नारा तो बरखा रूपी बोझ ढोने वाले डा. प्रणय राय के खिलाफ लगना चाहिए

E-mail Print PDF

एनडीटीवी के मालिक डा. प्रणय राय को जाने क्या हो गया है कि बरखा दत्त को एनडीटीवी से चिपका कर रखे हुए हैं. उन्हें अगर अब तक अकल नहीं आई है तो वे ये वीडियो देख लें.. सब समझ में आ जाएगा. अगर वे इस वीडियो को देखने के बाद भी बोझ ढोने के लिए इच्छुक हैं तो उन्हें बरखा मुबारक. भड़ास पर आज सुबह योगेश शीतल ने जो कुछ लिखा, उसे ये वीडियो प्रामाणिक बना रहे हैं. नीरा राडिय टेप कांड में फंसे ज्यादातर लोगों को उनके उनके मीडिया हाउसों ने ढक्कन कर दिया है...

...लेकिन सिवाय डा. प्रणय राय के, जिन्होंने बरखा का बाल तक बांका नहीं होने दिया. इन कथित सभ्य और एलीट मीडिया मालिकों को लगता है कि वे दुनिया के सबसे समझदार लोग हैं. तभी तो वे इतना बड़ा दोगलापन करने वालों को भी अपने साथ जोड़े हुए हैं. ये भीड़ प्रायोजित नहीं है. अन्ना हजारे के समर्थन में उमड़ा जनसैलाब प्रायोजित नहीं था. ऐसे में जब जनता जाग चुकी है, सब जान चुकी है, तब भी डा. प्रणय राय की बेहयाई न सिर्फ शर्मनाक है बल्कि यह बताने के लिए काफी है कि इस शख्स का दिल और दिमाग, शायद अब दोनों बीमार पड़ चुके हैं. देखें बरखा के खिलाफ कितना आक्रोश है लोगों में, इन वीडियोज को देखें... क्लिक करें...

बरखा के खिलाफ लोगों में गुस्सा पार्ट वन

बरखा के खिलाफ लोगों में गुस्सा पार्ट दो


AddThis