मारन ने सन टीवी को चोरी से दी थी महंगी टेलीफोन लाइनें, सीबीआई करेगी जांच

E-mail Print PDF

नई दिल्ली.  सीबीआई पूर्व दूरसंचार मंत्री दयानिधि मारन के चेन्नई स्थित निवास पर 300 से अधिक टेलीफोन लाइनें होने के आरोपों की जांच करेगी। सीबीआई का कहना है कि मारन जब दूरसंचार मंत्री थे तब उनके बोट हाउस निवास पर 323 टेलीफोन लाइनें थीं जो अंडरग्राउंड केबलों के जरिए उनके भाई के चैनल सन टीवी के दफ्तर से जुड़ी हुई थीं।

ये सभी लाइनें बीएसएनएल के जनरल मैनेजर के नाम थीं। सीबीआई ने 2007 में टेलीकॉम सचिव से इस मामले में कार्रवाई के लिए मंजूरी मांगी थी। लेकिन विभाग ने कथित रूप से मंजूरी नहीं दी। सीबीआई ने अब अज्ञात लोगों के खिलाफ आधिकारिक जांच शुरू करने का फैसला किया है।

सूत्रों के अनुसार, ये साधारण लाइनें नहीं थीं। ये महंगी आईएसडीएन लाइनें थीं जो बहुत ज्यादा डाटा भेजने में सक्षम होती हैं। इससे टीवी न्यूज और कार्यक्रमों का दुनियाभर में तेजी से प्रसारण होता है। सीबीआई ने टेलीकॉम सचिव को लिखा था कि इन लाइनों के लिए बहुत अधिक कीमत देनी होती है।

लेकिन मारन की वजह से सन टीवी चैनल को ये लाइनें मुफ्त में मिलीं। पूरी व्यवस्था कुछ इस तरह से की गई थी कि ‘बीएसएनएल के चुनिंदा स्टाफ’ के अलावा कंपनी में किसी और को इस बारे में जानकारी नहीं थी। मारन के निवास और सन टीवी के दफ्तर को छुपी हुई अंडरग्राउंड केबलों से इसलिए जोड़ा गया ताकि ऐसा लगे कि ये लाइनें मंत्री के लिए हैं। जबकि असल में इसका इस्तेमाल सन टीवी चैनल कर रहा था। साभार : भास्‍कर


AddThis