खफा विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने पीटीआई को लीगल नोटिस भेजा

E-mail Print PDF

नई दिल्ली : विदेश मंत्री एसएम कृष्णा को पीटीआई का यह लिखना नागवार गुजर गया कि श्रीलंका के मसले पर जब उनसे लोकसभा में बयान देने को कहा गया तो वे कहीं और मगन थे. विदेश मंत्री ने अंग्रेजी समाचार एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) को इस खबर के लिए कानूनी नोटिस भेजा है. पीटीआई की खबर में कहा गया था कि कि श्रीलंका के मुद्दे पर लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने गुरुवार को जब उन्हें सदन में वक्तव्य देने को कहा तो वह कहीं और मगन थे.

पीटीआई ने खबर दी थी कि विदेश मंत्री एस एम कृष्णा को श्रीलंका के मुद्दे पर लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने वक्तव्य देने के लिये कहा तो वह अपने स्थान पर मौजूद नहीं थे और गलियारे में अन्य सदस्यों के साथ बातचीत कर रहे थे .खबर में कहा गया कि कृषि मंत्री शरद पवार ने कृष्णा का ध्यान अध्यक्ष के निर्देश की ओर आकर्षित कराया. कृष्णा को उनके वक्तव्य की प्रति तुरंत उनकी फाइल में नहीं मिली और लोकसभा सचिवालय के एक कर्मचारी ने उन्हें वक्तव्य की एक प्रति मुहैया कराई.

देर रात विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीटीआई में यह बताने के लिए फोन किया कि कृष्णा राज्यसभा में सवाल निपटा रहे थे और उन्होंने उप विदेश मंत्री परनीत कौर को कुछ कागज दिए थे, जो लोकसभा में उनके वक्तव्य से संबंधित थे. जब उन्हें वक्तव्य देने को कहा गया तो उन्हें वह कागज परनीत से लेने थे. अधिकारी ने कहा कि यह मंत्री के कहीं और मग्न होने का मामला नहीं है. एजेंसी ने बाद में अपनी मूल खबर में इस तथ्य को जोड़ दिया. हालांकि कृष्णा के वकील द्वारा पीटीआई को दिए गए कानूनी नोटिस में कहा गया है कि पीटीआई की खबर एकदम झूठ और दुर्भावनापूर्ण थी, उन्होंने इसके लिए विज्ञापन प्रकाशित कर सार्वजनिक माफी की मांग की.


AddThis