भास्‍कर ने छापी झूठी और गलत खबर

E-mail Print PDF

यशवंत जी नमस्कार, मैं आप को एक सूचना देना चाहता हूँ जो मेरी आँखों देखी है, इस घटना स्थल पर मैं मौजूद भी था, जो मेरी सूचना को पुख्ता करती है. भास्कार के बेब पर खबर छपी है जिसका शीर्षक है  पत्रकारिता विश्विद्यालय में छात्रों ने जमकर की तोड़-फोड़, जो सरासर गलत खबर है. ऐसा लगता है कि भास्कार वाले बिकी हुई खबर चलाने का ठेका ले लिए हैं, मगर पत्रिका और अन्य टीवी चैनलों ने भास्कर के विपरीत सही खबर चलाई है, जो मेरी बात को और भी पुख्ता करेंगे.

अगर सर भास्कर की बात को सच माना जाए तो फिर दृश्य एवं श्रव्य विभाग के 5 छात्र ,जनसंचार विभाग के 1 छात्र और पत्रकारिता विभाग के 5 छात्र का हिंदुस्तान के कैम्पस में कैसे सोमवार को चयन हुआ? जबकि पत्रकारिता विभाग के प्राध्यापकों और विद्यार्थियों का कहना था कि विभाग में लेक्चर चल रहा था, जो कि लेक्चर नहीं अन्य विभागों के विद्यार्थियों के अनुसार डेमो चल रहा था.

आप ही बताइये कि क्या डेमो की क्लास चल रही थी इसलिए माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय में पत्रकारिता विभाग के विद्यार्थियों को छोड़ कर समस्त विभाग के छात्रों ने विरोध किया? फिर यह हिंदुस्तान का कैम्पस कैसे हो गया? और अन्य विभाग के छात्रों का सलेक्शन कैसे हुआ? भास्कर ने पूरी खबर को तोड़-मरोड़ कर प्रस्तुत किया है और सच्चाई पर पर्दा डाला है, जिससे लगता है कि भोपाल भास्कर बिक गया है, और इसी तरह ये अपनी विश्वसनीयता पर भी ठप्पा लगा रहा है.

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.


AddThis
Comments (4)Add Comment
...
written by Teerth Gorani, April 09, 2011
Aslai khatra bhaskar se jyada bhaskar ki pathshaala se nikle sampadakon se hai jo ab amar ujala aur jagran main aa gaye hain. laloo yadev se bush ne kaha aap hame 10 saal ke liye bihar de dijiye hum use USA bana denge, laoloo ne kaha aap hamen USA de dena humm usko paach din main Bihar bane deange.
...
written by anil singh yadav, April 03, 2011


bhaskar ka kewal naam hai ye choro ki tarah to kaam karte hai. jo kahi koi khabar nahi hoti usko ye log khabar banaa dete hai. yakinan dus saal pahle ke bhaskar aur aaj kr bhaskar me jameen aasman ka antar hai. ye apnaa naam chalaate rahne ke liye dusre akhbaar raddi ke bhao me hoker se khareed rahe hai.itnaa hi nahi ye apne aap ko badi machhli samajh kar chhote a khbaaron ka shoshan karnaa cchahte hai . isiliye to ye bike huye kahe jaate hai.
amooman yeh sthiti keal editorial ya devisional nahi hai balki chhote chhote hoker tathaa reporters me bh i yehi haal hai.
inhe to bhagwaan hi sadbudhi de saktaa hai

anil
...
written by jitendra, March 31, 2011
meri puri tarah sahmati hai ia patrakaar se!!! maine apne juniors se is baat ki chhan-bin kiya to paya bhaskar akhabaar fir jhooth chhapa
...
written by umesh kumar, March 31, 2011
yh to bhaskar ka naitik dharm ban gya hai... jo newspaper paise ke liye apne malik ke he khilaf vigyapn nikal sakta hai wh paise ke liye kya nahi kr sakta hai...
Bhaskar ke liye paisa guru aur sb chela wali sthiti hai. jahan paisa nahi chalta hai wahan bhai bhatijawad shuru ho jata hai..
mahan samachar patra bhaskar ko jitni jaldi yh samjh me aa jaye thik hoga uska bhi aur samaj ka bhi nahi to........
nahi samjhoge to mit jaoge ye duniya walon
teri dastan bhi nahi hogi dastanon men.......

Write comment

busy