भास्‍कर का एक और ब्‍लंडर, सस्‍ती पत्रकारिता का नतीजा

E-mail Print PDF

पत्रकारिता में कितने जिम्मेदार लोग हैं और वे किस जिम्मेदारी से अपनी भूमिका अदा कर रहे हैं, यह जानना बहुत मुश्किल नहीं है. खुद को जनता का हमदर्द और समाज का आईना बताने वाले मीडिया की जिम्मेदारी से वाकिफ कराने के लिए आपके सामने एक उदाहरण रख रहा हूं. यह उदाहरण वेब मीडिया से जुड़ा है. एक ऐसे बड़े संस्थान से जुड़ा है, जो खुद को भारत का सबसे बड़ा समाचार-पत्र समूह बताता है. मैं दैनिक भास्कर की बात कर रहा हूं.

दैनिक भास्कर की वेबसाइट bhaskar.com पर एक समाचार नज़र आया. हैडिंग था- बिपाशा ने मारा सलमान को ताना, मुझे नहीं चाहिए ऐसा 'बॉडीगार्ड'! देखकर अचंभा हुआ, क्योंकि कुछ देर पहले ही नवभारत टाइम्स की वेबसाइट पर पढ़ा था- 'बॉडीगार्ड हो तो ऐसा'. दोनों समाचार एक दूसरे के बिलकुल विपरीत हैं.

अब यकीन किस पर किया जाए? दोनों की बड़े समाचार पत्र समूह हैं. सोचा, क्यों न twitter पर ही इसे परखा जाए. Twitter पर जब बिपाशा बसु का ट्वीट पढ़ा तो भास्कर को झूठा पाया. खैर, गलती किसी से भी हो सकती है, लेकिन पूरी खबर ही उलट हो जाए, यह कैसे संभव है? मेरी समझ से बाहर है. मैंने भी प्रिंट मीडिया में 5 साल तक काम किया है. भास्कर के साथ भी काम कर चुका हूं, पर ऐसी गलती कहीं नहीं देखी.

बिपाशा के twitter पर लिखा- Just saw Bodyguard! Another blockbuster for Salman Khan!It would be nice to have a cute bodyguard like lovely singh!

एक बात और. बिपाशा ने इसे 28 अगस्त को ट्वीट किया (बिपाशा का ट्वीट देखने के लिए उपर के फोटो पर क्लिक करें). नवभारत टाइम्स ने 29 अगस्त पर साइट पर डाला. भास्कर ने 30 अगस्त को. दो दिन बाद आप समाचार दे रहे हैं और वह भी बिलकुल गलत. कुछ नहीं हो सकता!!!

जाहिर है, आज समाचार पत्र समूहों को बिजनेस से ज्यादा और कुछ नहीं चाहिए. बिजनेस कम नहीं होना चाहिए, समाचार चाहे गलत छप जाएं. एक कारण यह भी है कि सस्ते से सस्ते पत्रकार रखे जा रहे हैं. उन्हें न तो समाचार की समझ है और न ही उसे लिखने का तरीका. सभी की बात नहीं कर रहा, पर ज्यादातर ऐसे ही हैं. पत्रकारों को 10 हजार रुपए भी बा‍मुश्किल सैलरी मिल पाती है. ज्यादातर पत्रकार 5 हजार के आसपास रहते हैं. ऐसे में उनसे क्वालिटी की उम्मीद बेमानी ही होगी.


भास्‍कर की वेबसाइट से लिया गया समाचार-  बिपाशा ने मारा सलमान को ताना, मुझे नहीं चाहिए ऐसा 'बॉडीगार्ड'! नीचे पूरी खबर-

बिपाशा ने मारा सलमान को ताना, मुझे नहीं चाहिए ऐसा 'बॉडीगार्ड'!

Source: Vaibhavi Risbood   |   Last Updated 11:53 AM (30/08/2011)

आजकल बॉलीवुड में एक शब्द सबसे ज्यादा सुनाई दे रहा है और वह है 'बॉडीगार्ड'। वहीं टॉप की एक्ट्रेसेज भी अपने-अपने हिसाब से बॉडीगार्ड को प्रिफर कर रहीं हैं। हालांकि ब्लैक ब्यूटी के नाम से मशहूर बिपाशा बसु खुद को लेकर कांफिडेंट हैं। उनका दावा है कि उन्हें किसी बॉडीगार्ड की जरूरत नहीं है।

ऐसा कहकर बिपाशा क्या सलमान पर ताना मार रहीं हैं। इस सवाल के होने के पीछे कारण भी हैं क्योंकि आजकल सलमान खुद को अपने साथ काम करने वाले हर कॉ-स्टार्स के बॉडीगार्ड के रूप में दिखा रहे हैं। खैर इसका सही जवाब तो बिपाशा के पास ही है।

जब बिपाशा से यह सवाल किया गया कि वह किसे अपने बॉडीगार्ड के तौर पर आइडल मानती हैं तो बिपाशा ने कहा, "मैं नहीं मानती कि मुझे बॉडीगार्ड की जरूरत है।"

आपको बता दें कि इस ब्लैक ब्यूटी ने राज 3 में अपना जादू चलाने की पूरी तैयारी कर ली है और आगे भी भट्ट कैम्प के साथ काम करने की जुगत में लगी हुईं हैं।

लेखक मलखान सिंह पत्रकारिता से जुड़े हुए हैं. यह लेख उनके ब्‍लॉग दुनाली से साभार लेकर प्रकाशित किया गया है.


AddThis
Comments (3)Add Comment
...
written by shiv thakur, September 01, 2011
bhai bhaskar jo v kar de sab sahi hai...........
...
written by sanjay , August 31, 2011
ye galat baat hai
...
written by jairam, August 31, 2011
Bakwaas hai yae sab...Malkhan jaisay logon kay paas koi kaam dhanda nahi hai ..gadhay kahin kay...

Write comment

busy