क्‍या यही है इंटरनेट पत्रकारिता?

E-mail Print PDF

अजय मोहन: रेप को बना डाला पोर्न! : मैंने जब इंटरनेट पत्रकारिता में कदम रखा तो पता चला कि दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने बड़े-बड़े फिल्‍टर लगाकर सेक्‍स, पोर्न, न्‍यूड फोटो, आदि पर नियंत्रण कसा, लेकिन आज यही गूगल अपनी न्‍यूज साइट गूगल समाचार पर सेमी पोर्न कंटेंट को प्राथमिकता दे रहा है। मतलब, जिनमें जितनी अधिक अश्‍लील तस्‍वीरें होंगी, उन्‍हीं को वो प्रमुखता से परोसेगा।

खैर ये तो रही इंटरनेट के मास्‍टर की बात, लेकिन उनका क्‍या करें, जो अपने-आपको इंटरनेट का पत्रकार बताते फिर रहे हैं। ज्‍यादा से ज्‍यादा क्लिक्‍स पाने के लिए पत्रकारिता की धज्जियां उड़ा रहे हैं। या फिर यूं कहिये खबर की गंभीरता देखने के बजाए, वो उसमें अश्‍लीलता ढूंढ़ रहे हैं। अगर अश्‍लील शब्‍द भी मिल जाए तो उसे तुरंत परोस देंगे और अगर भूले भटके अश्‍लील फोटो मिल गया तब तो क्‍या कहने।

मैं यहां पर एक उदाहरण देना चाहूंगा एक कथित न्‍यूज़ वेबसाइट का। कथित इसलिए क्‍योंकि जो समाचार की गंभीरता न समझे वो 'न्‍यूज वेबसाइट' हो ही नहीं सकती। मैं यहां साइट का नाम नहीं लिखना चाहता। आप इस साइट का कलेवर तस्‍वीर में देख खुद पहचान जाएंगे। यहां बलात्‍कार की खबर है, जिसमें फोटो किसी पोर्न साइट से लेकर लगाया गया है।

मैं वेबसाइट के संपादक से पूछना चाहूंगा कि वो बलात्‍कार की खबरें एक गंभीर अपराध की खबर के रूप में लिखते हैं, या मौज-मस्‍ती की खबरों के रूप में। इस खबर में टेक्‍स्‍ट के बीच लिंक दिए गए हैं- हॉट एण्‍ड सेक्‍सी मॉडल्‍स के सेक्‍सी फोटो देखें, सेक्‍स टॉय के सबसे बड़े बाजार चीन में कम सेक्‍स क्‍यों कर रहे हैं कपल्‍स, देखें सेक्‍सी फोटो, अमेरिकन पॉर्न स्‍टार ऑड्रे बितोनी के गरमागरम सेक्‍सी फोटो देखें।

मैं यहां सिर्फ कुछ सवाल उठाना चाहूंगा-

1. यौन अपराधों की खबरें क्‍या पोर्न से जुड़ा कंटेंट मात्र है?

2. इस तरह की फोटो लगाकर क्‍या आप भारतीय पत्रकारिता पर दाग नहीं लगा रहे हैं?

3. क्‍या इंटरनेट पर आते ही पत्रकारिता की गंभीरता खत्‍म हो जाती है?

4. क्‍या ये सब कर हम इंटरनेट के पत्रकार प्रिंट मीडिया के सामने सिर उठाकर चल सकेंगे

5. क्‍या गूगल को यह सब नहीं दिखाई देता

मैं उम्‍मीद करता हूं हिन्‍दी न्‍यूज वेबसाइटों के पत्रकार इन प्रश्‍नों के जवाब अपने मन में जरूर सोचेंगे।

लेखक अजय मोहन वनइंडिया (हिन्‍दी) के बेंगलुरू आफिस में वरिष्‍ठ उपसंपादक के रूप में कार्यरत हैं.


AddThis
Comments (8)Add Comment
...
written by Ajay Mohan , November 16, 2010
Site ka name jaanna bahut aasaan hai, Google news mein jaakar is website ki headline- दिल्‍ली युनिवर्सिटी की 19 वर्षीय छात्रा का सामूहिक बलात्‍कार copy kar paste kar dijiye. Aap khud website se waqif ho jayenge.
...
written by Ravinder Singh, November 15, 2010
mitro ye news web site ...... hai merikhabar.com.... is par aam nagrik patrkar ki bhumika nibha rha hai..... karib 20 se 25 hazar tak citizan journalist is site par apni khabasr uplode karwa skta hai.... yani ki patrkar aam nagrik hai..... or kaam karne wale ....pta nhi patrkar hai bhi ya nhi....
...
written by David lakra, November 15, 2010
Mr.Ajay accha hota ki agar aap is site ka naam bhi ujagar karte jo ki patrakarita ki garima ko bhang karte hai kam se kam aise logo ka naam to samne aana chaiye .
...
written by kumar harsh, November 14, 2010
very good ajai. good question.
...
written by Raman, November 13, 2010
बेहतर होता अगर आप साइट का नाम भी बता देते। ताकि लोगों को ऐसा काम करने वाली साइट के बारे में पता चलता और इस साइट के संपादक महोदय के कृत्‍यों के बारे में अन्‍य लोगों को भी पता चलता। इससे साइट के कर्ता-धर्ताओं पर दबाव भी बनता। खैर, वे लोग तो समझ ही गये होंगे जिनकी यह साइट है। प्रभु उन्‍हें सद्धबुद्धि दे।
...
written by jayram , November 12, 2010
isko nude website kahiye aur andajan ye navbharat hi hoga .
...
written by Bhanu, November 12, 2010
आपने अच्‍छा मुद्दा उठाया है। साइट के नाम से मैं भी परिचित हूं, लेकिन आपकी 'न्‍यूज साइट' की परिभाषा से सहमत होते हुये नाम न लेने का ही फैसला कर रहा हूं। यहां गलती न्‍यूज डालने वाले पत्रकार से ज्‍यादा संपादक की कही जायेगी, आखिर हर ख़बर के लिये नैतिक और कानूनी रूप से वही उत्‍तरदायी है। भगवान इनको अक्‍ल बख्‍शे।
...
written by Ravi Thakur, November 11, 2010
Namshkar Ajay ji ....mai Ravinder Singh Haryana se ......sahi kaha Apne.... web journalism karne wale jadatar yuya patrkar hote he....pahle internet ko log keval mouz masti ya porn site ke liye jada dekha karte the..... shayad ussi chiz ko web journalist khabro me istemaal karne lage hai....jo patrkarita ke liye khatra hai..... jarurat hai...ki cantent or samacharo ko bajay mirch masala lagane ke unki gambhita ko adhik darshya jaye.... aap ke liye shubhkamnaye....

Write comment

busy