एनडीटीवी के रवीश ने आम्रपाली के अनिल से पूछा- कितने पत्रकार फोन करते हैं?

E-mail Print PDF

Ravish Kumar : कल मैंने आम्रपाली के सीएमडी से सवाल कर दिया कि कितने संपादक पत्रकार आपको फ्लैट में डिसकाउंट के लिए फोन करते हैं अभी प्राइम टाइम में बता दीजिए। मुझे यह भी मालूम है कि आप बिल्डरों के भय से कई पत्रकार ख़बर नहीं लिख पाते। तो इतनी बेचारगी समझ नहीं आ रही है आप लोगों की। अनिल शर्मा मुस्कुराते ही रहे। शायद जानते होंगे कि ऐसे टिटपुंजिया पत्रकारों के उत्साही सवालों से ज़मीनी हकीकत को ठेंगा न फर्क पड़ता है।

Chandan Bhaskar : सर आपने फिर यह सवाल क्यों पूछा, क्या आपको इन बिल्डरों से डर नहीं लगता क्या? वैसे आपका सवाल बाबा रामदेव की तरह लगती है, जिनके पास अथाह दौलत है और वो सरकार को करोड़ों के काले धन मामले पर घेर रहे थे। पर एक बात ज़रूर कहूंगा कि आपकी बेबाकी का कायल हूं...

Rajiv S Bhele : unke har project ki cost me shurvat me hi revenue officer,mantri,santri,poli​ce,natural disaster,chori aur patrakar inki puri calculation ki jaakar builder apni imarat ki neev rakhta hai.

Nivedita Ray : Why to ask such questions when you know the reality?

Chandan Bhaskar : Mere comment me bhool sudhar...hona chahiye tha, sawal baba ramdev ki tarah lagta hai...

Alok Rai : hausle ko salam aapke sir..

Jyoti Bahl : very true

Jyoti Bahl : Ravish ji "AMRAPALI GROUP" ke Mr .Sharma, ko saab pata hota hai ki "LAND ACQUSITION" kahan ,kitna aur kab hona hai yeh NOIDA AUTHORITY ko khub "GHOOS" khila kar he mile hai

Rajiv S Bhele : Ravish G @ Hum aur Aap puri zameeni sachhai jante hai. But as like Manmohan Sing,hum BEBAS hai.kuch nahi kar sakte.

Dilnawaz Pasha : रवीश जी... दिल्ली के कितने पत्रकार हैं जिन्हें यह नहीं पता कि दिल्ली में मकान की छत डालने से पहले एमसीडी को पैसा देना पड़ता है और गाजियाबाद में जीडीए को तो नोयडा में नोयडा अथॉरिटी को। कुछ ही दिन पहले एक इमारत गिरने से कई मजदूरों की मौत हो गई। क्या पत्रकार सीधे तौर पर ऐसे हादसों के लिए जिम्मेदार नहीं है। चंद हजार रुपयों के लिए... वो ऐसी बातों की अनदेखी कर देते हैं जिनकी कीमत किसी को अपनी जान देकर चुकानी पड़ती है। उस दुर्घटना की मजिस्ट्रेटी जांच हो रही है... ठेकेदार तो गया लेकिन जिस इंजीनियर ने पैसा लेकर वो इमारत बनने दी.. वो... ?? ?? ??

Santosh Kumar : हकीकत तो सब जानते है , पर आप कैसे कुछ पत्रकार ही इस तरह का सवाल पूछने का होंसला रखते है. जिससे हम जैसे लोगों को आवाज़ मिल जाती है. नहीं तो किसे हिम्मत है इनसे भिड़ने की........

Pitamber Dutt Sharma : sabhya shabdon main :- ourat hi - ourat ki barry hoti hai ? baaki sach to ye hai ki har insaan kisi na kisi se mangta hi rahta hai, yahi fitrat hai .

Sukumar Choudhary : The demand of time is very stringent law to tackle these kinds of white collar crime. These crimes are happening rampantly because of our poor and teehless law.

Zafar Irshad : Lekin aap ne kal Aamrapali ke CMD ko kuch zyada hi time diya bolne ka...

Rashmee Singh : ravish ji I am not praising you but very few journalists are left like you,you are true to ur proffession...kudos!I watch regularly prime time,jabse aapne host karna shuru kiya...

Deepesh Awasthi : Aapko Arora jee ko bhi jyaada time dena chahiye tha... ;-)

Deepesh Awasthi : waise kal Prime Time me Sanjay Nirupam ne jis tarah Prakash Javadekar ko "Pagal" kaha aur Prakash jee ka koi responce nahi aaya ye sochane ke liye hai...

Ravish Kumar : zafar, anil sharma bol rahe the..to possiblity ban rahee thee aur poochne kee...main kisi ko baare baare se time dene me yaqeen nahee rakhta...log aaye aur khud ek doosre ko question karen...arorha saheb start lene me kaafi time le rahe the..avval to do log builder side se hi nahee lene chaahiye the...

Ravish Kumar : dar kis baat ka...kaafi bach kar chalna parhtaa hai is line..ek baar saaakh gayee to gaye kaam se...isliye koshish karta hun ki aise logon na milun na koi madad maangu....laakh practical hone ka dabaav aata hai ignore kar dete hain...aur ye apne liye kartaa hun..aapke liye nahee.mujhe maloom hai jab vaqt aayegaa to sabse pehle viewer hi mujhe raddee me phen kar bhaag jaayegaa. to main aapke bharose ke liye kuchh nahee karta...apne bharose ke liye kartaa hun.

Madhumita Nayyar : ‎Ravish Kumar aapke last comment ko super duper like!!

Tulika Singh : Ravish ji apka anil ji se swal acha tha lekin kya aap jante hai apke he channel mai kuch log supertek builder se sataye hue hai but wo apne channel par dikha nahe sakte.aaj sc ka farman aaya tho sub is swal ko utha rahe hai otherwise builder adv ke aage hazaro stories dam thod di hai

Tulika Singh : Zee business ke senior reporter omaxe ke corporat com.ke head ban gaye jahir se baat reporting unki kitni kargar the iska andaza lagaya ja sakta hai.

Tulika Singh : I had done more stories against builder its too diff.story cover karne se pahle onair karane tak boss marketing,md sabka aproval lo.aur last mai agar builder ne malik ko paise offer kar diye.tho mai victim ki nazar mai criminal ban gayi logo ne socha maine paise le liye.wo moment kafi taklif wala tha

Digvijay Singh : sahi hai builders ne media ko bhi apna gulam bana rakha hai

Chandan Bhaskar : ख़ैर आप न डरे तो ही बेहतर है और हां सभी अपने लिए ही कुछ करते हैं। अगर आप उस तरह से सवाल पूछते हैं तो जिसका जवाब देना मुश्किल होता है तो आपका काम भी यही है, इसीलिए आपको तनख्वाह भी मिलती है, अगर आप भी बाकी चिरकुट पत्रकारों की तरह चापलूसू और चाटुकारिता वाला सवाल पूछेंगे तो भी उससे जनता को कोई फर्क नहीं पड़ता...फर्क पड़ता है तो आपकी विश्वसनीयती और साख पर, बाकी इन्हें दांव पर लगाकर पैसा और पूंजी बनाते हैं

Lalit Jayrath : I did watch the prime time yesterday and i have to say that you did tremendous job

Tulika Singh : Kash ravish ji aap ye kam sc ka farman aane se pahle karte kitne victim ko insaf milne mai help ho jati

साभार : फेसबुक


AddThis
Comments (2)Add Comment
...
written by Ambrish, July 22, 2011
bhai agar chand patrakar is tarah ke sawal pocchne ki himmat rakhte hai to baaki kyoun apni maa ko bechne ko tayaar ho jate hain unko nahi pata ki patrkarita ek tapasya hai apne prano ki bhee aahuti dene pad sakti hai per nahi unko to glamour chhaiye kisi bhee keemat pe. jaihind
...
written by k c jha, July 21, 2011
k c jha..... आप कैसे कुछ पत्रकार ही इस तरह का सवाल पूछने का होंसला रखते है. जिससे हम जैसे लोगों को आवाज़ मिल जाती है*

Write comment

busy