सरोगेट मदर की कहानी है 'लाइफ एक्सप्रेस'

E-mail Print PDF

स्काई मोशन पिक्चर द्वारा निर्मित और उभरते निर्देशक अनूप दास की फिल्म 'लाइफ एक्सप्रेस' 27 अगस्त को रिलीज होने वाली है.'लाइफ एक्सप्रेस' कहानी है एक शहरी शिक्षित जोड़े तन्वी और निखिल की, जो इस तेज रफ़्तार जिन्दगी में सफलतापूर्वक अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं. वो अपनी-अपनी जिन्दगी में इस इस कदर व्यस्त हैं कि उन दोनों के पास एक दूसरे के लिए भी समय नहीं है.

दोनों अपने-अपने कार्य क्षेत्र में शिखर पर पहुंचना चाहते हैं. दोनों को बच्चे की चाह है, पर समय नहीं है. फिर भी तन्वी प्रेग्नेंट हो जाती है. तभी उसे तरक्की का एक सुनहरा अवसर मिलता है और वो अपनी तरक्की को तरजीह देते हुए एबोर्शन करा लेती है बिना अपने पति को बताये हुए. ऐसे तनाव भरे माहौल और समयाभाव में दोनों निर्णय लेते हैं 'किराए की कोख का'. यह कहानी मोहन और गौरी की भी है, जो शहर की हलचल व शोर से दूर, घोर गरीबी का जीवन बिता रहें हैं.

इसके अलावा यह कहानी है वैज्ञानिक अविष्कार, लालच, स्वास्थ्य और मानवीय भावनाओं के व्यापार की. जिन्दगी की इस हकीकत को निर्देशक अनूप दास ने बहुत ही ख़ूबसूरती से दिखाया है अपनी इस फ़िल्म में. निर्माता संजय कलते की इस फ़िल्म में रितुपर्ना सेनगुप्ता, दिव्या दत्ता, किरण झंनजानी, यशपाल शर्मा, अलोक नाथ, नंदिता पुरी आदि हैं. फ़िल्म में संगीत दिया है रूप कुमार राठोर ने व गीत लिखे हैं शकील आज़मी ने.


AddThis