भड़ास4मीडिया पर वायरस अटैक

E-mail Print PDF

अब सब ठीक है : भड़ास4मीडिया पर कल सुबह जोरदार 'वायरस' अटैक हुआ. ये सर्दी-जुकाम वाले वायरस नहीं बल्कि साइबर दुनिया के वायरस थे, जो जाने कब किसके इशारे पर अचानक हमला कर देते हैं. दरअसल परसों शाम इस पोर्टल को अपग्रेड करने के लिए कई तकनीकी कार्य किए गए थे. इसी दौरान किन्हीं गल्तियों-चूक की वजह से पोर्टल के अंदर के तंत्र में कुछ ऐसी खिड़कियां खुली रही गईं जिसके जरिए अपग्रेडेशन का काम तो किया गया पर इन्हें बंद करना भूल गए. नतीजा यह हुआ कि खूंखार वायरस भाइयों ने अपने कुनबे के साथ प्रवेश पा लिया.

फिर तो सुबह होते-होते तक इनका संजाल पूरे भड़ास4मीडिया के आंतरिक तंत्र के हर कोने-अंतरे तक में फैल गया. दोपहर तक वायरस हटाने का काम दुरुस्त कर लिया गया था लेकिन ये वायरस भस्मासुर कैटगरी के थे जो हटाने पर फिर-फिर पैदा हो जाते. दोपहर बाद आखिरी उपाय करते हुए पुराने डाटाबेस को बैकअप से निकाल कर अपलोड किया गया और वायरस संक्रमित डाटाबेस को डिलीट किया गया. पुराना डाटाबेस अपलोड करने के दौरान भी कुछ तकनीकी दिक्कतें आईं पर इन्हें कुछ घंटों में दुरुस्त कर लिया गया. यह सब करते-कराते रात के दस बज गए.

बावजूद इसके, गूगल बाबा की ओर से साइट में वायरस अटैक होने की दी जाने वाले चेतावनी जारी है. इस चेतावनी को खत्म करने के लिए गूगल बाबा से अनुरोध कर दिया गया है. उनकी टीम जल्द ही साइट की रिव्यू करने के बाद चेतावनी वापस ले सकती है. तब तक अगर आपके कंप्यूटर में इस साइट को खोलने पर वायरस अटैक होने या कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाने की कोई चेतावनी मिल रही हो तो भी आप उसे अनदेखा / इगनोर करके साइट खोल सकते हैं.

यह वेबसाइट कई घंटों की मेहनत-मशक्कत के बाद अब पूरी तरह सुरक्षित हो चुकी है और अपने पुराने स्वरूप में वापस आ चुकी है. वेबसाइट को दुरुस्त करने में हमारे तकनीकी साथी राकेश और मनोज ने काफी मेहनत की, जिसके लिए हम सभी उनके शुक्रगुजार हैं. वेबसाइट की गड़बड़ी के दौरान देशभर से फोन आए और लोगों ने साइट के न खुलने या वायरस संक्रमित होने या साइट खोलने पर कुछ और दिखने की बात कही.

इन सभी लोगों के फोन अटेंड करते-करते मुझे अहसास हुआ कि भड़ास4मीडिया ने दो वर्ष से भी कम समय में पूरे देश में पत्रकार समुदाय को एक सूत्र में पिरोने का काम अंजाम दे दिया है. भड़ास4मीडिया के स्वास्थ्य के प्रति आप सभी लोगों की चिंता से जाहिर होता है कि यह पोर्टल मीडियाकर्मियों के जीवन का एक हिस्सा बन चुका है.  उम्मीद करते हैं कि वेब तकनीकी के विशेषज्ञ साथी भड़ास4मीडिया की बेहतरी के लिए उचित सुझाव हम लोगों को देंगे.

-यशवंत


AddThis