदन में खतरे की सूचना मिली जिस कारण मुलाकात नहीं हो सकी।'  30 मई और 2 जून को मुंबई से प्रकाशित एक अंग्रेजी अखबार का हवाले देते हुए राजन ने कहा, 'इसके बाद उसकी जेडे से अंतिम बार फोन पर बातचीत हुई और उसने जेडे को मुलाकात के लिए फिलीपिंस बुलाया, लेकिन जेडे के संदिग्ध मंसूबों के कारण उसने मुलाकात नहीं की।'

एक पत्रकार की हत्या करने को मजबूरी बताते हुए राजन ने कहा, 'जेडे काफी आगे बढ ग़ए थे और खुद को बचाने के लिए जेडे को रास्ते से हटाना जरूरी हो गया था। जेडे द्वारा उसके ऊपर किए जा रहे हमलों को रोकने के लिए उसने सतीश कालिया को इस काम पर लगाया। बाद में 11 जून को सतीश कालिया ने अपने सात सहयोगियों के साथ मिलकर जेडे को गोलियों से भून दिया। जेडे को पांच गोलियां मारी गई थी, जिससे उनकी मौत हो गई।'

अपने आप को देशभक्त साबित करते हुए राजन ने कहा, 'उसने देश के खिलाफ कोई काम नहीं किया। बल्कि पाकिस्तान में घुसकर उसने भारत विरोधी काम करने वाले आतंकी रियाज भटकल की हत्या कराई। लेकिन आईएसआई एवं पाकिस्तान सरकार ने इस हत्या मामले को दबा दिया। जिस कारण से भारत सरकार भी रियाज की मौत की पुष्टि अभी तक नहीं कर सकी है, लेकिन मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि रियाज अब इस दुनिया में नहीं है।'

राजन ने दाऊद के बारे में चौंकने वाले जानकारी देते हुए कहा कि दाऊद काफी समय पहले पाकिस्तान छोड चुका है और वह मिडिल ईस्ट के किसी देश में छुपा हुआ है, लेकिन आईबी और भारत सरकार उसको पकड़ने के लिए सक्रियता नहीं दिखा रही है। भविष्य में भारत वापसी की संभावना को नकारते हुए उसने कहा, 'भारत में उसका परिवार ही सुरक्षित नहीं है, उसके भाई पर मकोका लगाया गया, ऐसे में यदि वह भारत आया तो उसकी जान खतरे में पड़ ज़ाएगी।'  साभार : देशबंधु


AddThis