कॉमनवेल्थ झेल - द काली पट्टी कैंपेन

E-mail Print PDF

: यह 'खेल' हम नहीं 'झेल' सकते : कॉमनवेल्थ गेम्स के नाम पर हो रही लूट-खसोट और करप्शन का विरोध करने के लिए कुछ जागरूक नागरिकों और पत्रकारों ने एक पहल की है। इस पहल को नाम दिया गया है- ''कॉमनवेल्थ झेल - द काली पट्टी कैंपेन''। कैंपेन से जुड़े लोग एक अभियान चलाकर कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान काली पट्टी बांधकर सरकार को अपना विरोध जताना चाहते हैं। उनकी योजना है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस अभियान से जोड़ा जाए ताकि सरकार के लिए यह बड़ा एंबैरेसमेंट हो।

इस आनलाइन कम्युनिटी से जुड़े लोग बताते हैं कि इस सांकेतिक अभियान के जरिए वह सरकार को झकझोर कर यह बताना चाहते हैं कि जनता की आंखों पर पट्टी नहीं बंधी है। ये लोग गेम्स का विरोध नहीं कर रहे बल्कि गेम्स के नाम पर हो रही धांधली और घोटालों का विरोध कर रहे हैं।

एक निजी संस्थान में आईटी हेड के पद पर कार्यरत और इस कम्युनिटी में सक्रिय भूमिका निभा रहे के. बडथ्वाल कहते हैं, 'पहली बार एक ऐसा अभियान चलाया जा रहा है जिसके साथ जुड़ना आम आदमी के लिए बेहद सरल है और हर जागरूक नागरिक को इससे जुड़ना चाहिए। जबर्दस्ती हम पर थोपे गए इन खेलों को हम झेलना नहीं चाहते।' फिलहाल, फेसबुक पर बनाई गई इस कम्युनिटी से 450 से ज्यादा लोग जुड़ चुके हैं जिनमें कई जाने-माने पत्रकार भी शामिल हैं।

फेसबुक पर इस कम्युनिटी के जरिए कॉमनवेल्थ गेम्स की 360 डिग्री कवरेज मिल रही है। यहां अलग-अलग अखबारों और न्यूज़ चैनलों में गेम्स से जुड़ी हर अच्छी-बुरी खबर, ब्लॉग, कार्टून, तस्वीरें और विचार का समायोजन किया गया है। कम्युनिटी जॉइन करने के लिए कोई शर्त नहीं है और सिर्फ इस पेज पर जाकर like बटन दबाकर आप इससे जुड़ सकते हैं और अपनी राय या विचार सबके साथ बांट सकते हैं। इस कम्युनिटी से जुड़ने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं...  कॉमनवेल्थ झेल - द काली पट्टी कैंपेन


AddThis
Comments (1)Add Comment
...
written by amit rai, August 24, 2010
i m agree with bove all statement
the goverment must shame on himself
and on his ministers

Write comment

busy