दैनिक जागरण के संपादक ने किया सिंचाई विभाग की सड़क पर कब्‍जा!

E-mail Print PDF

गोरखपुर में सिंचाई विभाग की सड़क पर कब्‍जा हो गया है और प्रशासन इस कब्‍जे को हटवाने में असहाय पा रहा है. आखिर मामला विश्‍व के नम्‍बर एक अखबार के संपादक से जो जुड़ा हुआ है. दैनिक जागरण, गोरखपुर के संपादक शैलेंदमणि त्रिपाठी ने काफी समय से सिंचाई विभाग की सड़क पर कब्‍जा कर रखा है. कुछ लोगों ने इसकी शिकायत जिलाधिकारी से की, इसके बावजूद प्रशासन उस अतिक्रमण को हटवाने के नाम पर जांच पर जांच किए जा रहा है. मतलब सीधी कार्रवाई से डर रहा है.

शैलेंद्रमणि ने काफी समय पहले सिंचाई विभाग के बगल में जमीन खरीदी थी. इस पर उन्‍होंने मकान बनवाया. उसके बाद उसके सामने स्थित सड़क पर कब्‍जा करते हुए उसके ऊपर टीन का शेड सिंचाई विभागलगावा दिया. स्‍टेशन रोड पर स्थित सिंचाई विभाग की कालोनी में मेन रोड से जाने के लिए यही एकमात्र सड़क है. इसी सड़क के ऊपर शैलेंद्रमणि ने टीन का शेड डलवा दिया. जिससे लोगों को आवागमन में असुविधा होने लगी. सिंचाई विभाग के लोगों ने इसकी शिकायत डीएम संजय कुमार से की. मामला चूंकि नम्‍बर एक अखबार के संपादक से जुड़ा हुआ था लिहाजा प्रशासन ने सब कुछ आंखों के सामने सच-सच देखते हुए सीधी कार्रवाई करने के बजाय टेढ़ा तरीका अपनाया. डीएम ने इस मामले की जांच सिटी मजिस्‍ट्रेट जेपी सिंह को सौंपी. जेपी सिंह भी मौके पर न जाकर इस मामले की जांच रेलवे चौकी इंचार्ज को करने को कह दिया.

रेलवे चौकी इंचार्ज मौके पर पहुंचकर पूछताछ की कार्रवाई की. इसके बाद सड़क के ऊपर पहले से निर्माण होने की मौखिक शेडजानकारी सिटी मजिस्‍ट्रेट को दी. इसके बाद सिटी मजिस्‍ट्रेट ने दरोगा को लिखित रिपोर्ट देने को कहा. इस रिपोर्ट के आधार पर ही आगे की कार्रवाई की जाएगी. खबर है कि प्रशासन प्‍यार से मामला सुलझाने की कोशिश में लगा हुआ है कि सांप भी मर जाए और उनकी लाठी भी ना टूटे. अगर यही किसी आम नागरिक ने किया तो यह प्रशासन मिनट भी नहीं लगता उसका घर भी जमींदोज कर दिया होता, लेकिन मामला बड़े संपादक से जुड़ा हुआ है तो प्रशासन भी उनके हिसाब से ही काम कर रहा है. सूत्रों का कहना है कि प्रशासन ने संपादक महोदय से खुद ही टीन के शेड को हटवा लेने की बात कही है ताकि उन्‍हें कार्रवाई न करनी पड़े. वैसे डीएम संजय कुमार ने नियमानुसार कार्रवाई की बात कही है, परन्‍तु जब साफ दिख रहा है कि सड़क पर अवैध कब्‍जा है तब किस नियम की बात की जा रही है.


AddThis